Khidki Humari Funny Kahani Contest – Come On Sony SAB TV

Fill the form ans share your Funny story by Audio, video, pictures and chance to come on KHIDKI Show on sab TV Channel. If you are interested and have dream and chance to win prize.

Apni Funny Kahani Sunao Sony Sab TV Pe Aao | Participate And Win

Apni funny kahani Sunao Sony sab TV pe aao contest is hosted by the SAB TV. Js register with valid information and upload your funny story by audio, video, image, and chance to come on sab Tv. You can fill the application for like your name, Email Id, Contact Number, Address, city and upload your funny kahani and last submit form. This contest is the platform that wants come on TV. By this contest you can come on show KHIDKI Show. You can also fill form and come on KHIDKI Show by click here Link:-


http://www.sabtv.com/hfk/register.php

This contest is announced on 20 March 2016. funny kahani contest is very interesting. Just read the rules of contest on click here http://www.sabtv.com/hfk/Humari_Funny_Kahani_Contest.pdf . All interested and eligible candidates participate here and chance to win.

210 thoughts on “Khidki Humari Funny Kahani Contest – Come On Sony SAB TV

  1. Dinesh Somani

    Once upon a time I was coming down from a lift there were few people and one lady she tell that your zip is open. I saw my pant zip but it was closed.She again tell that your bag zip is open and all were laughing loudly.

    Reply
  2. Dinesh Somani

    funniest incidence of my life.All were laughing

    Reply
  3. Mansi Hareshbhai Khakhi

    Ek baar Mai Aur meri family DU ko ghumne ke liye Gaye the waha pe Hum Garden Mai Ghum rahe the uske baad HimE chal Car Museum Tak Jaana Tha Hum Raste Pe Chal rahe the mere Mummy aur papa chalte chalte aage nikal gai.Me aur mera chhota bhai pichhe masti kate hue ja rahe the..Hum chlte chlte bahut thak gaye the ..Mene mere bhai ko kaha ki jo bhi bike chlata huaa dikhe us ko rok kar hum beth jaenge..Bad me ek uncle aaye mere bhai ne us uncle ko roka aur bina bataye beth gaya aur kaha ki muje aage tak chhod do..vo aur uncle chle gae..me udher hi bethi rahi..mera idea aur muje hi lena bhul gaya. Aur muje chal kar jana pada .aas pas ke log jo hame dekh rahe the wo aur mere mummy papa bhi hans rahe the..

    Reply
    1. Prince

      Not so good bekaar

      Reply
    2. chetan aggarwal.

      Funny kahani.

      Reply
  4. ishaank

    Hii mai ishaank. I love my india.
    Punjab for fighting
    Bengal for writing.
    delhi for duty’
    Mysore for silk.
    Haryana for milk
    Assam for tea lieaves.
    Kerala for weaves
    Himachal for apples.
    tamilnadu for temples
    Madhya pradesh for tribes.
    Goa for curches and sand
    North for languages
    south for dances

    Reply
    1. aditya

      aap st. francis mei parte ho

      Reply
  5. ishaank

    Why Not a Girl
    people pray for a baby
    not a baby girl
    they desire a boy
    Not a girl

    Reply
    1. khushi bhonde

      it is not funny but it is nice!

      Reply
  6. Kunusaini

    Mana ek din kara kya mere papa na kha khi thum sabzi laana jao

    Reply
  7. Pratham

    Someday 2 women reached hell, and satan asked why u 2 are here?
    Lady: I died because of blood pressure
    Satan: how
    Lady: I thought my husband is in a affair with someone so I decided to move to my mother’s house but I realize that I will go back I reached home at afternoon same day and started searching in home for someone I couldn’t found anyone
    Satan: so how did u died
    Lady : as I didn’t found anyone I though what my husband will think that I always keep spying on him in. And in that I died because of bp
    Satan: ooh ok! And what about u (second lady)
    Second lady: I died because of cold
    Satan: how?
    Second lady: because of her (first lady) I was hiding in her refrigerator for long time her husband put me there because he was afraid of his wife. if she (first lady) would have open the door of refrigerator would been alived and be done there
    Satan: hahahahahahahahahahahaha ???
    First lady:? ???

    Reply
  8. Devendra kamble

    audition to sub tv

    Reply
    1. Jyoti G Thawani

      Ek bhar maire school mai openday tha tph sirf hamare class mai hi accouncement nhi hua tha next day pe teacher ne pucha kis kis ke parents aahegey toh sabne bola kyu …? Toh teacher ne bola aaj Openday h na…Toh sabne bola hamare class mai accounce nhi hua h …Toh teacher ne bola ki jid jis ke parents aa sakte h vo aapne parents ko call karke bulaho…Tabhi maire Ek friend ne dusare friend se pucha parents ke saath humko bhi aana h kya …? Tabhi dusare friend ne small n Funny aavaj mai bola ki agar hum nhi aahegey toh parents result deekh kar dataigey kisko …???

      Reply
  9. Devendra kamble

    Hii mai ishaank. I love my india.Punjab for fightingBengal for writing.delhi for duty’Mysore for silk.Haryana for milkAssam for tea lieaves.Kerala for weavesHimachal for apples.tamilnadu for templesMadhya pradesh for tribes.Goa for curches and sandNorth for languagessouth for dances

    Reply
  10. Asim Amitav Das

    My story is from my school days. I was in a boarding school, which is located on the bank of river Mahanadi.
    Behind our hostel building, there was a huge field where some people used to do farming. they uswd to grow brinjals, punpkins,
    chillies ans watermelons. The brinjal plannts were so huge that an average height guy could easily hide in between those plants.

    Mai aur mere frnds thode shararti the, to humlog mid night me nikal jate the brinjals n chillies churane k liye. churane k baad
    humlog sare sabjio ko ek bade se trunk me pani me soak kar k rakhte the. Aur kabhi mann kare to us brinjal ko aag me roast
    kar k dinner me bachi hui rotio k sath khate the. we used to do the roasting thing inside our room, but nobody caught us for few days.

    We continued doing the same for a week or two. Then one day we were doing the roasting while a junior who was on the upper floor
    saw us doing the roasting, bcoz the flames were so high that he thought our room has caught a fire. So usne jaa k apne superintendent ko bol di.
    Then that superintendent called all other staffs n came to our room, n we got caught that day.
    The next day was a kind of investigation. The staffs n other teachers searched our room n they found around 13kgs of brinjals, a kilo of chillies,
    2 half grown pumpkin n few other veggies. agar aap soch rahe hein ki pumpikin !!! wo bhi half grown. To uska reason ye hai ki hum logo me
    ek adha pagal jaisa frnd v tha jo sirf brinjals se bore ho k ek dinn do pumpkins utha liye, aur bola ki aaj ise roast karnega. Uss dinn hum logo ko
    punishment v mila aur sare sabjio ko uss farmer ko lauta diya gaya. 😛

    I left the hostel in 2007. But aaj bhi hum sab frnds kabhi kabhi jate hein ghumne k liye humare hostel, aur 1k do dinn rukte hein waha.
    To humare teachers bolte hein jaldi so jane k liye, taki wo age se tala daal sake. q ki hum log to wahi hein na jo uss waqt khet se sabjiya churate the.
    Unka kehena hai ki kahin aaj bhi hum log na nikal pade misssion pe. 😀

    That was too much fun, Missing those good old days.
    Hope u guys like my story.

    Reply
  11. Naresh jangir

    एक विधार्थि अपने अध्यापक से पुछता ह कि सर अन्ग्रेजी के सर अन्ग्रेजी मे बात करते ह।
    आप metha के सर हो आपको metha मे बात करो
    तो सर ने बोला 9 2 11 हो जाओ नहि तो मे
    1 2 मार दुन्गा

    Reply
  12. Naresh jangir

    पुलिस के पास एक चोर का आया तो
    पुलिस ने काहा कि कानून के हाथ लम्बे होते है।
    तो एक केदि ने काहा मुझे याहा थपड मारके दिखाओ

    Reply
  13. Avni Sharma

    I was standing with my few friends outside my coaching institute. There came a girl of around 7-8 years of age who asked us for some money. We gave her a Rs. 5 note but she was not satisfied. One of my friend was wearing a ring (topaz studded ring). She saw that and asked her..Ye de do.. ye apko apke love u love u ne di hogi ye de doge to apki jodi jaldi se baan jaegi or apki shadi bhi apke love u se ho jaegi.. Hearing that everyone around us starts laughing.

    Reply
  14. yash jain

    this story is about a joint family who lives in a big house in jaipur. there are six people in the family and each of them have some problems except one of them.the character names are jolly has problems and is the grandmother,santu has problems and is the grand father.jolly and santu are the grandparents of bablu and boogly.jolly and santu are the parents of dantu and dolly.in this family there is always a problem going on and in every problem there is comedy and each problem has their own solution.each member are different from each other. alover this is a comedy show

    Reply
  15. g

    One day I was sleeping. While sleeping I wanted to go to the washroom so I got up and washroom . While going to the washroom I was very sleepy so I did not came to know that the washroom came so I bang the door fell into the toilet.

    Reply
  16. mayur rathod

    Sir. Jay matadi.
    Mere pas ek hindi tv siriyal ki kaha ni he ….joki jodha akbar ki kahani jeshi hi he….or wah kahani 100%chale gi aaj tak kisine shuni bhi nahi he……..jise tv ki bhasha me scrip kehte he
    Me eshe kese aage adahu plz …help me rply plz

    Reply
  17. Versha khatri

    Once it was rainy season and it was about 4:30 and I was sleeping suddenly the sky tunders and I was just fallen from my bed and I was laughing alot on myself

    Reply
  18. Nishad khan

    1 kanjus aurat bimar ti aur raat ka samay ta bijli jhor se kadak rahi ti aur doctor bi unke ghar nahi aa sakta ta us kanjus aurat ne uske pati ko bola ki light nahi aa rahi he chendal jala lo chandal jalane ke baat us kanjus aurat ke pati ne bola ki me doctor ke ghar jakar usse request karta hu ki tumhari tabiyat cheak karne ke leye doctar ghar par aaye to itne me vo kanjus aurat boli ki aagar tumhe lage ki me marne vali to plz chendal band kar dena isse jayada karcha nahi aaye ga

    Reply
  19. Haji inamdar

    yes

    Reply
  20. Rishab prajapati

    Ek bar gaav kaI ek family ek shadhi mai gyi. Shadhi vala gar peso vala tha too bda reception rekha hua tha. Or reception hall kai main get kai ander enter hone se phle veha par fruit or kakedi vegara salad kai liya relha hue the. Too use family kaI ek member nai bola mi mai ander ja ler dekh kai aata hu ki khana bna hai yaa nhi. Too vo jesa he ander gya usne salads cut kiye hue dekh ker vapic aa gya or uski family ko bola ki “abhI tak too sirf sabjI cutting ki hai. Khana bnna abhi tak baki hai”.

    Reply
  21. ashwani

    Comedy serial

    Reply
  22. monu

    M monu .. ak din m ger ki sari lighte chalu chod kanhi jane lga to mere btigi n muje toka or kha chachu bijali of kr dijiye nhi to mere dost k gr bijli nhi aayegi ! Mene pucha kya matlab ? Tab usne btaya ki is bar jab bah gao gyi thi .. to bha light nhi rhti the bijli n hone ka karn friend se pucha too usne btaya ki bijli निधारित matra me banti h pahle sahr fir gao ko multi h ..isliye jo bijali tum bachate hoo bah hme mil jati h ? Btiji ki bat ne muje v soch me dal diya so ab btiji ku es aadat ko mene vi mantr bna liya h …… monu raja beta my cntct no. 8426909630

    Reply
  23. prassanna pare

    ek baar mai mera bada bhai aur uska frnd market mai ghum rhe the bike par, ghumte ghumte hume bhuk lagi to hum 3no ek hotel mai khane chale gaye bhout bhuk lag rhi thi to humne bhout sara order kar diya.. sab ne bade aache se khaya par jab bill aaya to pata chala ki kisi k pass paise to h he nhi. kyo ki mai sab se chota tha is liye bhout worried tha par mera bhai ek dum cool bhetha hua tha, bhai k frnd ne kisi ko phone kiya aur wo baat karte karte hotel k bhar chala gaya.. mere bhai ne tab tk ek aur cold drink order kar di aur m tnsn m bhetha rha ye souch kar ki paise bulwa rhe h bhaiya. phir jo frnd bhar gya tha uska phone mere pass aaya ki tu bhar aa kuch kaam hai ye sun kar m bhi bhar chala gya aur wo frnd jinka call aaya tha wo kuch dur khadhe the mujhe se par itne m piche se mera bhai bhagte huye aarha tha chilate huye bhaiu bhag… bhaiuu bhag.. kuch der to mujhe samjh nhi aaya ki ho kya raha hai par jab thik se dekha to unke piche hotel ka waiter aur staff dur rha tha tb samjh aaya ki bhagna hai… ese sab se aage bhaiya ke frnd unke piche mai mere piche mere bhai unke piche staff bich market m bhagte rhe aur kuch dur k baad hotel wale lot gye… aur kuch der baad dusre frnd ko bulwa kar gari hotel se pick karwa li… mujhe aaj tak wo incident souch k hasi aati hai..

    Reply
  24. vishal kushwaha

    ek ladka ek ladki se puchata hai ki tum etny sunder kyu hoo too ladki ne kaha hame bhagvan ne banaya hai too ladka kahta hai too kya hum internet se peada huye hai

    Reply
  25. Ayan khan

    7068994665

    Reply
  26. Ankit Gupta

    muje kam ka bhahut jarurat he koi kam mere liye he

    Reply
  27. harjiram

    नस्कार मे एक लेखक हु लेकिन मुझे कबी भी किसीने मोका नहीं दिया अपने आप को साबीत करने का मे आठवीं फेल हु फिर भी मेने एक पुस्तक लिखी हे जो हमारे देश के लिये बहुत जरूरी हे मे एक गरीब युवा हु यदि आप चाहे तो ईस पुस्तक की काहनी को टी वी सिरियल बना सकते या फिल्म भी बना सकते हे मेने ईस काहनी को तीनौ तरीके से लिखी हे अब अगर आपको विसवास हो तो सम्पकं करना
    यह काहनी लोगौ मे बदलाव लासकती है
    अपने देश घर के लिये कबी कुछ कर पाउगा
    जय हिन्द ….
    07891758043

    Reply
  28. Gajendra Chouhan

    Roj ki tarah main train se office ja rha tha par ek din aisa hua jise main bhool nhi sakta
    train mai ek khoobsurat ldki bethi jise me dekhta hi rah gya mai sonch hi rha tha ki bah mere paas bethe aur hua hi kuch aisa bah mere paas beth gai.me tirchi nazaron se use dekhta kuch samay bad usne mera taraf dekha aur shock! Rah gai mere se haste huye boli tum kaha gayab ho gaye the itne dino se me mano sapna dekh rha tha par ye sab real tha mene Usse pucha kon ho aap bah boli nhi pahchana me apki school friend kavita mere honsh udd gaye mene bhi jhoot bol diya ki ha pahchaan liya es tarah hum dono mai baatchit hone lagi khoob hasi mazak hui mujhe bahut maze aarhe the. sab train mai bethe log hame hi dekh rahe the. Usne muje apna khana diya dono ne khana sath khaya khana khate hi mujhe joro ki neend aai…
    jab neend khuli to meri wrist watch aur mera samaan sabhi kuch gayab the main sara manjara samaj gaya tha…
    us din ko yaad karke aaj bhi hashi aajati hain…

    Reply
  29. shakeer guru

    Ek baar hamari city ke Ek chohraye par me mere friend ki shop pe shopping karne khada tha.
    Tab vaha ku6 police Vale bhi khade the.
    Thodi der baad Ek safed gadi se Ek aadmi nikla .
    Or police valo ne use pakad liya.
    Par yaha ye kahani khatm nahi Hui.
    Hua yu tha ki vo chahraye pe police valo ko information mili thi ki Ek safed gadi me sarab ki hera feri hone vali he.
    Or jis aadmi ko police NE pakda tha vo bhi ek khufiya police vala tha.
    Or use bhi vahi sarab ki hera feri ki information mili thi magar.
    Police valo ne us khufiya police Vale ko pakda tha us vajah se Jo sarab ki here feri karne Vale the un logo ko pata bhi chal gaya or voh log aaram se vaha se nikal bhi Gaye.
    Or police ki galti se sarab hera feri karne Vale logo ko bahut mamad mil gayi.

    Name: Pathan Shakeer Khan (GURU BHAI) Borsad vala.

    Mobile :-91 997 80 800 25

    Address :- marida bhagol, near sport’s complex, Nadiad. Kheda. Gujarat.
    387 001.

    Reply
  30. shakeer guru

    Truth story :-Ek baar hamari city ke Ek chohraye par me mere friend ki shop pe shopping karne khada tha.
    Tab vaha ku6 police Vale bhi khade the.
    Thodi der baad Ek safed gadi se Ek aadmi nikla .
    Or police valo ne use pakad liya.
    Par yaha ye kahani khatm nahi Hui.
    Hua yu tha ki vo chahraye pe police valo ko information mili thi ki Ek safed gadi me sarab ki hera feri hone vali he.
    Or jis aadmi ko police NE pakda tha vo bhi ek khufiya police vala tha.
    Or use bhi vahi sarab ki hera feri ki information mili thi magar.
    Police valo ne us khufiya police Vale ko pakda tha us vajah se Jo sarab ki here feri karne Vale the un logo ko pata bhi chal gaya or voh log aaram se vaha se nikal bhi Gaye.
    Or police ki galti se sarab hera feri karne Vale logo ko bahut mamad mil gayi.

    Name: Pathan Shakeer Khan (GURU BHAI) Borsad vala.

    Mobile :-91 997 80 800 25

    Address :- marida bhagol, near sport’s complex, Nadiad. Kheda. Gujarat.
    387 001.

    Reply
  31. Daniyal raza

    Hello sir I’m Daniyal raza from Pakistan city Karachi mai ya story Tarak mehta ka ooutha chashma ka derama ka leya lekh raha ho…..Sunday jetha lal Sunday ke khushi ma subha bed par soya hota ha our uth ta ha uth k boll ta ha ajj to mast jalabi phaphda ka nashta karo ga WO sab sa pehla uth ta ha our bazaar nikal par ta ha jalabi phaphda ka leya to sosayeti ma Dog a jata ha WO bhagh ta ha our club house ma ghus jata ha our pool game ka upar khara ho jata ha our dog bhao bhao bhoonk ta ha jetha chila ta ha bachao mehta sab sodhi utna ma bapo ji bahar jata waqt son lety han our jaisa club house ma jata han Dog ko nehi dakh ta dog tab thora chup hota ha phir bapo ji jetha lal ko boll ta han a jetha yahan kia kar raha ha nechay utar Dog bhao karta ha bapo ji ki awaz rouk jati ha shock sa our bhagh ta han sosayti ka beach ma goal goal Bapo ji aga Dog pechay phir jetha club house sa upar khara ho kar bolta ha bapo ji bhago warna ya Dog kat lega phir bapo ji upar club house ma bhag ta han our jetha our bapo ji club house ka gate band kar data han jetha lal bapo ji ko boll ta shukar ha bapo ji ap bach gaye par bapo ji ki to awaz dog ko dakh ka shock ho kar awaz band ho gaye thi bapo ji sirf ishara kar raha tha awaz nehi nikal rahi thi jetha dakh kar bola bapo ji koch bolya bapo ji bolya to koch mujy par bapo ji ke to awaz dog ka shock ki waja sa band ho gaye thi phir jetha na bola bapo ji ap korsi par bathiya mai sodhi mehta saab sab ko phone kar ka bhula ta hon jetha na sab ko call kia our sab bataya par club house ka gate ka bahar dog betha tha to jetha nikal be nehi sakta tha club house sa bahar phir sab sosayti ma jama hota han our sab club house ke tarf jata han to dog un Sab ka pechay bhaag ta ha our sab mehta sab ka ghar ma chup ta han phir jetha lal na mehta sab ko call kia mehta sab bahar kia ho raha ha sab ka chila na ki awaz aye mehta Saab na bola bhai hum sab yaha meiry ghar ma phasa para han ya dog to bohot khatar naak ha jetha lal na bola to ab kia Kara mehta Saab koch idea nikalo our bapo ji ke be halat kharab ho gaye ha WO koch boll nehi pa raha mehta Saab na bola bapo ji KO kia howa phir jetha na sab bataya Jo Jo howa phir mehta Saab na aik idea nikala our police ma call ki chalo panday ko phir WO dog pakar na waly ko lekar ata ha phir WO dog ko pakar lety han phir mehta Saab ka Jo gharma chupa tha chalo panday na sab ko bahar bhula leya Jo mehta Saab ka ghar ma tha sab phir sab club house ma jata han jetha lal ko bolta han bhai gate kholo jetha lal hum han chalo panday na dog ko giriftar kar leya ha bapo ji ishara sa gusa ma ishara karta han ya kia phir mehta Saab na bola meira matlab ha ka dog pakar na walay a gaye han unho na dog pakar leya ha phir jetha lal gate khuol ta ha club house ka phir bapo ji ka pass bhag ta han chacha ji ya sab kia ho gaya phir bapo ji koch boll nehi raha tha phir jetha na WO sab bataya Jo Jo howa sab KO phir Doctor hathi sa pocha ab kia Karna hoga hathi bhai Doctor hathi na sab cheak kia bola sab normal ha to phir jetha na bola ab kia kara hathi Bhai to hathi Bhai na bola ka aik Doctor han meiry khas dost mai un sa baat karta hon phir doctor hathi ko un ka dost na sab koch bataya phir doctor hathi na sirf jetha lal our mehta Saab ko bataya ka chacha ji ke awaz jis ki waja sa gaye ha us ki waja sa wPis a sakti ha hathi na bola phir sa hum dog ko chacha ji ka pechay bhagaye ga to us sa chacha ji ki awaz wapis a jaye gi to Saab ko ya baat bataye our bapo ji ko nehi bola bapo ji ko bola hathi bhai ka dost doctor WO a raha han ap char pa chalya phir ghar pa dog ko rasi band ka bapo ji ka pechay bhaga ta han to bapo ji bhag ta han our awaz a jati ha phir dog ko pakar lety han our bapo ji awaz a jati ha sab khush hota han our sab apnay apnay ghar chalay jata han. ……..story the End . Meri story tarak mehta ka ooulta chashma ka leya ap muj sa rapta kary apko our story donga and sab ka jitna drama shows han sab agar meri is kahani sa intres han to our be achi achi kahani apko mila ge .my Facebook I’d. [email protected] my gmail [email protected] my contact 03433600205 whatsapp on ha. My

    Reply
  32. Daniyal raza

    Contact me story apka leya ready ha 03433600205.whatsapp on. Ha Daniyal raza

    Reply
  33. vicky gupta

    एक बार मुल्ला नसरुदीन को प्रवचन देने के
    लिए आमंत्रित किया गया . मुल्ला समय से
    पहुंचे और स्टेज पर चढ़ गए , “ क्या आप जानते
    हैं मैं क्या बताने वाला हूँ ? मुल्ला ने पूछा .
    “नहीं ” बैठे हुए लोगों ने जवाब दिया .
    यह सुन मुल्ला नाराज़ हो गए ,” जिन
    लोगों को ये भी नहीं पता कि मैं क्या
    बोलने वाला हूँ मेरी उनके सामने बोलने की
    कोई इच्छा नहीं है . “ और ऐसा कह कर वो
    चले गए .
    उपस्थित लोगों को थोड़ी शर्मिंदगी हुई
    और उन्होंने अगले दिन फिर से मुल्ला
    नसरुदीन को बुलावा भेज .
    इस बार भी मुल्ला ने वही प्रश्न दोहराया
    , “ क्या आप जानते हैं मैं क्या बताने वाला
    हूँ ?”
    “हाँ ”, कोरस में उत्तर आया .
    “बहुत अच्छे जब आप पहले से ही जानते हैं तो
    भला दुबारा बता कर मैं आपका समय क्यों
    बर्वाद करूँ ”, और ऐसा खेते हुए मुल्ला वहां
    से निकल गए .
    अब लोग थोडा क्रोधित हो उठे , और
    उन्होंने एक बार फिर मुल्ला को आमंत्रित
    किया .
    इस बार भी मुल्ला ने वही प्रश्न किया ,
    “क्या आप जानते हैं मैं क्या बताने वाला
    हूँ ?”
    इस बार सभी ने पहले से योजना बना रखी
    थी इसलिए आधे लोगों ने “हाँ ” और आधे
    लोगों ने “ना ” में उत्तर दिया .
    “ ठीक है जो आधे लोग जानते हैं कि मैं
    क्या बताने वाला हूँ वो बाकी के आधे
    लोगों को बता दें .”
    फिर कभी किसी ने मुल्ला को नहीं
    बुलाया !
    —————————–
    Mulla Nasruddin Story
    2: मुल्ला बने कम्युनिस्ट
    एक बार खबर फैली की मुल्ला नसरुदीन
    कम्युनिस्ट बन गए हैं . जो भी सुनता उसे
    आश्चर्य होता क्योंकि सभी जानते थे की
    मुल्ला अपनी चीजों को लेकर कितने
    पोजेसिव हैं .
    जब उनके परम मित्र ने ये खबर सुनी तो वो
    तुरंत मुल्ला के पास पहुंचा .
    मित्र : “ मुल्ला क्या तुम जानते हो
    कम्युनिज्म का मतलब क्या है ?”
    मुल्ला : “हाँ , मुझे पता है .”
    मित्र : “ क्या तुम्हे पता है अगर तुम्हारे
    पास दो कार है और किसी के पास एक
    भी नहीं तो तुम्हे अपनी एक कार देनी
    पड़ेगी ”
    मुल्ला : “ हाँ , और मैं अपनी इच्छा से देने के
    लिए तैयार हूँ .”
    मित्र : “ अगर तुम्हारे पास दो बंगले हैं और
    किसी के पास एक भी नहीं तो तुम्हे
    अपना एक बंगला देना होगा ?”
    मुल्ला : “ हाँ , और मैं पूरी तरह से देने को
    तैयार हूँ .”
    मित्र :” और तुम जानते हो अगर तुम्हारे
    पास दो गधे हैं और किसी के पास एक भी
    नहीं तो तुम्हे अपना एक गधा देना पड़ेगा ?”
    मुल्ला : “ नहीं , मैं इस बात से मतलब नहीं
    रखता , मैं नहीं दे सकता , मैं बिलकुल भी
    ऐसा नहीं कर सकता .”
    मित्र : “ पर क्यों , यहाँ भी तो वही तर्क
    लागू होता है ?”
    मुल्ला : “ क्योंकि मेरे पास कार और बंगले
    तो नहीं हैं , पर दो गधे ज़रूर हैं .”
    ——————————
    Mulla Nasruddin Story 3: मुल्ला
    और पड़ोसी
    एक पड़ोसी मुल्ला नसरुद्दीन के द्वार पर
    पहुंचा . मुल्ला उससे मिलने बाहर निकले .
    “ मुल्ला क्या तुम आज के लिए अपना गधा
    मुझे दे सकते हो , मुझे कुछ सामान दूसरे शहर
    पहुंचाना है ? ”
    मुल्ला उसे अपना गधा नहीं देना चाहते थे ,
    पर साफ़ -साफ़ मन करने से पड़ोसी को ठेस
    पहुँचती इसलिए उन्होंने झूठ कह दिया , “
    मुझे माफ़ करना मैंने तो आज सुबह ही अपना
    गधा किसी उर को दे दिया है .”
    मुल्ला ने अभी अपनी बात पूरी भी नहीं
    की थी कि अन्दर से ढेंचू-ढेंचू की आवाज़
    आने लगी .
    “ लेकिन मुल्ला , गधा तो अन्दर बंधा
    चिल्ला रहा है .”, पड़ोसी ने चौकते हुए
    कहा .
    “ तुम किस पर यकीन करते हो .”, मुल्ला
    बिना घबराए बोले , “ गधे पर या अपने
    मुल्ला पर ?”

    Reply
  34. vicky gupta

    Pappu ko na milta tha aaram,
    office me karta kaam hi kaam,
    Pappu ke boss bhi the bade
    cool,
    Promotion ko har baar jate
    bhul,
    par bhulte nahi the wo
    deadline,
    kaam to karwate the roz till
    nine,
    Pappu bhi banana chahta tha
    best,
    isliye to wo nahi karta tha rest,
    din raat karta wo boss ki
    gulami,
    Appraisal ke ummid main deta
    salami,
    din guzre aur guzre fir saal,
    bura hota gaya pappu ka haal,
    pappu ko ab kuch yaad na
    rehta tha,
    galti se biwi ko behanji kehta
    tha,
    aakhir ek din Pappu ko samaj
    aya,
    aur chod di usne appraisal ki
    moh maya,
    boss se bola,”tum kyon satate
    ho?”
    ”appraisal ke laddu se buddu
    banate ho”
    ”promotion do warna chala
    jaunga”
    ”appraisal dene par bhi wapas
    na aaunga”
    Boss hass ke bola ”nahi koi
    baat”
    ”abhi aur bhi pappus hai mere
    paas”
    ”yeh duniya pappuon se bhari
    hai”
    ”sabko bas aage badhne ki
    padi hai”
    ”tum na karoge to kise aur
    karaunga”
    ”tumhari tarah ek aur pappu
    banaonga”

    Reply
  35. vishal kushwaha

    Ek ada or ek pada tha wah dono train main jate hai too pada train se niche nasta ke liye utarta hai too train chal padti hai too ada bolta hai pada samne ek mushal maan hoti hai wah kahti hai alla kasham maine nahi pada

    Reply
  36. vishal kushwaha

    teen ladke hote hai ek bolta hai mere pappa eshi bike chalate hai ki road par aag lag jati hai,dushra bolta hai mere mammy esha bartan dhoti hai ki ek mahine tak chamakte hai,teshra bolta hai mere pappa esha padte hai ki chadda phat jata hai
    my contect no:7096413546

    Reply
  37. vishal kushwaha

    ek english admi hota hai ek gujarati bhudhi hoti hai english admi bolta hai this is a mango too wah bhudhi bolti hai taro papaa no lengo
    my contect no:7096413546

    Reply
  38. vishal kushwaha

    ek english admi hota hai ek gujarati bhudhi hoti hai english admi bolta hai this is a mango too wah bhudhi bolti hai taro papaa no lengo

    Reply
  39. Haji inamdar

    San TV support

    Reply
  40. Haji inamdar

    try to Sab TV

    Reply
  41. Rameshwar Chouhan

    Eshwariy ghatnaye kuch bhi kar sakti he, patthar me bhi phool khila sakti, registhan me thande pani ka jharna baha sakti, Ek mahashay jo sabse jyada apne-aap ko hi samjdar mante. Ek bar vo khet me neem ke ped ke neeche so rahe the, unko vichar aaya ki God bevkoof he, neem ke etne bade ped pe itna chota sa fal or itni kamjor bel pe itna bada tarbooj (water melon). tabhi uski nak ke upar neem ka kachha fal gira to use jordar chot lagi, kafi der tak hath se mala, fir bola God nhi main hi bevkoof hu, agar itna bada tarbooj sir pe padta to meri kya halat hoti ?
    fir jab vo bajar se nikla to uske sir pe kouve ne beet kar di, vo banda Eshwar ko dhanywad dekar bhagwan ka gun-gan karne laga, kafi bheed ho gyi sabne kaha bhale aadmi Ek to kouve ne beet ki tumhare sir pe or bhagwan ko dhanywad kyu ?
    usne kaha bhai sab hathi ko bhagwan ne pankh nhi diye varna………
    “sach he bhagwan hi…..”

    Reply
  42. abhishek gautam

    एक कुकर और कडाई हौती ह
    तौ कुकर बौलता ह
    तू कितनी काली ह
    तो कडाई बौलती ह
    तो फिर मुझे देख कर सिट्टी काई के लिय मारता ह।

    Reply
  43. abhishek gautam

    mera number
    9928721570

    Reply
  44. abhishek gautam

    Whats app par par bhi hoon

    Reply
  45. Atul Kumar singh

    jb m chota tha tb vacation m gao jaya krta tha or khub msti kiya krta tha jaise cow ko marna stick se or fir meri dadi muje marne k liye mere piche dodti ek bar hum sare bacho ne mil kr ghr m ek bde se tree k niche jhula bandda or jhulne lge but problem yeh thi ek bar m ek hi jhulta tha fir mere mne ldki ka fatta lga diya fir do jhulte the fir mne socha esa kya kru jisse sare bache ek sath jhul sake fir mne char pai hi lga di jhule m or sare bache khub jhulle tbhi meri dadi aa gyi or sare bache utar k bhage or char pai wahi latki rh gyi….. aaj bi yaad kr k bhut hasi aa jati h kyunki engineer wala dimag jada hi lga liya tha..

    Reply
  46. vishal kushwaha

    ek helicopter hota hai
    ush mai teen admi hote hai
    ek american hota hai
    dushra pakishtani hota hai
    teshra indian hota hai
    american apna mobil fhek deta hai,vah bolta hai hamare waha mobile ke kame nahi hai,
    pakishtani apna shawl fhek deta hai wah kahta hai hamare yaha shawl ki kami nahi hai,
    teshra un dono ko fhek deta hai,wah kahta hai hamare waha eshe logo ki kame nahi hai

    hello sir,
    my mobile no:7096413546
    add:A106/Rangoli nagar,narol,Ahmedabad,Gujarat 382405

    Reply
  47. Rishabh yadav

    Do dosto ki funny story
    Do dost hote hai mohan shohan ek ki biwi goongi or ek ki biwi hakli hoti mohan sohan se kheta hai ki tu yar mere kabhi ghr par nhi aya aj tu mere ghr par ana aj mere ghr teri dawat hai or bhabhi g ko bhi lekar ana sohan kheta hai nhi yar bhabhi ko rhene de apni me hi ajaunga to mohan kheta hai nahi yar mene bhabhi ko kabhi dekha nahi na hi unki kabhi awaj suni tujhe unhe lekar hi ana hai or ye khekar mohan chala jata hai sohan sochta hai ki me kese lekar jau wo to goongi hai lekin dosti to nibhani hai ab mohan apni biwi se kheta hai ki mera dost aaj khane par ayega tum uske samne kuch bolna mat ab sham ko sohan apni biwi k sath ata hai sohan mohan k ghr ka darwaja khat khata ta hai mohan ghr par nhi hota hai mohan ki biwi darwaja kholti hai sohan kheta hai bhabhi ji namaste wo sir hilakar namaste karti hai sohan kheta hai mohan kanha hai bhabhi g wo ishare se kheti hai ki bhar gaye hue hai sohan sochta hai ki ye meri biwi ki tarha goongi to nahi hai itni me mohan a jata hai or wo sohan ki biwi se Namaste karta hai lekin wo sir hilakar Namaste karti hai mohan sochta hai ki ye meri biwi ki tarha hakli to nahi hai mohan apni biwi se kheta hai ki khana lagao or fir mohan sohan or sohan ki biwi khana khane k liye baith te hai sohan sochta hai ki aaj me mohan ki biwi yani ki bhabhi g ko bulwakar rahunga sohan kheta hai mohan ki biwi se bhabhi g apne paneer ki sabji me namak ki jagha chini daldi hai ye sunkar bhi mohan ki biwi kuch nhi bolti hai sohan sochta hai ki bhabhi g kuch bol kyu nahi ranhi hai kuch to gadbad hai fir mohan kheta hai sohan ki biwi se ki bhabhi g ek acha sa song sunao mohan kheta hai ki bhabhi g mene kabhi apki awaj nahi suni sohan or mohan ek dusre ki biwi ko bulwane ki koshish karne lagte hai itne me dono ko gussa a jata hai dono chik kar apni apni bhasha me bolne lagti hai ab ham pareshan ho gaye hai bhot chaha na bole lekin bolna hi pada mohan sohan ek dusre se khete hai ki mene socha tha ki ek ajuba mere pss hi hai par aj pata chala ki tumhare pass bhi hai..

    Reply
  48. Sabbir rahman

    একদিন আমাকে আমার বাবা আমাকে বলল তুই কখন পরতে বসিস।
    আমি বললামঃ যখন সবাই ঘুমিয়ে পরে তখন মনোরম হও তখন পরতে বসি।
    তখন আমার বাবা বললঃ এই মিথ্যা কথা বলবিনা আমি দুই দিন দেখেছি তুই পরতে বসিস নি।
    আমি বললামঃআমি বলে ছিলাম না সবাই যখন ঘুমিয়ে পরে তখন পরতে বসি

    Reply
  49. Vishal kushwaha

    Ek admi hota hai
    uska koi naam nahi hota hai
    too wah ek din wah ek baba ke pass jata hai wah admi baba se bolta hai mera koi naam nahi hai too main apna naam kya rakhu
    wah baba bolta hai sadak par sabse pahle dikhai de wah naam rakhna
    too use ek kutta dekhai deta hai
    too wah apna naam kutta rakh leta hai,
    bhir uski shaadi hoti hai phir wah baba ke pass jata hai or puchta hai ki main apni biwi ka naam kya rakhu
    baba kahta hai joo tumhre table ke neche dikhai de wah naam rakhna too ushe mouse ki lendi dikhai deti hai too wah apni biwi ka naam lendi rakh leta hai ,
    bhir wah bangla kharidta hai bhir wah baba ke pass jata hai or baba se puchta hai main apne ghar ka naam kya rakhu ? baba kahta hai ki joo table ke uper dikhai de wah naam rakhna
    use table par chaddi milty hai too wah apne ghar ka naam chaddi rakh leta hai
    Ek din uske ghar main aag lag jati hai or uski biwi ghar ke ander hoti hai too wah firebrigade ko phone lagata hai or bolta main kutta bol raha hoo meri chaddi mai aag lag gayi hai or usme meri lendi hai

    Reply
  50. vishal kushwaha

    Ek aeroplane hota hai
    ousme gandhiji or jawaharlal nehru hote hai
    jawaharlal nehru ko toilet karne jate hai bhir gandhiji ko bhi toilet lagti hai jawaharlal nehru nikalte nahi hai
    wah gandhiji ko kahte hai khidki khol ke kar loo gandhiji khidki kholte hai too gandhiji neche gir jate hai
    bhir jate jate unki dhoti khul jati hai wah ganga nadhi main gir jate hai wah bolte hai har har gange !
    ganga nadhi bolti hai chal futh nange

    Reply
  51. vishal kushwaha

    Engrej – GANDHI k dono kankat do.GANDHI-nhi me andha ho jaunga.Engrej-Bewakuf kan katne se admi andha nhi hota.GANDHI-Salle chasma kya

    Reply
  52. vishal kushwaha

    ,Hindi SMS,Jokesबढ़ती हुई मंहगाईऔर घटती हुई कमाई को देखकर ,‪आधार‬ कार्ड नहीं,बल्किउधार‬ कार्ड की जरुरत महसूस हो रहीहै|आधार कार्ड का ऑफिस बंद था ,कार्ड बनवाने के लिए लम्बी लाइन लगी हुई थी ,एक आदमी बार बार लाइन में आगे जाने की कोशिश कर रहा था ,लोग बार उसे पीछे पकड़ कर खीच देते थे ,उसने 4-5 बार कोशिश की ,फिर हारकर बोला –लगे रहो लाइन में सालो ,आज ऑफिस ही नहीं खोलूँगाजाने क्यूँ अपने ‪‎हुस्न‬ परइतना गुरूर है उसे..लगता है उसका ‪आधार‬ कार्ड अब तक नहीं बना है|कार्ड स्पेशलपापाः बेटा तुम्हारे रिजल्ट का क्या हुआ?पप्पुः पापा 80% आये है ।पापाः पर मार्कशीट पर 40% लिखा है?पप्पूः बाकी के 40% आधारकार्ड लिंक होनेपर सीधे अकाऊंट में आएंगे।पापा बेहोश..Search Terms for

    Reply
  53. vishal kushwaha

    Dost Vo Nhi Jo Apke Liye Kamaye,Dost Wo Hai Jo Apki T-shirt Maang Kr Le Jae0r Kbi WapisNa De…Dost Wo Nhi JoApko Treat De,Dost Wo Hai JoAap K Ghar Aae0r Kahe “Aaj Kya Paka Hai,Jo B Hai Jaldi Se Le Aa”..Dost Wo Nhi Jo Call Kr KMilne Aaye,Dost Wo Jo Ghr K Samne Aa KMsg Kre”kaminey Bahar Aa.Dost Wo Nahi JoKahe Wo Ladki Teri Kismat Me Nahi,Dost Wo Hai JoKahe”Saale Party De PartyUse Toh Ghar Se Utha Layenge Tere Liye”Dost Wo Nhi JoJanaze Me Aae,Dost Wo Hai JoKabar Pe T-shirtLe K Aae 0r Kahe”Le Saale Nhi Chaiye Tera Ehsaan ChalUth Or MeriDosti Wapis Kr.Share To All Special Friends……

    Reply
  54. vishal kushwaha

    1 budha aya saath me 1 budhiya ko layaHotel me ja ke waiter ko bulaya,Dono ne apna-apna order mangaya,Pehle budhe ne khaya, budhiya ne pankha hilaya,Fir budhiya ne khaya, budhe ne pankha hilaya,Ye dekh k Waiter sharmaya aur usne farmayaAye Laila Majnu ke Maa BaapTum dono me itna pyar hai to khana 1 sath kyun nahi khaya?Is par budhe ne farmaya!!!Hanso matbudhe ne farmaya!!HeheheHans math yarr budha nahi batayega fir..budhe ne farmaya!!!Beta tera sawal to nek haiPar hmare pas Daanto ka set sirf ek hai

    Reply
  55. vishal kushwaha

    1 Din maina: mujhe chod kar kbhi tum udh to nahi jaoge!Tota: Udh jau to tum pakad lena.Maina: Me tumhe pakad sakti hu, par firpa nahi sakti.. tota ki ankho me ansu aa gaye usne apne pankh tod liye.Bola: Hum hamesa sath rahege.1 Din bahut zor se tufan aya maina udne lagitabhi tota bola: Tum udh jao me nahi udh saktaMaina: Apna khayal rakhna kah kar udh gayi,Jab tufan thama aur maina waps ayi to usne dekha ke..tota mar chuka tha aur 1 dali par likha…kash tum ek bar to kaheti ke,me tumhe nahi chod sakti. to shayad metufan ane se pahle nahi marta!

    Reply
  56. vishal kushwaha

    Station pe ek kuli se bahar jane ka rasta puchaKuli ne kaha: bahar ja kr puchho.mene khud rasta dundh liyaBahar ja kar taxi wale se pucha: bhai sahab, Lal kile ka kitna loge?Jawab mila: bechna nahi hai… taxi chhormene bus pakad li.Conductor se puchha: Ji, kya me cigarette pi sakta?Conductor (gusse se): Hargij nhi,yaha cigarette pina mana hai.Mene kaha: Par wo janab to pi rhe hai?Conductor: Usne mujhse puchha nhi hai.Lal kile pahucha, hotel gya, manager se kaha:Room chahiye 7vi manjil me.Manager: Rehne k liye ya kud kar suicide karne k liye?Hotel se nikla dost k ghar jane k liyeRaste me ek janab se pucha: janab ye sadak kaha jati hai?Janab haskar bole:pichle 20 saal se dekh raha hu, kahi nahi jati, yahi padi hai

    Reply
  57. vishal kushwaha

    Ek aadmi ne remote control pe chalne wali car khareedi.Ek din usne car ko order diya- Go & bring my children from school.Car gayee aur bahut der tak wapas nahin aayee.Aadmi tension me aa gaya aur police complaint karne ke liya nikal hi raha thaitne mein car bahut saare bachchon ko leke aayee jisme uski naukrani ke 2, baajuwali ke 3, uski saali ka 1 aur uske secretary ke 2 bachche the.Aadmi aur tension mein aa gaya.Patni ne kaha- iska matlab ye saare bachche tumhare hain.Pati ne kaha ye to main baad mein bataunga pehle ye batao car hamare dobachchon ko kyun nahin leke aayee?
    mobile:7096413546

    Reply
  58. vishal kushwaha

    Ek bar engineering ke sabhi Professores koek plane mein bithaya gaya..Fir announce kiya gaya ki“YE PLANE APKE STUDENTS NE BNAYA HAI”Sab profesrs utar gaye…Par principal baithe raheLogo ne pucha: Aapko Darr nahi lgta?Principle: Muje apne studnts par pura bharosa hai.Ye start hi nahi hoga!

    Reply
  59. Vishal Kushwaha

    Heart touching must read:)Ek din ek ladke ki girlfrnd ka BIRTHDAY tha.Boy was not in that city.So, he ordered 24 RED ROSE for his girlfriend.He called her up.Dear maine tumhare liye utne ROSE ain jitni saal ki tum ho gyi ho.While delivering florist thought: Ye aajkamera sabse achha customer hai.Chalo ise 10 ROSE FREE me de deta hu.So, he gave 34 instead of 24.aur aaj tak ladka nahi samajh paya kiuska BREAK-UP kyu hua..

    Reply
  60. Vishal Kushwaha

    Ye 1 darawni kahani hai,kamjor dil wale ise na pade..!!Barsat ki 1 raat me 1 budha aadmi hath me 1kitab bechne ke liye khda tha,1 aadmi aaya aur usne vo kitab 3000/- mein kharid liBudhe aadmi ne kitab de ke kaha:Jab tk koi musibat na aye kitab ka LAST PAGE mat dekna.Aadmi ne kitab puri pad li lekindar ke karan last page nahi khola.1 din usse raha nahi gayaaur last page khol ke dekh hi liya aur sadme se mar gya..last page par likha tha…..MRP-Rs 15/- only!

    Reply
  61. VishalKushwaha

    एक बार मुल्ला नसरुदीन को प्रवचन देने के लिए आमंत्रित किया गया . मुल्ला समय से पहुंचे और स्टेज पर चढ़ गए , “ क्या आप जानते हैं मैं क्या बताने वाला हूँ ? मुल्ला ने पूछा .“नहीं ” बैठे हुए लोगों ने जवाब दिया .यह सुन मुल्ला नाराज़ हो गए ,” जिन लोगों को ये भी नहीं पता कि मैं क्या बोलने वाला हूँ मेरी उनके सामने बोलने की कोई इच्छा नहीं है . “ और ऐसा कह कर वो चले गए .उपस्थित लोगों को थोड़ी शर्मिंदगी हुई और उन्होंने अगले दिन फिर से मुल्ला नसरुदीन को बुलावा भेज .इस बार भी मुल्ला ने वही प्रश्नदोहराया , “ क्या आप जानते हैं मैं क्या बताने वाला हूँ ?”“हाँ ”, कोरस में उत्तर आया .“बहुत अच्छे जब आप पहले से ही जानते हैं तो भला दुबारा बता करमैं आपका समय क्यों बर्वाद करूँ ”, और ऐसा खेते हुए मुल्ला वहां से निकल गए .अब लोग थोडा क्रोधित हो उठे , और उन्होंने एक बार फिर मुल्ला को आमंत्रित किया .इस बार भी मुल्ला ने वही प्रश्नकिया , “क्या आप जानते हैं मैं क्या बताने वाला हूँ ?”इस बार सभी ने पहले से योजना बना रखी थी इसलिए आधे लोगों ने “हाँ ” और आधे लोगों ने “ना ” में उत्तर दिया .“ ठीक है जो आधे लोग जानते हैं कि मैं क्या बताने वाला हूँ वो बाकी के आधे लोगों को बता दें .”फिर कभी किसी ने मुल्ला को नहींबुलाया !

    Reply
  62. Vishal Kushwaha

    मान लीजिएं रामजी ने आज के युग में सीताजी को बचाने संघर्ष किया होता तो उनके साथ क्या होता? आज जहां एक अच्छे इंसान को भलाई के लिए सूली पर चढा देने का रिवाज है क्या वहां रामजी अपना कार्य पूरा कर पाते?अगर रामजी ने कलयुग में रावण पर आक्रमण किए होते तो उनसे मीडिया किस तरह के सवाल करते:आपने अपनी टीम के महत्वपूर्ण घटक श्री हनुमान को लंका में सीता की खोज करने तथा संदेश देने के उद्देश्य से भेजा था, परन्तु उन्होंने वहां जाकर आग लगा दी… क्याइससे यह साफ नहीं हो जाता कि आपकी टीम में अंदरूनी तौर पर वैचारिक मतभेद हैं…?क्या श्री हनुमान के विरुद्ध अशोक वाटिका उजाड़ने के आरोप में वनविभाग द्वारा मुकदमा नहीं चलाया जाना चाहिए…?आपके एक अन्य सहयोगी श्री सुग्रीव पर अपने भाई महाबली बालि का राज्य हड़पने का आरोप है… क्या आपने इसकी जांच करवाई…?क्या यह सच नहीं है कि बालि का राज्य हड़पने की श्री सुग्रीव की साजिश केमास्टरमाइंड आप स्वयं हैं…?आप 14 साल तक वनवास में रहे… क्या आप स्पष्ट रूप से बता सकेंगे कि आपको वहां अपने खर्चे चलाने के लिए फंड कहां से मिलते रहे…?क्या आपने किसी स्वतंत्र एजेंसी से उस फंड का ऑडिट करवाया है…?क्या आप बताएंगे कि आपने सिर्फ रावणपर हमला क्यों किया, जबकि अन्य अनेक देशों में भी राक्षस शासनारूढ़ थे… क्या यह लंका की सरकार को निजी कारणों से अस्थिर करने की साजिश नहीं थी…?क्या यह सच नहीं है कि रावण को परेशान करने के मकसद से आपने उनके परिवार के निर्दोष लोगों, जैसे कुम्भकर्ण, पर हमला किया…?क्या आपकी टीम के श्री हनुमान द्वारा संजीवनी बूटी की जगह पूरा पहाड उखाड़ लेना सरकारी जमीन के साथछेड़छाड़ नहीं… क्या आप इसे वन संपदा के साथ भी खिलवाड़ नहीं मानेंगे…?क्या यह सच नहीं कि आपने रावण पर आक्रमण करने से पहले समुद्र पर लंकातक बनाए गए पुल का ठेका नल और नील को अपने करीबी होने के कारण दिया…?बताया गया है कि आपने पुल बनाने के लिए छोटी-छोटी गिलहरियों से भी काम करवाया… क्या इसके लिए आपके विरुद्ध वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम तथा बालश्रम कानून के तहत मुकदमा नहीं चलाया जाना चाहिए…?आपने बिना किसी पद पर रहते हुए युद्ध के समय देवराज इन्द्र से राजकीय सहायताप्राप्त की और उनका रथ लेकर रावण पर हमला किया… क्या इससे आप इन्द्र की ‘टीम ए’ सिद्ध नहींहोते…?क्या इस सहायता के बदले आपने इन्द्रसे यह वादा नहीं किया कि अयोध्या का राजा बनने के बाद आप उन्हें अयोध्याके आसपास की जमीन दे देंगे…?स्वर्ग की दूरी अयोध्या की तुलना में कई गुणा अधिक है, परन्तु युद्ध के दौरान आपने अयोध्या से रथ न मंगवाकर इन्द्र से रथ मंगवाया… क्या यह निर्णय इन्द्र की कंपनी को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से नहीं किया गया…?जाम्बवंत द्वारा युद्ध में आपको दी गई सहायता और परामर्श के बदले क्या आपने उन्हें राष्ट्रपति बनाने का वादा नहीं किया…?क्या विभीषण को अपनी टीम में शामिल करके आपने दल-बदल कानून का सरासर उल्लंघन नहीं किया…?और आखिरी सवाल, आपने भरत को राजा बनाया… क्या आपको अपनी नेतृत्व क्षमता पर संदेह था…?

    Reply
  63. vishal kushwaha

    दस वर्षीय पप्पू और उसके पड़ोस में रहने वाली नौ-वर्षीय चिंकी कोसाथ-साथ खेलते हुए यह एहसास हो जाता है कि वे एक-दूसरे से बेहद प्यार करते हैं, और उन्हें शादी कर लेनी चाहिए।पप्पू चिंकी के पिता के पास पहुंचगया, और हिम्मत जुटाकर बोला, “अंकल, मैं और आपकी बेटी चिंकी एक-दूसरे से प्यार करते हैं, और मैं आपसे शादी के लिए उसका हाथ मांगने आया हूं।”चिंकी के पिता को नन्हे शरारती पप्पू की हरकत बेहद प्यारी लगी, और वह डांटने के बजाए मुस्कुराते हुए उससे से पूछते हैं, “यार, तुम अभी सिर्फ 10 साल के हो, और तुम्हारे पास घर भी नहीं है… तुम और चिंकी रहोगे कहां?”पप्पू तपाक से बोला, “चिंकी के कमरे में, क्योंकि वह मेरे कमरे से बड़ा है, और वहां हम दोनों के लिए ज़्यादा जगह है।”चिंकी के पिता को अब भी पप्पू की इस मासूमियत पर प्यार आता है, और वह फिर पूछते हैं, “ठीक है, लेकिन तुम लोग गुज़ारा कैसे चलाओगे, आखिर इस उम्र में तुम्हें नौकरी तो मिल नहीं सकती?”पप्पू फिर बहुत शांत स्वर में जवाब देता है, “हमारा जेबखर्च है नउसे 50 रुपये प्रति सप्ताह मिलता है, और मुझे 100 रुपये प्रति सप्ताह, इस हिसाब से हम दोनों के लगभग 600 रुपये हर महीने मिल जाता है, जो हमारी ज़रूरतों के लिए काफी रहेगा।”चिंकी के पिता इस बात से भौंचक्केरह जाते हैं, कि पप्पू ने इस विषय पर इतनी गंभीरता से, और इतनी आगे तक सोच रखा है सो, वह सोचने लगते हैं कि ऐसा क्या कहें कि पप्पू को जवाब न सूझे, और उसे इस उम्र में चिंकी से शादी न करने के लिए समझाया जा सके कुछ देर बाद वह फिर मुस्कुराते हुए पप्पू से सवाल करते हैं, “यह बहुत अच्छी बात है बेटे कि तुमने इतनी अच्छी तरह सब प्लान किया हुआ है, लेकिन यह बताओ,कि अगर तुम दोनों के बच्चे हो गए, तो क्या यह जेबखर्च कम नहीं पड़ेगा?”पप्पू ने इस बार भी तपाक से जवाब दिया, “अंकल, हम बेवकूफ नहीं हैं… जब आज तक नहीं होने दिए, तो आगे भी रोक लेंगे।”चिंकी के पापा आज तक कोमा में हैं और घरवालों को इसकी वजह तक नही पता।

    Reply
  64. vishal kushwaha

    Ek Nayi Aayi Lady Teacher Ne Class Ke Baccho se Unke Maa Baap Kya Kaam KarteHai PochaEk Choti Ladki ne Bataya Ki Uski Mummy Doctor HaiGolu Ne Bataya ki Uske Papa Engineer HaiAb Pappu ki Baari Thi Vo Khada Huva Aur Bola Ki Uski Mummy Call Girl Hai :DTeacher Bahot dayalu Thi usse Pappu Par Bahot Daya Aa rahi thi ussne Pappu Ko Principal Ke Pass Bhej Diya :D15min Baad Jab pappu Vapas Aaya To Teacher Ne usse Pocha – Tumne Principal Ko Apni problem Batayi Beta??Pappu – Ha batayiTeacher – Kya Kaha Unhone ??Pappu – Unhone muje choclate Diya Aur Meri Mummy Ka Mobile Number Manga :D:D

    Reply
  65. vishal kushwaha

    Husband & wife ka jordar jhagda hota hai.Husband gusse se: Teri jaisi 10 milengi.Wife haske: Abhi bhi meri jaisi hi Chahiye!!!??

    Reply
  66. vishal kushwaha

    पत्नी जब मायके जाती है और फिर जब पति कि याद आती है तो कैसे रोमांटिक मैसेज भेजती है:”मेरी मोहब्ब्त को अपने दिल में ढूंढ लेना;और हाँ, आटे को अच्छी तरह गूँथ लेना!मिल जाए अगर प्यार तो खोना नहीं;प्याज़ काटते वक्त बिलकुल रोना नहीं!मुझसे रूठ जाने का बहाना अच्छा है;थोड़ी देर और पकाओ आलू अभी कच्चा है!मिलकर फिर खुशियों को बाँटना है;टमाटर जरा बारीक़ ही काटना है!लोग हमारी मोहब्ब्त से जल न जाएं;चावल टाइम पे देख लेना कहीं गल न जाएं!कैसी लगी हमारी ग़जल बता देना;नमक कम लगे तो और मिला लेना

    Reply
  67. vishal kushwaha

    एक बूढ़ा आदमी डॉक्टर के पास गया और बोला, ‘डॉक्टर साहब मेरी बीवी को ढंग से सुनाई नहीं देता। कोई दवा बताइए न।’ डॉक्टर ने सलाह दी कि वह पहले पतालगाए कि उसकी पत्नी की यह समस्या कितनी गंभीर है। डॉक्टर ने कहा, ‘आप अपनी पत्नी से एक निश्चित दूरी पर खड़े होइए और उनसे कोई सवाल कीजिए। फिर धीरे-धीरे करीब आते जाइए और सवाल दोहराते जाइए, जब तक कि वह जवाब न दे। फिर देखिए कितने पास आने पर उसे सवाल सुनाई देता है और वह कब आपको जवाब देती है।’ बूढ़ा आदमी खुश होता है कि आखिरकार उसे कोई उपाय तो मिला। वह घर पहुंचा तो देखा उसकी बीवी खाना बना रही है। उसने 15 फीट दूर खड़े होकर बीवी से पूछा, ‘अरेसुनो, आज खाने में क्या बना रही हो?’ उसे कोई जवाब नहीं मिला। फिर उसने यही बात 10 फीट दूर खड़े होकर पूछी। फिर भी कोई जवाब नहीं आया। आखिरकार उसने बीवी से 5 फीट दूर खड़े होकर पूछा, ‘अरे खाने में क्या बना रही हो?’ बीवी ने गुस्से में जवाब दिया, ‘मैं चौथी बार बता रही हूं, खिचड़ी!’

    Reply
  68. vishal kushwaha

    Ek Room me 5 dost rehte the.1. Pagal2. Fudu3. Dimag4. Koi Nahi5. KisiEk Din Koi Nahi ne Kisi Ko MarDiya.us waqt Dimag Bathroom me thaPagal Ne Police Ko call kiya.Hello Police Koi Nahi ne Kisi Ka Qatal Kar diya Hai.Police: Oye Kiya Tum Pagal Ho?Pagal: G Mei Pagal Hu.Police: Tere Paas Dimag Nahi Hai?Pagl: G Dimag toh Bathroom Mei Hai…Police: O FuduPagl: Nahi G Mei toh Pagal Hu.Fudu to msg padh raha hai…Hahahaha2014 ki top class beizzatiHanso mat mere saath bhi aisa hua hai jaldi forward karoWarna ye message aam ho jayega……;By Himanshu Sharma

    Reply
  69. vishal kushwaha

    1 budha aaya,,7 me 1 budhiya layaHotel me ja kar waiter ko bulayaDono ne apna-apna order mangwayaPehle budhe ne khayaBudhiya ne bill chukayaPhir budhiya ne khayaBudhe ne bill chukayaYe dekh waiter ka sar chakraya Wo unke paas aaya aur bola..!!Jab tum dono me itna pyar haito khana 1 sath Q nahi khayaIs par budhe ne farmaya”JAANI”Tera sawal to nek haiPar hamre pass daanto ka joda sirf ek hai

    Reply
  70. vishal kushwaha

    गुरू जी नमस्ते! पहचाना मैँआपका शिष्य कल्लू बोल रहा हूँ।”अरे ! कल्लू कैसे हो तुम ?? आज इतने सालो बाद मेरी यादकैसे आ गई ?? …और मेरा फोन नम्बर कैसे मिल गया??”गुरूजी ! फोन नम्बर ढ़ुंढ़ना कौन सा मुश्किल था ? जब प्यासेको प्यास लगती है तो जलस्रोत ढ़ुंढ़ ही लेता है। .दरअसल गुरूजी हमने एक नया रोजगार शुरूकिया है।और आपने बचपन मेँ कहा था की जब भी कोई काम शुरू करना हमसे उदघाटनजरूर कराना। तो हम अपने कामका उदघाटन आपसे ही करानाचाहते है।अतिसुन्दर ! वत्स। बताओ कहाँ आना है उदघाटन के लियेहमेँ ? ”गुरूजी ! आप पुराने खंडहर के पास चार लाख रूपया लेके आ जाईये। ..आपका ‘छोटूवा’ हमरे कब्जे मेँ है। आज से ही ‘अपरहण’ का धंधाचालू किया तो सोचा की ‘उदघाटन’ आपके शुभ हाथो से ही हो।

    Reply
  71. Dhaval sharma

    Ak baar ma ghar me akela aur pappa aaye aur bola beta audas ku ho mane bola kuch nahi pappa bole dost samaj kar bol de mane bola yaar tare bhabhi iPhone mang rahe ha
    .
    .
    .
    .My phone number +919904242959 call me please

    Reply
  72. Dhaval sharma

    Ak baar ma mare girlfriend ka saat date par gaya aur mare girlfriend pizza khati hu a romantic andaaz me bole mu j kuch aesa bolo ke mare dhadkan tez ho jaye mane bola ke mare pass pase nahi ha ???
    .
    .
    .My phone number +919904242959 call me please

    Reply
  73. vishal kushwaha

    बेझिझक मुस्कुराये जो भी गम है,जिंदगी में टेंशन किसको कम है,अच्छा या बुरा तो केवल भ्रम है,जिंदगी का नाम ही कभी ख़ुशी कभी गमहै।

    Reply
  74. vishal kushwaha

    उम्र की राह में जज्बात बदल जाते है।वक़्त की आंधी में हालात बदल जाते हैसोचता हूं काम कर-कर के रिकॉर्ड तोड़ दूं।कमबख्त सैलेरी देख के ख्यालात बदलजाते ह

    Reply
  75. Dhaval sharma

    Please mu j koi tv serial ma ya to add ma la lo ma bohot musebaat ma hu please mara naam Dhaval sharma
    Age 16 years
    Height 6ft
    Location Gujarat, Dakor
    Mara phone number 9904242959 aur ma what’s app par bhi hu please mu j la lo

    Reply
  76. vishal kushwaha

    Ek pagal gusse se bolta hai eish duniya ko mita duga
    dushra pagal:hihihihi main tijhe rabar hi nahi duga

    Reply
  77. vishal kushwaha

    gadeshji ki do patny hai ek redhi or ek siddhi
    inshano ki ek hi patny hai wah bhi jiddi

    Reply
  78. Denny

    Ek baar me ratstey se ja rha tha
    #waha mene ek old man ko electronic taar ke pass apna per se taar par ghis rha tha muje pata nhi ki wo wha kya kr rha h
    But #mene socha ki wo waha electronic wayar pe jatke kha rha h
    #mene ek pass me lathi thi wo li aur uske per par jor jor se mari jis se wo choot jaye

    #wo old man bola are maar dala re maar dala muje curont nhi lga tha me yha me mera per saaf kr rha tha wo mmy itni joor joor se mari fir me wha se bhaag gya kyu ki faltu me mene usko lathi mar di
    🙂 hahahaha so funny
    Plz sir share my funny story on subtv

    Reply
  79. Denny

    hello guyz i share my funny school life movemant #yah0oo

    #muje aaj bhi wo din yaad h jab hum peche wali bance pe 4 boy,s bethte the us tym hum school ke sabse badmass boy, s the tab …..start

    #hum charo me se ek badmass ldka tha wo mera frnd vicky than

    Moring tym school tym
    1class of maths ki thi teacher muchad tha gamandi tha hum 4 boy’s ne plane banaya ki abhi kuch krna padega class study on salu ho gyi fir black bord pe sir qustion lekha rhe the tabhi #mene pehle suruaat ki
    #jor se bola ki #mud mud ke na dekh aur supe. Hoke padai krne ka bahana kiya sir ne peche dekha aur kuss na bola mere dost vicky ne bola #yhi h right chose baby all student bole ki aaha fir sab boy’s silance an sir ne gusse se hamari aur dekh aur bola ki stand up hm charo khade hui aur lathi leke aaye hum boy’s bhi kaha lathi khate class me halala macha diya sir hmare peche peche hum unke peche peache enjoymant horha h thaaa tabhi

    Mene sir ko bola ki me principale ko bolunga ki ap unko gali di the maths wale teacher bole ki ja bol ke me darta hu kya us gansiya principal se
    Tabhi principal aaye aur maths wale teacher ko pata ni h ki principal sir aaye tabhi mene apna point diya maths ke sir hamare principal hmare bhagwan ke saman h hme unke bare me esa nhi bolna chiye fir kya principal sir ko hum pe dya aagyi aur hame bola boy,s aap apni seat,s par beth jaeye
    Maths wale teacher ko bola ap chalo hmare office me apki thodi khabar lete h ki student ke saamne kya respect rakhte ho ..:-)
    Hahahaha fir kya itne hase sab log ki kya batao ap ko abhi kbi milte h to yaad rakh te h wo hme

    :-)its my story
    From rajasthan pali india
    9649121507

    Reply
  80. Denny

    ek baar tv news me

    )-@ abhì abhi khabr mili h ki bhyankar barish aane wali h

    Barish me girne wale #Rassgulla aur #Gulabjamun honge to apne muhh aasma ki taraf kr ke uper dekhe

    #note – saath me pathar girne ki sambhavna h

    To apna muhh smbhal kr rakhe

    Warna #Rassgulla to kya aalo bhi khane ke dath nhi bachenge …#aj ke sMASAAR khatam

    *Daniyawad *
    Hahahahahahahahahaha
    Its so funny
    Me denny prajapat
    From rajasthan pali india
    9649121507

    Reply
  81. Shashi Bhushan Soni

    Do aadmi alag alag ek hi madir me ghae our vah ek khubsurat si ladki se takra gayetab se dono ouska picha kiye vo apne frend ous doctor ke pas gayi ti vi ouske agle din hi ous doctor ke pas gaye patient ban kar Ek bar ek patient our ouska sathi doctor ke paas gaye
    -doctor-inhe kya huaa h
    Sathi-inhe dil ka dura padta h
    Doctor-kab se
    Patient ne man me-jab se aapko dekha h tab se
    Sathi-kal se
    Doctor-inka ilaz karna hoga
    Patientisiliye to may yaha aaya hun
    Ousi vaktdusra patient vaha pahucha our bola-dactorni sahiba pkiz mujhe apne giraft me le lo
    Doctor -ji
    Dusra patient -mera matlab h ki mera pilaz kiziye may bimar hun
    Doctorni-kon si bimari h aapko
    Dusre patient-mujhe dil ki bimari h
    Doctor-Oooaap dono ek hi thalu ke chtte batte h jab phle patient ne dusre patient ko dekha to kha tu yah d
    ne socha agar may dotor ji ko ye bata du ki ye aapse pyar karta h to madem ise thappd mar kar bhga denge
    Dono ne eksaath kha ye aapse pyar karta h
    Doctor kush hoke such me lwkin koi ek bataoo
    Dono-ji may aapse pyar karta hun
    Doctor-dono me se koi ek bataoo kikon mujhse pyar karta h chalo thik h may kudh ghum jati hun
    Dono are aap ghum jayengi to hum aapko kha dhudhege
    doctor-ate mera matlab h k may kudsi ghuma leti hun
    Dono -are maydam aap kudsi ko nahi aap to hame ghumaiiye
    Doctor-are bevkufo mera matlab h ki may tumhari our dekh ke baat karti hun tab tum chchun lena ki kon mujhse pyar karta h
    Doctor jab onki oor ghumi to doo outh kar bhag jate h kyuki ous ladki ka mu tedha our aakh se andhi the vo jisse mandir me takrii the vo nahi the

    Reply
  82. vishal kushwaha

    बीवी अपने पति के गले में हाथ डालकर सो रही थीअचानक कुण्डी बजीबीवी – कौन है ?आदमी – अरे कमबख्त मैं हूँबीवी – मैं कौन ?आदमी – तेरा पतिबीवी-….ओये रब्बा…. फिर ये अंदर कौन

    Reply
  83. vishal kushwaha

    लड़की – हम लड़कियां लड़कों से ज्यादा smart होती हैंलड़का – अच्छा मेरे एक सवाल का जवाब दोलड़की – पूछो ?लड़का – Ek-Kiss के बाद क्या होता है ?लड़की – तुम लड़कों को बस यही छेड़खानी की बातें आती हैंलड़का – अरे Intelligent हो तो जवाब दोलड़की – Ek-Kiss के बाद प्यार होता है और क्या ?लड़का –….Ek-Kiss (21) के बाद बाइस (22) होता है,ज्यादा रोमांटिक होना छोड़ दो, पढाई पे ध्यान दोलड़की बेहोश

    Reply
  84. pranav mangal

    Boy1-यार,शादी मे जाना है,कैसा “कोट” पहन के जाऊँ
    कि सब मुझेे ही देखे!
    Boy2-पेटि’कोट’पहन के चला जा…!
    पक्का सब तुझे ही देखेंगे.!

    Reply
  85. pranav mangal

    एक मोटरसाइकिल वाले ने पता पूछने के लिए संता से पूछा….

    Ex” जाना है ?

    संता: तो जा ना भाई, ऐसे हर किसी को बताते बताते जायेगा तो पहुचेगा कब ???????

    Reply
  86. MAMTA UPADHYAY

    purane jamane me Bewkuf raja tha unhone ek din apne drbario se pucha ki hamare rajya me sab thik to hai mantriy jee bole jee sarkar parntu rajmhal se ek sndes aaya hai sunau raja bola jaise sari praja ke sandes sunatey ho maik me bolkar vaise hi jordar aawaj me bolo drbari bola raja ji apke ghar me namak nahi hai raja srmaya our bola bevkuph namak nahi tha to kan me boltey a huyeaj ke bad raj mhal ka koi sandes ho to dhire se kan me aakar bolna drbari bola ji hjur raja ko sadi ke 15 saal bad ldka paida huwa drbari aya raja ke kan me bola rajr ji aapko ldka paida huwa hai raja khusi se nachne lga our bola bevkuph etni khushi ki baat kaan me boli jati hai aaj ke baad agar koi khabar ho to gaja baja naach kartey huye aana drbari bola ji sarkar kuch din baad raja ka ldka mar gya drbaari naach gana bjana kartey huye aaya raja bola kya baat hai drbari bola raja ji apka ldka swarg sidhar gya THANK YOU

    Reply
  87. vishal kushwaha

    Santa to Son: “maths vich fail kyu hoya”…Son: 1st day teacher kendi 5 3=8……..Agle din kendi 6 2=8…….fir kendi 4 4=8…ullu di pathi khud confusd hai menu ki padheygi……………………….h

    Reply
  88. vishal kushwaha

    Ladki ne apne mangetar ko sms kiya.”hamari shaadi nahi ho sakti Meri kahin aur shaadi tey hogai hai.”Ladke ko boht sadma lga 2 mint bad ladke koLadki ki taraf se 1 aur sms milasorry sorry Galti se apko send ho gaya tha

    Reply
  89. vishal kushwaha

    Ek cockroach k marne se pehle, apne qatil se aakhri alfaz…….Mujhe mar dalo buzdil insan ! Tum mujh se jalte ho q k tumhari wifetum se nahi, mujh se darti hai……………..

    Reply
  90. vishal kushwaha

    Ek sharif aadmi ko kya chahiye:ek biwi jo pyaar kareek biwi jo achha khaana banayeek biwi jo uski sewa kare,aur teeno biwiya mil julkar rahe bus aur kya….

    Reply
  91. vishal kushwaha

    Wife : “Pichle saal mere Birthday pe to Lohe ka palang diya tha, is baar kya de rahe ho?”…..Husband : “Is baar soch raha hu usme Current de du.”

    Reply
  92. vishal kushwaha

    Wife: Janu kya main tumhare sapnon me aati hu.Husband: Nahi.Wife: Kyun?Husband: Main “hanuman chalisa” padh kar sota hu.

    Reply
  93. vishal kushwaha

    Husband: Tere baap ki jale per namakchhidkne ki adat gai nai….wife: kyo kya huwa…..Husband: aaj phir se puch raha tha,kMeri beti se shadi karke khush to ho na…………………..

    Reply
  94. vishal kushwaha

    Tragedy of MARRIED Men…Biwi jeene nahi deti…Aur…Karva Chauth ka vrat rakh rakh keMarne bhi nahi deti….

    Reply
  95. vishal kushwaha

    Ya khuda mere shohar ko taraki de.Dolat de bangla de.Mujhe ku ch ni chahiyetu sab mere shohar ko de…Baki. …us se lena mera kaam………………………………………

    Reply
  96. vishal kushwaha

    Ek Secretary apne boss k sath train trip pe ja rahi thi.Raat ko wo kafi der tak Bossko apne Qisse sunati rahi,K,Achanak Boss ne puchha:”Kya Khayal Hai Aaj Raat Hum Dono “Miyan Biwi” Ki Tarah Guzaaren”Secretary sharmate hue boli: “Sir, jese aap ki marzi”Boss: “To chalo phir apni bak bak band karo aur mujhe sone do”……………………..secretary boss

    Reply
    1. jeetan das

      mara bhai ki saadi ka khani

      Reply
  97. vishal kushwaha

    TEACHER: Wo konsaDepartment hai jis meAurat kaam nhi kar sakti..???::Pappu: FIRE BRIGADE..::Teacher: Kyon:::PAPPU: kynki Aurton kakaam Aag lagana hai bujhana nahi…………………

    Reply
  98. Vijay Bera

    टीचर : किसी ऐसे द्रव्य का नाम बताओं जिसे जमा नहीं सकते ?
    स्टुडेन्ट : गरम पानी !
    टीचर : कौन से महिने में 28 दिन होते है ?
    स्टुडेन्ट : Sir, वो तो हर महिने में होते है… !
    टीचर (गुस्से में) : जा… बाहर जाकर लाईन में सबसे आखीर में खड़े हो जा…
    .
    थोड़ी देर बाद..
    .
    टीचर (गुस्से में) : तुझे मैंने कहा था न सबसे आखीर में खड़ा हो जा..
    स्टुडेन्ट : Sir, पर उस जगह पर पहेले से ही कोई ख़ड़ा है !!!

    Reply
  99. Vijay Bera

    “एक चुटकी सिन्दूर की कीमत तूम क्या जानो रमेश बाबू ???”
    .
    .
    .
    .
    पति ? ने एक बार उसे पास बिठाकर हिन्दी में समझाया ः
    देख_____ ?
    रसोई राशन – 12,000 रू.
    बिजली का बिल – 2,500 रू.
    पानी का बिल – 1000 रू.
    बच्चों की स्कूल फीस 12,000 रू.
    बच्चों की ट्यूशन फीस 20,000 रू.
    मकान का किराया 10,000 रू.
    मोबाईल का बिल 700 रू.
    मेडिसिन 2000 रू.
    पेट्रोल 2,000 रू.
    अन्य 5000 रू.
    .
    और ये सब सिर्फ इसलिये कि…
    “तेरी मांग में एक चूटकी सिन्दूर भरा है” ?
    वरना 4-5 हजार में मस्त जी रहा होता…
    .
    इसलिए सुन…
    एक चूटकी सिन्दूर की कीमत रू. 60,000 रू. महिना है…
    .?
    “आज के बाद चुप रहियो…”
    ? ? ? ? ?

    Reply
  100. Vijay Bera

    Gogi : Dettol sabun hai?
    Abdul : Hai,
    Gogi : Accha wala?
    Abdul : Ha
    Gogi: Acchi quality ka hai na?
    Abdul: Ha
    Gogi: Hath dhokar 1 Kilo aatta dedo.

    Reply
  101. Vijay Bera

    Jethalal: Daya humara Tapu bada hoke humara naam Roshan to kare ga na.
    Daya: Tapu Ke Papa, Tapu humara naam zarur Roshan karega…
    Lekin Golgi ko uske mummy-papa ka naam Roshn karne ki koi zarurat nahi ha.
    Jethalal: Aisa Kyu?
    Daya: Kyuki unka naam to pahle se hi Roshan and Roshan hai na

    Reply
  102. khushi

    Ek bar 4 aunty`s ek sath ek colony me rahti thi… Ek aunty ne socha ki chalo aaj shopping mall chalte hai toh sabne bola chalo bahot mazaa aahai gaa 1st wali aunty ko nail polish bahot aachi lag ti hai 2nd wali ko sandal ka shokk tha 3rd wali ko aapne baal se bahot pyaar tha 4th wali ko lipisitk ka shokk tha. toh sab mall me gaye toh 1 st wali ne nail polish liya 2nd wali ne sandal liya 3 rd wali ne comb liya aur 4 th wali ne lipisitk liya toh 1 st wali hamesha apne nails dikha ti hai 2nd wali apne sandal dikha ti hai 3rd wali apne baal urati hai hamesha 4th wali apne lips hamesha dikhati hai…..Ek din 4 auntys baji lane gaye toh 2nd wali aunty ne sandal dikha te huae kaha ki aloo kitne ka hai uncle jii toh uncle ko gusa aaya ke aunty ne sandal kyu dikha ya toh baki ki 3 aunty ne apne style se uncle ko sindhi me pucha [uncle patata gare kilo ] uncle ko aur gusa aaya ki yeh aunty kya kar rahi hai ???UNCLE NE APNi DOTI HILA KE BOLA PATATA 20 kilo toh anuty bagh gahi……….

    Reply
    1. khushi

      good jokes

      Reply
  103. Abhijeet

    Hii. My name is Abhijit. I am studying in a boarding school at Saputara. It is a Christian school running by Sisters. On march we had farewell for std10th. At that time we were practicing our dance at evening in hostel without taking permission of our incharge Sister. We were practicing with lots of fun and enjoyment. At that time our uncle who lools after us got very much angry. And he said is to go and ask permission from incharge . We tried to tell lie to him but he didn’t listen us. I and my other 6 friends went to ask ppermission from our hostel incharge. We were very afraid as our incharge always use to be angry. When we went to her office and requested her to practice, she told us in angry ,”Do whatever u all like. I am not bothered about u all. After u will cfy for ur results”. As soon as she said do whatever u like , we tooks a chance and went happily to practice . We were very happy. After the face of our incharge was very funny . She was wondering . And fromtt day she never told us do whateber u like .. it was very funny.

    Reply
  104. Lucky kar

    Hiii i am lucky . Me mere papa se bahat dat khata hu. Mere papa bote hia. ke tume mera sar itana ucha kar de jo logo dekhe te hi rehe ja a to mene bahat sare takia lejarahatha to mere ek dost ne puchha itne saare takia kaha le jaraha hia to mene bola mere papa mujhe kehe te hia koi kam kar ke mera sar ucha kar de to me ia takia le kar unke bsitar parkha du gaa to unka sar ucha ho ja a ga sam je ia samja u

    Reply
  105. Rushil

    hamari school mai se sabhi bacho ko tour pe le Jane ka ayojan kiya tha.hamko Mumbai tour pai Jana tha.tour 6 days ki this.ham Sab bacho aur teacher ko bus mai Jana tha.bus mai ek bacha dusre bache ko soya huaa dekh kar uske mathe par Colgate lagata tha air is funny pic ko mobile ke camera se ked karke sabhi bacho ko ye pic batata tha.

    written by

    Patel rushil

    gujrat

    sabarkhata

    383205

    Reply
  106. Vijay Bera

    एक T.V. पत्रकार एक किसान का Interview ले रहा था..
    पत्रकार – “आप बकरे को क्या खिलाते हैं ?”
    किसान – “काले को या सफ़ेद को ?”
    पत्रकार – “सफ़ेद को ?”
    किसान – “घाँस…”
    पत्रकार – “और काले को ?”
    किसान – “उसे भी घाँस…”
    पत्रकार – “आप इन बकरों को बाँधते कहाँ हो ?”
    किसान – “काले को या सफ़ेद को ?”
    पत्रकार – “सफ़ेद को…”
    किसान – “बाहर के कमरे में…”
    पत्रकार – “और काले को ?”
    किसान – “उसे भी बाहर के कमरे में…”
    पत्रकार – “और इन्हें नहलाते कैसे हो ?”
    किसान – “किसे… काले को या सफ़ेद को ?”
    पत्रकार – “काले को…”
    किसान – “पानी से…”
    पत्रकार – “और सफ़ेद को ?”
    किसान – “उसे भी पानी से…”
    पत्रकार का गुस्सा अब सातवें आसमान पर,
    अब बोला – “कमीने ! जब दोनों के साथ सब कुछ एक जैसा करता है, तो मुझे बार-बार क्यों पूछता है… काला या सफ़ेद… ?”
    किसान – “क्योंकि काला बकरा मेरा है…”
    पत्रकार – “और सफ़ेद बकरा ?”
    किसान – “वोभी मेरा है…”
    पत्रकार बेहोश….
    थोड़ी देर बाद होश आने पर किसान बोला –
    “अब पता चला कमीने…
    जब तुम लोग एक ही न्यूज को सारा दिन घुमा फिरा के दिखाते हो, तो हम भी ऐसे ही गुस्से होते है…”

    Reply
  107. Rahul Kumawat

    garmi ki chutti me ek bar hum haridwar me gaye . vaha par mera bada bhai kho gaya .hum sabhi use dooghte
    rahe. tabhi bhaiya ek chai ki hotel phone lagakar bola ki chai ki hotel par hau. hamare koi gadi bhi nahi .
    tabhi vaha par ek donkey dikha .mere papa us par bathkar bhaiya ko lene gaye.aur ham vahpas ghar aa gaye.

    Reply
  108. Hafijur Rahman khan

    मुम्बई का एक लडका था जीसका नाम “भोला” था बह काफी जादा मैहनती था उसके माता पिता अपने बेटे की शादी करने की सोच रहे थे| पर भोला” शादी के नाम से ही सरमा जाता है एक दिन “भोला” के माता पिता “भोला” के साथ कानपुर मे एक लडकी को देखने मुम्बई? से कानपुर पहुँचे वहा से “भोला” ने ऑटो पर सवार होकर लडकी के घर जा हि रहे थे कि अचानक “भोला” की नजर ऑटो के मीटर पर चली गई,तभी “भोला” ने ऑटो वाले से कहा की भाई साहब आप के ऑटो का मीटर तो बहुत फास्ट चल राहा है|कुछ तो गड़बड़ है तभी ऑटोवाला “भोला” सर गड़बड़ नही है 4G है, तब “भोला” ने अपने माता पिता से कहा की 4G से अच्छा तो 2G हि था कम से कम पैसे पर मीटर चलता था तभी “भोला” की माँ ने “भोला” से कहा की बेटा तु बहुत ही भोला है ईस दुनीया मे (सचे और भोले) लैगो के साथ हि येसा होता है | ऑटो वाला लडकी के घर पर भोला के परीवार को पहुचा कर चला जाता है|अब “भोला”और भी जादा सरमा रहा है, भोला बहुत जादा सरमाते हुये अन्दर जाता है तभी “भोला” की नजर लडकी पर चली जाती है और “भोला” लडकी के पिता से सरमाते हुये कहता है की पापा जी क्या मै आप की लडकी से मील सकता हुँ| तभी “भोला” की माँ ने “भोला” से कान मे धीरे से काहा की बेटा तु अपने साथ कहि ?”राखी” तो नहि लेकर आया है नही माँ राखी तो नही लाया हुँ माँ राखी भी लेकर आना था क्या नही बेटा मेने तो इस लिये पुछली क्यो की तु तो काफी जादा भोला है|तभी लडकी के पिता ने भोला से कहा की जाओ बेटा “भोला” मेरी बेटी से जाकर मील लो , अब ” भोला” लडकी से मीलने जाते है लडकी से जब “भोला” मीलता है तो “भोला” को कुछ समझ नही आता की क्या बोलू कुछ देर बाद “भोला” लडकी से कहता है की क्या मे कुछ सवाल आप से पूछ सकता हुँ|लडकी क्यो नही जरूर “भोला” का पहला ?(१)सवाल लडकी से शादी से पहले दुल्हे को हलदी क्यो लगाया जाता है? लडकी का जवाब- जब कोई लडका शादी के बाद मे हमारे बनाये खाने की तारीफ नही करता और पडोस वाली की खाने की तारीफ करता है तो हमे गुसा आता है और हम आप को बेलन से मारती है मारने के बाद हम औरते आप को दवा इस लीये नही देती है क्यो की हमे मालुम रहता है की शादी से एक दिन पहले आप लडको को काभी जादा हलदी लगाया गया होगा, हम कीतना भी आप को मारे आप को तो दर्द होगा ही नही क्यो की हलदी तो शादी के बाद से ही काम कर रही होती है,”भोला”सरमाते हुये दुसरा ?(२)सवाल पुछता है शादी मे दुल्हा घोडे पर सवार होकर पीछे क्यो चलता है, और (बैण्ड)DJ बाले आगे क्यो चलते है? लडकी का जवाब- यह DJ बाले आगे इस लीये चलते है की यह दुल्हे के लीये एक प्रकार का सीग्नल होता दुल्हे के लीये की अभी भी तुमहारे पास टाईम है वापस चले जाऔ नही तो आज हम (बौण्ड DJ) बजा रहे है कल कोई और ही तुमहारी बौण्ड बजाये गी| “भोला” यह बात सुनकर वहा से चल कर माँ के पास जाता है और कहता है की माँ मुझे “राखी ” लेकर ही आना चाहीये था,माँ क्या हुआ बेटा कुछ नही हुआ माँ बस आप और पिता जी यहा से चलीये नही तो मेरी बैण्ड बज जायेगी और आप को बहू के जगह पर एक बेटी मील जायेगी | माँ क्या बेटा तु सच मे माहा भोला है|

    Reply
  109. NILESH CHOUBEY

    एक बार मैने टीवी पर मास्टर शेफ़ इंडिया देखा था और इनस्पाइर हो गया था और उस दिन मेरी मा घर से बाहर गई हुई थी मैने सोचा की मे अपना खाना खुद मास्टर शेफ़ स्टाइल मे खाना बनौंगा तो मुझे धनिया पाउडर और कलर मेट के सुगंध मे अंतर नही पता चला और टीवी देखने के सुध मे मैने बनी बनाई गई सब्जी मे कलर मेट बिना पडे लिखे डाल दिया अओर फिर क्या मैने खुद तो नही खाया पर अपनी बेहेन
    पर इस एक्सपेरिमेंट किया| पर जो भी हो मुझे पता नही था की खाने मे कलर मेट डाला हुआ है मैने तो अपनी बहीन को इसलिए खिलाया क्यूंकी उसका टेस्ट आछा नही था |

    Reply
  110. jatin

    नौकरी की तलाष मे भटकते-भटकते एक दिन mere papa षहर आ पहूंचा, सौभाग्य सेpapa को शहर में काम मिल गया। एक दिन papa के मालिक ने उसे मनी आर्डर फार्म और कुछ रूपये दिये और कहा किli इन्हें मनीआर्डर कर आओ।

    मालिक की बात सुन papaमन ही-मन सोचने लगे कि तार से रुपये किस प्रकार जायेंगे ? उसने डाकघर में पहूंचकर तारबाबु से पुछा तो तार बाबु ने कहा क्यों नहीं चले जाते है।

    एक दिनpapa को वेतन मिला तो उन्हें याद आया कि उनकी बेगम ने चलते समय कहा था कि चमेली का तेल भेज देना। उन्होंने उसी समय चमेली के तेल की षिषी खरीदी ओर तार घर पहूंच कर कहा- इसे तार से भेज दिजिए। जल्दी पहूंच जायेगी।

    तार बाबु समझ गया कि यह कोई बेवकुफ आदमी है। उसने उससे तेल की शीशी लेकर रख ली और दिन papaवहां से चले आये। कुछ समय बाद घर से चिठ्ठी आई कि तेल की शीशी अभी तक नहीं आयी। क्या कारण है ?
    क्योंजी जल्दी के कारण तो मैने शीशी तार से भेजी थी और वह अब तक मेरे यहां नही पहूंची ? षेखजी ने थोडा झल्ला कर तारबाबु से पुछा बात यह हैं कि जब तुम्हारी शीशी तार से जा रही थी, तब किसी ने उधर से डंडा तार से भेज दिया था। तुम्हारी शीशी उस डंडे से टकराकर टुट गई।

    अब तुम ही बताओ मै क्या कर सकता हू? बाबू ने उत्तर दिया हां भाई इसमे तुम्हारा क्या दोष है? यदि मुझे वह डंडा भेजने वाला मिल जाये तो उसका सिर फोड दूं। यह कहकर वहंा से papa चले आये।

    Reply
  111. Nikits

    Hii, me nikita. Jo b abi tarak mehata ka ulta chashma me jo b shows dikhate he pure din me pure episode dikhayi ye ye meri request he kyonki adha episode badame dekh nahi sakte esliye or bich me koi b dusra serials mat daliye maja nahi ata dekhane tarak mehta ka ulta chashma. plz its humble request he.

    Reply
  112. Rushikesh deshmukh

    Tarak mehta ka ulta chashma me fir SE ek baar GPL 4 dikha dijiye plzzzzzz

    Reply
  113. chetan aggarwal.

    Hii me chetan
    Mere paas ek se ek funny kahani h jo aapki khidki show ko famous kar de gi.
    My contact no.08053874178
    WHATSAPP NO..08053874178

    Reply
  114. hafijur Rahman khan

    २०१५ की बात है जब मे और मेरा दोसत कोलेज मे एडमीसन लेने कानपूर गये थे ,कानपूर पहूचने मे हमे देरी हो गई थी पर कोलेज हम कीसी तरह हम दोनो पहुच ही गये, वहा पहुचने के बाद हम सीधे कोलेज के औफीस मे गये और सर से मीले तो सर ने हम दोनो से कहा की बेटा आप दोनो लेट हो गये हो कोलेज बन्द होने का समय हो गया है एडमीसन अब कल होगा यह सुनकर मेरे दोसत ने कहा की सर अभी दो मीनट समय है कोलेज बन्द होने मे इतने टाईम मे तो हमारा एडमीसन होही जाये गा सर सोचने लगे और हमसे कहा की ठीक है आज तुम दोनो का एडमीसन हो जायेगा हम दोनो का एडमीसन होने के बाद हम दोनो वहा से होसटल बूक करने गये होसटल बुक करबाकर हम बहा रूक गये अगले दिन सुबह हमे दोनो कोलेज मे गये तो कोलेज मे कुछ सीनीयर लोगो ने हमे बुलाया और हम दोनो से हमारा नाम पुछा और फीस हमे अपने कलास मे जाने को कहा हम दोनो कलास करने चले गये , कलास मे जाके देखा तो कलास मे कोइ भी नही था तब मेरा दोसत ने मुझसे कहा की लगता है हम दोनो जल्दी कोलेज आ गये है फीस मुझे भी लगा की वाकई मे हम दोनो जलदी ही कोलेज मे आ गये है तभी कलास के बगल से एक सर जा रहे थे उनहो ने दोनो को देखा और बोला बेटा आप दोनो का कलास का दिन है| नही है आज तो आप का practical का दिन है हम दोनो work shop मे practical के लीये पहुचे तो देखा की सारे लडके practical कर रहे थे तभी work shop मे जो सर थे उनहो ने हमे बुलाया और बोलने लगे की तुम दोनो तो पहले ही दिन work shop मे ईतनी जलदी आये हो की लगता है की यहा के टीचर आप लोग हो और हम यहा के students मै यह सुनकर हसने लगा तो सर ने मुझे डाटने लगे पर मेरी हसी रूक ही नही रही थी तो सर कुछ देर सात रहे जब मेरी हसी रूकी तो सर ने पुच्छा की तुम ईतना हस क्यो रहे थे मेने सर से कहा की सर मे बचपन से ही हस मुख हुँ तो सर भी हसने लगे फीर सर ने हमे practical करने को कहा हम दोनो practical करने लगे practical करते- करते हमे 5घन्टा हो गया पर हम लोगो का practical पूरा नही हो पाया और सर ने बोला की आज का काम यही रोक दो बाकी का काम अब अगले दीन होगा | क्यो की कोलेज का छुटी का समय हो गया है , छुटी होने के बाद हम होसटल मे गये आर रूम मे जाकर आराम कर ही रहे थे की एक सीनीयर हमे बुलाने आया हम सभी जुनीयर नीचे एक रूम मे जाकर बैठ गये भीर ऊसी रूम मे सारे जुनीयर और सारे सीनीयर आकर बोठ गये हमे लगा की आज सारे सीनीयर हमे party देने बाले है क्यो की होसटल मे हम सभी लडके new थे | पर येसा कूछ भी नही था सारे सीनीयर हम मासुम जुनीयरो की रैगीग लेने के लीये बुलाये थे | रैगीग का नाम ही सुनकर हम सारे लौग कापने लगे उसी समय मैने अपने दोसत की और देखा तो मे उसे देख कर चोक गया क्यो की वह हस रहा था मेने सोचा की बेचारा पागल होगया उसने मेरे तरफ देखा और धीरे- धीरे हस रहा था मेने उससे पूच्छा की तु पागल हो गया है क्या उसने मूझे इसारा कीया की आगे देख भाई मेने आगे देखा तो कुछ नही दिखा मेने उससे कहा क्या दिखा रहा है| बे कुच्छ भी तो नही है उसने हसते हुये कहा की तु देख कहा तु बैठा है,उसने जब यह बोला तो मेरे पसीने छूटने लगे क्यो की मे सबसे आगे बैठा हुआ था , रैगीग आगे से ही होने वाला था ( मैने मन ही मन आपने दोसत को गाली दे रहा था) तभी मुझे एक idea आया की जब सीनीयर मूझे खडा करवाये गे तो मे बेहोस हो जाने का नाटक करु गा सीनीयर ने मुझे जैसे ही खडे होने को कहा ही की मेने बेहोस होजाने का नाटक कर दिया सीनीयरो ने मुझे उस रूम से बाहर नीकाल कर मेरे रूम मे छेड दिया और वहा से वह चले गये , उनके चले जाले के बाद मै अपने रूम मे खूूब हसा और मै सोच रहा था की मेरे दोसत भी तो बहा बेचारा फसा हुआ है मेने उसे बचाने के लीये आपने मोबाईल से होसटल के वारडेन को फोन कर के बताया की सर आप होसटल मे room No 121 मे पहुचीये यहा पर सीनीयर रैगीग ले रहे है यह सून कर वारडेन सर गये और सभी जूनीयरो को वहा ले नीकाल कर अपने – अपने रूम मे जाने को कहा , जब मेरा दोसत रूम मे आया तो मुझसे कह रहा है की भाई अब तेरी तबीयत सही है ना मेने उससे कहा की तेरी रैगीग कैसी हुई तो बह बोलता है की क्या बताऊ यार मेरी रैगीग हो जाने के बाद ही साले उस वाडन को आना था पहले नही आसकता था | मेने उससे कहा की चल जो होता है सब अच्छे के लीये ही होता है| उस दीन के बाद से ही वह रोज परेसान सा रहने लगा था उसका पढाई मे भी कोई मन नही लग रहा था जब मे उसे पढाई करने को कहता की मेरा मन नही है,और जब मेस मे खाना खाने को जाने को कहता तो वह तुरत ही चलने को तेयार हो जाता और कहता की फैल तो होना ही है कम से कम मैस का पुरा पैसा वसुल कर के जाऊ|

    Reply
  115. sameer solanki

    Ek topi wala tha gaon Gaon me jakar topi bechta tha Kali pili nili safed rangbirangi topi bechta that ek din thakar ek ped keniche so gaya USS ped par bahot safe bandur bathe the bandar niche aaye air topi wale ki sari topi pahnli kuchderbaad topiwala utha USNR dekha ki sari topi ya bandaro me pahanli hair USne bahot koshish ki topilene ki thak gaya fir ek idea aya USNR apni pahni hui topi nikal kar zamin pafenk di WO dekhakar sabhi bandaro ni apne topi zameen par fenk di khushi me made Topi wala Sab topi uthakar bhaga haste haste apne GHAR gaya

    Reply
  116. Lovish jindal

    pls ak bar tarak mehta ka oltaah chasmha ma ak bar gpl 4 dekha dejeyaa

    Reply
  117. MD Sohail khan

    बाप बेटे की फनी स्टोरी – गीता ज्ञान ना बाँटे

    पिता : ओ बेवकूफ़।
    मैंने तुमको गीता दी थी पढ़ने के लिए क्या तुमने गीता पढ़ी ? कुछ। दिमाग मे घुसा।
    पुत्र : हाँ पिताजी पढ़ ली, और अब आप मरने के लिए तैयार हो जाओ

    ( कनपटी पर तमंचा रख देता है )

    पिता : बेटा ये क्या कर रहे हो ? मैं तुम्हारा बाप हूँ ।
    पुत्र: पिताजी , ना कोई किसी का बाप है और ना कोई किसी का बेटा । ऐसा गीता में लिखा है ।
    पिता : बेटा मैं मर जाऊंगा ।
    पुत्र : पिताजी शरीर मरता है । आत्मा कभी नही मरती! आत्मा अजर है, अमर है ।

    पिता : बेटा मजाक मत करो गोली चल जाएगी और मुझको दर्द से तड़पाकर मार देगी ।
    पुत्र : क्यों व्यर्थ चिंता करते हो ? किससे तुम डरते हो । गीता में लिखा है-
    नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि, नैनं दहति पावकः
    आत्मा को ना पानी भिगो सकता है और ना ही तलवार काट सकती, ना ही आग जला सकती । किसलिए डरते हो तुम ।

    पिता : बेटा! अपने भाई बहनों के बारे में तो सोच, अपनी माता के बारे में भी सोच ।
    पुत्र : इस दुनिया में कोई किसी का नही होता । संसार के सारे रिश्ते स्वार्थों पर टिके है । ये भी गीता में ही लिखा है ।

    पिता : बेटा मुझको मारने से तुझे क्या मिलेगा ?
    बेटा : अगर इस धर्मयुद्ध में आप मारे गए तो आपको स्वर्ग प्राप्ति होगी । मुझको आपकी संपत्ति प्राप्त होगी ।

    पिता : बेटा ऐसा जुर्म मत कर ।
    पुत्र : पिताजी आप चिंता ना करें। जिस प्रकार आत्मा पुराने जर्जर शरीर को त्यागकर नया शरीर धारण करती है, उसी प्रकार आप भी पुराने जर्जर शरीर को त्यागकर नया शरीर धारण करने की तयारी करें ।

    अलविदा ।
    Moral- कलयुग की औलादों को सतयुग, त्रेतायुग या द्वापर युग की शिक्षा नहीं दे..

    Reply
  118. MD Sohail khan

    बरसात पैसों की

    “अरे तनेजा जी!…ये क्या?…मैँने सुना है कि आपकी पत्नि ने आपके ऊपर वित्तीय हिंसा का केस डाल दिया है”….

    “हाँ यार!…सही सुना है तुमने”मैँने लम्बी साँस लेते हुए कहा

    “आखिर ऐसा हुआ क्या कि नौबत कोर्ट-कचहरी तक की आ गई?”…

    “यार!…होना क्या था?..एक दिन बीवी प्यार ही प्यार में मुझसे कहने लगी कि तुम्हें तो ऐसी होनहार….सुन्दर….सुघड़ और घरेलू पत्नि मिली है कि तुम्हें खुश हो कर मुझ पर पैसों की बरसात करनी चाहिए”…

    “तो?”…

    ‘”मैँने कहा ठीक है”…

    “फिर?”…

    “फिर क्या?…एक दिन जैसे ही मैँने देखा कि बीवी नीचे खड़ी सब्ज़ी खरीद रही है…मैँने आव देखा ना ताव और सीधा निशाना साध सिक्कों से भरी पोटली उसके सर पे दे मारी”…

    Reply
  119. Mohammad Faiz

    Ek baar hum apni behen ko ice-cream khilane ice-cream parlour le gaye lekin mere pass Jo paise the wo kisi me chori kar liye aur wo bahut zid kar rahi thi ki mujhe ice-cream khani hai to mere dimag me idea aaya Maine apni behen se kaha tum neeche baith jao aur ice-cream catch karti jao phir Maine shop keeper se ice-cream mangi aur hamne chhod di aur meri behen me catch kar li phir mujhe shopkeeper ne ek aur ice-cream de di use laga ki mughse galti se choot gayi phir Maine doosri ice-cream bhi chhod di aur meri behen ne catch kar li aur phir mane shopkeeper ko mama kar diya doosri ice cream dene ke liye aur Maine aur meri behen ne free ki ice-cream kha li

    Reply
  120. ROHIT PATEL

    एक बार एक लड़का और एक लड़जी ट्रेन म जा रहे थे।
    तो लड़की ने लड़जे से कहा जानु मेरे सर म दर्द हो रहा ह। तो लड़का उसके सर पर एक किस करता ह और पूछता ह अब ठीक ह। तो लड़की हा बोलती ह।
    कुछ देर बाद लड़की लड़के से बोलती ह जानु मेरे हाथ म दर्द हो रहा ह । लड़का तुरन्त फ्हिर एक किस करता ह । और लड़की से पूछता ह अब ठीक ह और लड़की बोलती हा ठीक ह ।
    तभी ऊपर बेठा एक बूढ़ा ये सारी बाते देखने और सुनने के बात बोलता ह।
    बेटा क्या तुम बवासीर का भी इलाज करते हो क्या।

    Reply
  121. ROHIT PATEL

    Sorry kuch nam m galti ho gai h
    Plzzzz samjh jana or mafh krna

    Reply
  122. Gurpreet singh

    mein jab bachpan mein tha to mere pita ji ghar me bhans le kr aye.mein bahut kush hua.meine bhans ki kub sewa ki,par jab mein use pani pelane laga,to usne jase hi pani mu me dala tab use pesab aa gayea.
    Or mein chilne laga mane apne pita ko bola ki hamse kisi ne dokha kiyea hai bhans hame fati hui de di hai .

    YEH ME MERE BACHPAN KI KHANI. (Name Gurpreet Singh #276 damesh colony balongi mohali Punjab cont no 9115263207)

    Reply
  123. Harshit soni

    Papu ka ek din goda kho gya tha tb papu ki patni ne kha ki rumhara goda kho gya he or tum khus ho .papu ne kha jb goda khoya tha tb me uske sat nhi tha varna me bhi kho jata ☺☺☺☺☺☺

    Reply
  124. C N Bhains Rajput

    Mai apne dost ko car chalana sikha raha tha to mene usko kaha ki car chalate huya car ko morne se pahle indicator on karna parta hai ager right morna ho to left ka indicator on karna parta hai or ager left morna ho to right ka indicator on karna hota hai ya to apna 1 hath bahar nikal kar car ko morna parta hai isse pichhe aane wale logo ko pata chal jata hai ki yai car kis taraf morega to usne thori he der mai samne wali car ko thok diya to mene usko gusse mai danta ki tuje kaha thana ki car morte huya indicator dabana ya hath bahar nikalna parta hai to usne kaha ki mene to hath bahar nikala tha mager car to mudi he nahi
    Contact number. 9971602257

    Reply
  125. nilesh soni

    Ek bar papa ko apne bete dimag test karne ka mann hua. Usake 2 bete the sonu @ monu

    Papa ne bade bete sonu ko 500 rs diya or kaha monu mat batana ki maine tume 500 rs diya hai

    Or papa monu ke paas gai or use 100 rs diya or kaha monu ko mat batana.

    Papa ne apne dono beto ko bulya or usne sonu se puchha maine tumhe 500 diya hai or monu ko 100 diya hai to tum kya karoge sonu ne kaha mai apne mese 200 monu ko de dunga papa ne kaha good boy

    Or monu ko puchha mai sonu ko 500 rs diya hai or tumhe 100 papa age kuchh bole use pahle monu papa ab to sailab aayega is ghar mai

    Papa ?

    Reply
  126. Ekta Mohanty

    Mera birthday 28th October ko hai
    Mere 8th birthday ko mene ak long frock pehena tha
    mere dostone bhi ache ache dresses pehenethe
    to mere hi birthday me mere hi didi pucha
    ki aaj tumhara birthday hai

    Reply
  127. pritesh radhanpura

    funny kahani
    keise uplode karen

    Reply
  128. Kunj acharya

    Me ak din mandir gaya tha ak bacha bol raha tha ki:he bhagavan sadka bhala karana to mene suna or me bola:asenahi kahate manganahe to ase mang:he bagavan sab ka dhala karana or sarbat mujase karna????????????????????

    Reply
  129. Kunj acharya

    Ak me fan tha ak din osane muj se pu cha ki:kas chin ki dival kas india me hoti to kaya hota mene ansar diya:to to vo india ki sab se badi mutardi hoti???????????????????

    Reply
  130. hussain

    1 din ek mam ne ek ladke ko kha kal koi bhi 5sentence yad kar ke ana
    Vo gar gaya
    Usne mouse ko dekha Vo jor se Chilaya mouse mouse 1line ho gai
    2line Vo monkey ko uski terris pe dekha Vo Chilaya monkey niche a jao monkey niche a jor
    3 Vo ipl dekh rha that dhoni ne jor se shot Mara Vo chilaya good shot good shot
    4 Vo sholy picture dekh rah ho Ta he use andar gabbar sambha ko kich Ta he chal samba chal
    5 Vo school jane ke liya mikle Ta he 1 bhikaran use pees mange the he Vo khta he hat bhikaran
    Vo school gaga uski mam ne use khan koi bhi 5 sentence sunao
    Vo chilaya ke khta he mouse mouse uski mama dar ke almaree ke upre char jati he Vo Kita he monkey come come down monkey comedown use mam usko jot se chats marti he Vo Kita he good shot good shout uski mam usko kich ke princeple ke pas le jai Vo Kita he chalk samba chalk Vo principle ke pas jata principle khyi tumne tamari school ki nose Kata di Vo Kita he hat bhikharan

    Reply
  131. Parvez Nayak

    I am comeing from ” khidki “

    Reply
  132. Prince maggo

    1 boy 1 School me padta hai Zee School us school ma 2 girls h usa 24 hour vo Ladki Yaad Aati Hai Woh Ladki Bahut Pyar Karti Hai par va bar kisi ko nahi pata
    ki vo 1 dusra sa love karta h kuch dino ka bad vaha par 1 aur ladka aa jata h vo us girl sa love karna lagta h aur va bat us ladka ko pata chal jati h ………..

    sir aaga ki story funny h
    aap mara sa mila tab bat kara ga
    sir m aapka show ko hit bana duga

    Reply
  133. abrar hazari

    mera name abrar hai mai bangaloer me rahta hoo mere paas koi funny kahani to nahi hai mai sab tv se ek mauka chahata hu ki sab tv mujhe ek mauka de take mai bhi sab tv apna hunar dikha saku mai yeh umid karta hu ki sab tv mujhe ek mauka jarur denge

    khush raho sabtv khush raho

    my no.{8123886523,9066069534,9066069531}

    Reply
  134. MD Sohail khan

    संता और सर्दी – हास्य कहानी

    एक बार संता को गांव का सरपंच बना दिया गया. गांव वालों ने सोचा कि छोरा पढ़ा-लिखा है, समझदार है, अगर ये सरपंच बन गया तो गांव की भलाई के लिए काम करेगा.

    मौसम बदला, सर्दियों क

    Reply
  135. MD Sohail khan

    झोलाछाप डाक्टर

    कसम ले लो मुझसे…’खुदा’ की…या फिर किसी भी मनचाहे भगवान की…..तसल्ली ना हो तो बेशक!…’बाबा रामदेव’के यहाँ मत्था टिकवा के पूरे सात के सात वचन ले लो जो मैँने या मेरे पूरे खानदान में….कभी किसी ने ‘वी.आई.पी’ या ‘अरिस्टोक्रैट’के फैशनेबल लगेज के अलावा कोई देसी लगेज जैसे…थैला….बोरी…कट्टा…ट्रंक …अटैची…या फिर कोई और बारदाना इस्तेमाल किया हो। कुछ एक सरफिरे अमीरज़ादे तो ‘सैम्सोनाईट’का मँहगा लगेज भी इस्तेमाल करने लग गए हैँ आजकल। आखिर स्टैडर्ड नाम की भी कोई चीज़ होती है। लेकिन इस सब में भला आपको क्या इंटरैस्ट?…आपने तो ना कुछ पूछना है …ना पाछना है और…सीधे ही बिना सोचे समझे झट से सौ के सौ इलज़ाम लगा देने हैँ हम मासूमों पर।मानों हम जीते-जागते इनसान ना होकर कसाई खाने में बँधी भेड़-बकरियाँ हो गयी कि….जब चाहा…जहाँ चाहा….झट से मारी सैंटी और….फट से हाँक दिया।
    अच्छा लगता है क्या कि किसी अच्छे भले सूटेड-बूटेड आदमी को ‘छोला छाप’ कह उसकी पूरी पर्सनैलिटी …पूरी इज़्ज़त की वाट लगाना? मज़ा आता होगा ना आपको हमें सड़कछाप कह…हमारे काम…हमारे धन्धे की तौहीन करते हुए? सीधे-सीधे कह क्यों नहीं देते कि अपार खुशी का मीठा-मीठा एहसास होता है आपको…हमें नीचा दिखाने में?….वैसे ये कहाँ की भलमनसत है कि हमारे मुँह पर ही…हमें…हमारे छोटेपन का एहसास कराया जाए?
    ये सब इसलिए ना कि हम आपकी तरह ज़्यादा पढे-लिखे नहीं…ज़्यादा सभ्य नहीं….ज़्यादा समझदार नहीं? हमारे साथ ये दोहरा मापदंड…ये सौतेला व्यवहार इसलिए ना कि…हमारे पास ‘डिग्री’ नहीं…सर्टिफिकेट नहीं? मैँ आपसे पूछता हूँ… हाँ!…आप से कि हकीम ‘लुकमान’ के पास कौन से कॉलेज या विश्वविद्यालय की डिग्री थी? या ‘धनवंतरी’ ने ही कौन से मैडिकल कॉलेज से ‘एम.बी.बी.एस’ या…’एम.डी’ पास आऊट किया था? सच तो यही है दोस्त कि उनके पास कोई डिग्री नहीं थी…कोई सर्टिफिकेट नहीं था।…फिर भी वो देश के जाने-माने हकीम थे….वैद्य थे…लाखों-करोड़ों लोगों का सफलतापूर्वक इलाज किया था उन्होंने।”क्यों है कि नहीं?”
    उनके इस बेमिसाल हुनर….इस बेमिसाल इल्म के पीछे उनका सालों का तजुर्बा था…ना कि कोई डिग्री…या फिर कोई सर्टिफिकेट। हमारी ‘कँडीशन’भी कुछ-कुछ उनके जैसी ही है याने के…’ऑलमोस्ट सेम टू सेम’ बिकाझ…जैसे उनके पास कोई डिग्री नहीं…वैसे ही हमारे पास भी कोई डिग्री नहीं…सिम्पल।

    वैसे आपकी जानकारी के लिए मैँ एक बात और बता दूँ कि ये लहराते …बलखाते बाल मैँने ऐसे ही धूप में हाँडते-फिरते सफेद नहीं किए हैँ बल्कि..इस डाक्टरी की लाईन का पूरे पौने नौ साल का प्रैक्टिकल तजुर्बा है मुझे। और खास बात ये कि ये तजुर्बा…ये एक्सपीरिएंस मैँने इन तथाकथित ‘एम.बी.बी.एस’या ‘एम.डी’ डाक्टरों की तरह….लैबोरेट्री में किसी बेज़ुबान ‘चूहे’या’मैँढक’का पेट काटते हुए हासिल नहीं किया है बल्कि…इसके लिए खुद इन्हीं…हाँ!…इन्हीं नायाब हाथों से कई जीते-जागते ज़िन्दा इनसानो के बदन चीरे हैँ मैँने।

    “है क्या आपके किसी ‘डिग्रीधारी’डाक्टर या फिर…मैडिकल आफिसर में ऐसा करने की हिम्मत?…..ऐसा करने का माद्दा?” “और ये आपसे किस गधे ने कह दिया कि डिग्रीधारी डाक्टरों के हाथों मरीज़ मरते नहीं हैँ?” रोज़ ही तो अखबारों में इसी तरह का कोई ना कोई केस छाया रहता है कि फलाने-फलाने सरकारी अस्पताल में फलाने फलाने डाक्टर ने लापरवाही से…आप्रेशन करते वक्त सरकारी कैंची को गुम कर दिया।…”अब कर दिया तो कर दिया लेकिन नहीं…अपनी सरकार भी ना…पता नहीं क्या सोच के एक छोटी सी…अदना सी…सस्ती सी…कैंची का रोना ले के बैठ जाती है। ये भी नहीं देखती कि कई बार बेचारे डाक्टरों के नोकिया ‘एन’ सीरिज़ तक के मँहगे-मँहगे फोन भी….मरीज़ों के पेट में बिना कोई शोर-शराबा किए गर्क हो जाते हैँ…धवस्त हो जाते हैँ लेकिन…शराफत देखो उनकी…वो उफ तक नहीं करते…चूँ तक नहीं करते। अब कोई छोटा-मोटा सस्ता वाला चायनीज़ मोबाईल हो तो बन्दा भूल-भाल भी जाए लेकिन….फोन…वो भी नोकिया का…और ऊपर से ‘एन’सीरिज़…कोई भूले भी तो कैसे भूले? अब इसे कुछ डाक्टरों की किस्मत कह लें या फिर…उनका खून-पसीने की मेहनत से कमाया पैसा कि उन्होंने अपने फोन को बॉय डिफाल्ट…..’वाईब्रेशन’मोड पे सैट किया हुआ होता है। जिससे…ना चाहते हुए भी कुछ मरीज़ पूरी ईमानदारी बरत पेट में बार-बार मरोड़ उठने की शिकायत ले कर…उसी अस्पताल का रुख करते हैँ जहाँ उनका इलाज हुआ था।
    वैसे ‘बाबा रामदेव’ झूठ ना बुलवाए…तो यही कोई दस बारह केस तो अपने भी बिगड़ ही चुके होंगे इन पौने नौ सालों में लेकिन….इसमें इतनी हाय तौबा मचाने की कोई ज़रूरत नहीं। आखिर इनसान हूँ…गल्ती हो भी जाती है। लेकिन अफसोस!..सं

    Reply
  136. MD Sohail khan

    “सांता ज़रूर आएगा”

    “यूँ तो अभी भी कुछ महीने बाकि थे’बडा दिन’आने में लेकिन…
    बच्चे तो बच्चे होते है….
    “उनके लिए क्या आज और क्या कल?”
    “स्कूल की डायरी में क्या पढ लिया कि….
    तीन महीने बाद’बडे दिन’की छुट्टियाँ आने वाली हैँ,
    सो ….अभी से चहकना चालू हो गया उनका कि….
    “सांता क्लाज़ आएगा”….
    “सांता क्लाज़ आएगा”…और…
    “नए-नए तोहफे लायेगा”
    “उन बेचारों को क्या मालुम कि’ग़िफ्ट’तो हर साल चुपके से तकिए के नीचे उनके’मामू’ही रख जाते थे हमेशा”
    “वो मासूम तो यही समझते कि ये सब’सांता’करता है”…
    सो…उसी का गुणगान करते नहीं थकते थे”

    “मैँ इसी उधेड्बुन में फंसा था कि कैसे समझाऊँ बच्चों को कि….
    इस बार कोई’सांता’नहीं आने वाला”
    “वजह!..उनका मामा जो इस बार इंडिया में नहीं.. बल्कि’अमेरिका’में है”
    “सो…’गिफ़्ट्स’का तो सवाल ही नहीं पैदा होता”
    “मेरे हिसाब से तो उन्हें सच्चाई से रुबरू करवा ही देना ही बेहतर रहता,
    इसलिये मैने भी दो टूक जवाब दे दिया कि …
    “कोई’सांता-वांता’नहीं आने वाला है इस बार,लेकिन…
    बच्चे तो बच्चे …विश्वास ही नहीं हुआ मेरी बात पर ”
    “उन्हें अपने विश्वास पे कायम देख,मैँ भी पूरी तरह से ज़िद पे अड बैठा कि….
    “मैँ तो दुअन्नी भी नहीं खर्चा करूँगा अपने पल्ले से”
    “रोते हैँ तो बेशक रोएँ”
    “अगर वो ज़िद पर अड सकते हैँ तो मैँ क्यों नहीं?”
    “आखिर बादशाह हूँ मैँ इस घर का ….कोई ऐंवे ही नहीं”
    “कह दिया तो बस कह दिया”
    “अपने टाईम पे हमने कौन सा ऐश कर ली जो इन्हें करवाता फिरूँ?”
    “लेकिन दिल के किसी कोने में एक सवाल सा उठ रहा था बार-बार कि..
    “क्या मेरी औलाद भी उस सब के लिए तरसती रहेगी?….
    जिस-जिस के लिए मै तरसा?”
    “क्या इन मासूमों ने पैदा होकर गुनाह किया है?”
    क्या इनकी कोई हसरतें नहीं हो सकती?”
    “क्या इनको भी मेरी तरह ही घुट-घुट कर जीना पडेगा?”
    “क्या इनके अरमान सिर्फ अरमान ही बनकर रह जाएँगे?”
    “कभी पूरे नहीं होंगे इनके सपने?”
    “ध्यान पुरानी यादों की तरफ जाता जा रहा था…
    “हमारे बाप-दादा ने कभी हमें ऐश नहीं करवाई”….
    “वो खुद तो पूरी ज़िन्दगी नोट कमा-कमा के थक गये लेकिन…
    एक दुअन्नी भी खर्चा करना जैसे हराम था उनके लिये”
    “तो भला कैसे लुटाते फिरते किसी दूसरे पे अपनी दौलत?”
    “निन्यानवे के फेर में जो पड चुके थे”
    “सो लगे रहे उसी चक्कर में”
    “कभी बाहर ही नहीं निकल पाए”
    “लेकिन क्या फायदा?”
    “जब बाड ही खेत को खा गयी”
    “जिन पर भरोसा किया…उन्होने ही बेडा गर्क करने में कोई कसर नहीं छोडी”
    “जिसके हाथ जो लगा,उसने उसी को सम्भाल लिया”
    “किसी ने’गोदाम’तो किसी ने’खेत’,…
    “किसी ने’प्लाट’पे कबज़ा जमा लिया…
    तो कोई’नकदी’पे नज़र गडाए बैठा था”
    “तो कोई दूर का अनजाना सा रिश्तेदार’सेवा’करने के नाम पे चिपका बैठा था”
    “तो कोई मन्दिर बनवा स्वर्ग जाने का रास्ता सुझा रहा था”
    “आखिर मन्दिर का ट्रस्टी उसे ही जो बनना था”
    “असल में तो सबको अपनी-अपनी ही पडी थी”…
    “तगडा माल जो हाथ लगने की उम्मीद थी”
    “लेकिन ऊपरवाले के घर देर है पर अन्धेर नहीं…
    “जाको राखे साईयाँ…मार सके ना कोए”
    “ऐन मौके पर सब कुछ हाथ से निकलता देख हमारे बुज़ुर्गों में सुलह हो गयी”…
    “आखिर उनकी आपसी फूट का ही तो ये सब नतीज़ा था कि….
    घरवाले खडे देखते रह गये और कुत्ते मलाई चाटते चले गये”
    “इतना सब कुछ होने के बाद भी हालत कुछ खास बुरे नहीं थे हमारे,…
    काफी कुछ अब भी बचा रह गया था लेकिन…
    शायद इतना सबक काफी नहीं था हमारे बुज़ुर्गों के लिये”…
    “अब भी पैसे के पीर बने बैठे हैँ”…
    “छाती से लगाए बैठे हैँ दौलत को”…
    “ये भी भूले बैठे हैम कि ..
    एक ना एक दिन तो सभी को ऊपर जाना है ”
    “फिर ये सब भला किस काम आएगा?”
    “कौन मज़े लूटेगा इसके?”
    “क्या फायदा ऐसी दौलत का जो किसी काम ना आए?”
    “खर्च ना कर सको जिस दौलत को,ऐसी नकारा दौलत वो बे मतलब की है”
    “अभी जोडते रह जाओ ,..बाद में पराए लूट ले जाएँ सब”
    “बस घडी-घडी ताकते फिरो अपनी तिजोरी को…
    बाद में पता चले कि बाहर तो ताला लटका रह गया और…
    अन्दर ही अन्दर माल-पानी कोई और ले उडा”
    “अरे समझो कुछ ….पैसा बना ही खर्च करने के लिए है”….
    “तो फिर खर्च करो ना यार!…”
    “किस घडी का इनतज़ार है आपको?”
    “मेरा पूरा बचपन खिलौनों के लिए तरसता रहा लेकिन….नहीं मिले”
    “जवान हुआ तो मोटर बाईक के लिये तरसता रहा लेकिन….
    नहीं मिलनी थी,…सो नहीं मिली”
    “उल्टा जवाब मिला कि…”पूरी दुनिया बसों में धक्के खाती फिरती है….
    सो…तुम भी खाओ”
    “पढाई में भी तो इसी चक्कर में पिछड गया था मैँ….
    जब’नई किताबों’और’ट्यूटर’लगवाने की बात की तो जवाब मिला…
    ‘सैकेंड हैंड’मिलती हैँ बाज़ार में…ले आओ…”
    “और ये’ट्यूटर-ट्यूटर’क्या लगा रखा है?”
    “अपने आप पढो”
    “हमने भी अपने आप पढाई की है’लैम्प पोस्ट’के नीचे बैठे-बैठे”
    “शुक्र करो कि तुम्हारे सर पे छ

    Reply
  137. MD Sohail khan

    “डंडा किसका है?”

    एक बार एक सरदार जी को किसी आदमी ने ताना मारा
    “ओ सरदार जी ,आपकी तो हिन्दोस्तान मैं कोई कदर ही नहीं है “.

    सरदार:”ओये, क्या बकवास कर रहा है?”

    आदमी:”नहीं जी मैं सच कह रहा हूँ , आपकी तो इस देश मैं कोई कदर ही नहीं है.”

    सरदार:”ओये हुन्न तू फालतू बोला ना , तो मैं तेरा मुह तोड़ दूँगा.”

    आदमी;”ओ जी मैं साबित कर सकता हूँ.. जी.’
    सरदार:’ओये…फिर कर के तो दिखा.”

    आदमी:”सरदार जी ,हिंदुस्तान के झंडे मैं तीन रंग होते हैं ना ?”
    सरदार;’हाँ होते हैं… फिर?”

    आदमी:”कौन…कौन से होते हैं जी?”
    सरदार;”ओये…”संतरी”, “सफ़ेद” और “हरा”…फिर?”

    आदमी:”संतरी” रंग तो हिंदूओ का हो गया.”
    सरदार:”फिर?”

    आदमी:”सफेद…रंग..तो..जैन..धर्म वालो का हो गया ”
    सरदार:”ओये..फिर मैं क्या करूँ?”

    आदमी:”सरदार जी पेहले पूरी बात तो सुन लो.”
    सरदार:”चंगा .. हुन्न बोल फटाफट.”

    आदमी:”और ये जो हरा रंग है ,वो तो मुस्लिम भाइयों का हो गया.”
    सरदार:”ओये फिर मैं की कराँ ?”

    आदमी:”इस झंडे मैं तो आप सरदारों का तो कुछ भी नहीं है.”
    सरदार:”ओये ये डंडा तेरे प्यो(बाप)दा है?”

    Reply
  138. MD Sohail khan

    “चौथा खड्डा”

    बंता:संता सिंह जी!..ये खड्डा किसलिए खोदा जा रहा है?”

    संता:ओ!..कुछ नहीं जी मुझे अमेरिका जाना है ना…इसलिए”

    बंता:अमेरिका जाना है?”

    संता:हाँ जी!..”

    बंता:अमेरिका जाने के लिए खड्डा खोदना जरूरी है?

    संता:ओ!..कर दी ना तूने सरदारों वाली गल्ल…

    बेवाकूफ पॉसपोर्ट बनवाने के लिए फोटो चाहिए होती है कि नहीं?

    बंता:फोटो तो चाहिए होती है लेकिन…फोटो से खड्डे का क्या कनैक्शन है?

    संता:अरे बेवाकूफ!पॉसपोर्ट फोटो में कमर के ऊपर का हिस्सा आना चाहिए…

    इसलिए कमर तक गहरे खड्डे खोद रहा हूँ ताकि नीचे का हिस्सा कैमरे में न आए

    बंता:लेकिन यहाँ तो आप आलरैडी तीन खड्डे पहले ही खोद चुके हो…फिर ये चौथा क्यों?

    संता:बेवाकूफ पॉसपोर्ट में चार फोटो लगानी पडती हैँ”

    Reply
  139. MD Sohail khan

    “दुनिया आपकी जेब में”

    “हाँ!. ..हाँ!….

    “जी हाँ”…

    “एक रास्ता”…..

    “सिर्फ’एक-इकलौता’रास्ता….

    इस गलाकाट प्रतियोगिता से निबटने का”…

    “जी हाँ!…”

    “सिर्फ एक कदम”…

    “या फिर”…

    “एक सही फैसला”…और

    “आप दुनिया की भीड में’सबसे अलग’…

    ‘सबसे जुदा’…

    ‘सबसे आगे’होंगे”

    “मीलों आगे”…

    “कोई’कम्पीटीटर’आस-पास भी नहीं फटक पाएगा

    “बस एक!..’सीधा-सरल’रास्ता और….

    “दुनिया आपकी मुट्ठी में”या यूँ कहें कि….

    “दुनिया आपकी जेब में होगी”

    …….

    Reply
  140. MD Sohail khan

    “गधे के पीछे गधा”

    “सरदार संता सिंह अँग्रेज़ी का माना हुआ टीचर था”

    “उनके विधार्थी हमेशा अव्वल आते थे”

    “एक दिन स्कूल की इंस्पैकशन थी”….

    “इंस्पैक्टर ने अँग्रेज़ी कक्षा का इम्तिहान लेने की सोची और…

    वो चुपचाप क्लास के बाहर खडा होकर सुनने लगा कि…

    संता सिंह क्या पढा रहा है?”

    “इंस्पैक्टर बेचारा परेशान कि ये कैसी…किस तरीके की पढाई हो रही है?”

    संता सिंह:”बोलो बच्चो!…’गधा’…”

    सभी बच्चे:”गधा”…

    संता सिंह:”बोलो बच्चो!…गधा..गधे के पीछे गधा”

    सभी बच्चे:”गधा…गधे के पीछे गधा”

    संता सिंह:”बोलो बच्चो!…गधा..गधे के पीछे गधा,गधे के पीछे मैँ”

    सभी बच्चे:”गधा..गधे के पीछे गधा,गधे के पीछे मैँ”

    संता सिंह:”बोलो बच्चो…गधा..गधे के पीछे गधा,गधे के पीछे मैँ…मेरे पीछे सारा देश”

    सभी बच्चे:”गधा..गधे के पीछे गधा,गधे के पीछे मैँ…मेरे पीछे सारा देश”

    “सुनकर दिमाग का दही होने लगा”…
    “चक्कर खा गया कि ये पढई हो रही या मज़ाक?”…
    “या!..ऐसे ही की जाती है पढाई?”
    “ऐसे सैकडों सवाल उसके दिमाग में गुटरगूं करने लगे”
    “जब रहा न गया तो वो गुस्से में दनदनाता हुआ सीधा…
    प्रिंसिपल साहब के कमरे में जा घुसा और एक ही साँस में सारा वाक्या सुनाया”

    “प्रिंसिपल साहब भी सुन कर हैरान-परेशान हो उठे”…
    “उन्होने संता को नीचा दिखाने की सोची और बे-इज़्ज़ती करने के खातिर उसे तुरंत ही बुलवा लिया”
    “संता के आते ही सीधा बिना रुके झाड पिलानी शुरू कर दी”…
    “तुमने मज़ाक बना रखा है स्कूल का..वगैरा..वगैरा”…
    संता”ऐसी कोई बात नहीं है जी”…
    “आप गल्त सोच रहे हैँ”…
    ” मैँ तो बच्चों को पढा ही रहा था”…

    “हुह!…ऐसे ‘गधा-गधा’कर के होती है पढाई?”
    “वाह!…क्या स्टाईल हमारे ‘संता’का….वाह”

    Reply
  141. MD Sohail khan

    निचली मंजिल का घर

    हम लोग कई महीनों से मकान बदलने का कार्यक्रम बना रहे थे पर मकान मिल ही नहीं रहा था। तभी खबर मिली कि यमुनापार एक नई कॉलोनी बनी है मयूर विहार, जहाँ आसानी से मकान मिल रहे हैं। एक रोज हम उस कॉलोनी में गए। प्रोपर्टी डीलर से मिले तो उसने हमें कई मकान दिखाए। कुछ चौथी मंजिल पर, कुछ तीसरी, कुछ दूसरी, कुछ पहली और कुछ निचली मंजिल पर।
    मकान देखकर आने के बाद हम कई दिनों तक यही सोचते रहे कि हमें कौन-सी मंजिल वाला मकान लेना चाहिए। पापा का कहना था कि चौथी मंजिल का। पर मम्मी ने कहा, ‘‘नहीं, वहाँ तक चढ़ने-उतरने में ही दम खुश्क हो जाएगा। फिर बच्चे गिर पड़े तो चोट अलग लगेगी। ऐसा करते हैं, पहली मंजिल का मकान ले लेते हैं, न ज्यादा चढ़ना पड़ेगा, न बच्चे सड़क पर डोलेंगे।’’ पर हमें यह कतई पसंद नहीं था क्योंकि वहाँ खेलने की जगह ही नहीं थी। सो हमने जिद की कि हम तो सबसे निचली मंजिल में रहेंगे। मम्मी-पापा को हमारी जिद के आगे झुकना पड़ा।
    एक सप्ताह की मेहनत के बाद हमने अपना नया घर अच्छी तरह सजा लिया और उसमें जाकर रहने लगे।
    अभी वहाँ रहते हमें दो ही दिन हुए थे कि किसी ने हमारा दरवाजा खटखटाया। जैसे ही दरवाजा खोला एक महिला भीतर आईं और मम्मी से बोलीं, ‘‘बहन जी नमस्ते। मैं आपके ऊपर वाले फ्लैट में रहती हूँ हमारी बेबी ने कंघी ऊपर से आपके लॉन में गिरा दी है, जरा उठा दीजिए।’’ मम्मी ने कंघी उठाकर दे दी। उसके बाद कभी उनकी बेबी, तो कभी दूसरी मंजिल वाली की बेबी, तो कभी तीसरी, तो कभी चौथी मंजिल वाली की बेबी कोई न कोई चीज गिरा देती। ऊपर वाली आंटियाँ वहीं से चिल्लाकर मुझे आवाज देतीं और कहतीं, ‘‘भूमिका बेटी, जरा हमारी फलाँ चीज उठाकर तो दे जाना।’’ और मुझे जाना पड़ता।
    एक दिन एक साहब आए और बोले, ‘‘क्यों जी, चोपड़ा साहब ऊपर ही रहते हैं ?’’ पापा चूँकि किसी को जानते नहीं थे सो उन्होंने कह दिया, ‘‘पता नहीं।’’ वह साहब चले गए।
    थोड़ी देर बाद फिर किसी ने घंटी बजाई। पापा चूँकि उस दिन घर में ही थे, उन्होंने दरवाजा खोला। सोचा कोई मेहमान आया होगा। पर सामने एक भिखारी खड़ा था। उसे दस पैसे देकर किसी तरह टाला और दरवाजा बंद किया। तभी ताड़-ताड़-ताड़ दरवाजा पीटने की आवाज आई। पापा को बहुत गुस्सा आया कि अजीब बदतमीज आदमी है जो घंटी न बजाकर दरवाजा पीट रहा है।

    जब दरवाजा खोला तो देखा वहाँ तो कोई नहीं है। हाँ, दरवाजे पर कई अखबार जरूर पड़े थे। पापा हैरान। इतने अखबार ! हम तो केवल दो अखबार मँगवाते हैं। तभी उनकी समझ में आ गया कि जरूर अखबार वाला जल्दी में सबके अखबार हमारे ही दरवाजे पर फेंक गया है।
    मेरी फिर परेड हुई। पहली मंजिल से चौथी मंजिल तक के दरवाजे खटखटा कर उन्हें अखबार पहुँचाना पड़ा। अभी मैं नीचे पहुँची ही थी कि फिर किसी ने घंटी बजाई। पापा ने दरवाजा खोला तो सामने एक सज्जन खड़े थे।
    वह बोले, ‘‘नमस्ते जी, मैं इत्थे त्वाडे पड़ोस मैं रेंदा हूँ। सानू ये दस्सो इत्थे कच्चा दूध मिल्दा ए ?’’
    पापा ने कहा, ‘‘नहीं।’’
    ‘‘होर जी मेहरी नौकर वगैरा ?’’
    पापा ने कहा, ‘‘पता नहीं।’’
    वे बोले, ‘‘अजी पता तो त्यानू जरूर होगा, तुसी पुराने वाशिंदे हो। खैर, कोई गल नईं, मैनूं कोई छेती लोड़ नई हैगी, जैदो त्वानूं कोई दिख जाये साडे घर भेज देना। ये कारड रख छोड़ो, इसदे विच साडा नाम होर एडरस छप्पा ए।’’ उनके जाते ही पापा सिर पकड़कर बैठ गए। तभी दरवाजा खुला देख वही सज्जन एक और आदमी के साथ आ गए जो सुबह सवेरे चोपड़ा साहब को पूछते आए थे। वे आते ही बोले, ‘‘नमस्कार जैन साहब, मैं आपका पड़ोसी हूँ, थर्ड फ्लोर पर रहता हूँ। आपसे परिचय नहीं था न, सो आज हमारे मेहमान को बहुत परेशान होना पड़ा। खैर, अब याद रखना जी। मैं चोपड़ा हूँ, थर्ड फ्लोर पर रहता हूँ, कोई आकर पूछे तो बता देना। अच्छा नमस्ते, फिर मिलेंगे।’’
    पापा का पारा सातवें आसमान पर पहुँच गया। वे बेचारे अभी सुबह की चाय तक नहीं पी सके थे। उन्होंने झट से दरवाजा बंद किया और फिर गुमसुम बैठ गए। तभी फिर घंटी बजी।

    जैसे ही दरवाजा खोला, एक सज्जन और उनकी पत्नी भीतर आ गए। आते ही बोले, ‘‘माफ करना भाई साहब, हम दूसरी मंजिल वाले सक्सेना साहब से मिलने आए थे, पर वे तो हैं नहीं, उनके बच्चे के लिए यह मिठाई का डिब्बा लाए थे। आप उन्हें दे देना। और कहना वर्मा जी आए थे, अच्छा भाई साहब, चलें पहले ही बहुत देर हो गई है।’’
    जैसे ही वे बाहर जाने के लिए उठे, मैं दरवाजा बंद करने के लिए उनके पीछे-पीछे चल दी। मुझे रोकते हुए पापा बोले, ‘‘रहने दे भूमिका। फिर कोई आएगा तो फिर खोलना पड़ेगा।’’
    तभी पोस्टमेन आया और बोला, ‘‘क्यों जी, सक्सेना साहब कहाँ गए ?’’
    पापा को गुस्सा तो आ ही रहा था, उन्होंने कहा, ‘‘मुझे नहीं मालूम मुझसे कहकर नहीं गए।’’
    पोस्टमेन बोला, ‘‘साहब उनका तार है, जब वह आएं तो उन्हें पोस्ट ऑफिस भेज देना।’’ और वह

    Reply
  142. Taansh saxena

    Must read
    me and chipku girl

    Ladki : – Hello Dear
    .
    Me :- Haan ji (aa gayi maa kiaankh pakaane)
    Ladki :- kya kar rahe ho..??
    .
    Me : kuch nahi (pakode tal raha hoon )
    .
    Ladki : – bataao na..?
    .
    Me :- kuch nahin dear ( aadhi raat ko kya karte
    hain..! )
    .
    Ladki : neend nahin aa rahi thi socha chalo call kar
    loon
    .
    Me — achha kiya (kamini kal Office ke late
    karwaa ke rahegi )
    .
    Ladki : – hello koi gaana sunao naa.. bore ho rahi
    hoon
    .
    Me: –nahin yaar (mujhe radio staion samajh
    rakha hai kya aur 12 baje k baad toh radio
    channel bhi band ho jaate hain )
    .
    Ladki :– plz sunao na….
    .
    Me :– kal pakka ( uff iski toh aisi ki taisi )
    .
    Ladki :- naa mujhe aaj hi sunna hai.. if u luv me
    den u will sing for me
    .
    Me : time kya ho raha hai .?? dear (yeh
    padosiyon ko bhi jagwa ke hi maanegi )
    .
    Ladki : -12:30
    .
    Me : – aur kal mere Office mein bahut kaam hai
    .
    Ladki: -tumne toh bola tha ki tum Office ka kaam
    minto mein karr lete ho
    .
    Me :- haan (agar nahin bolta toh teri bakwaas
    kaun sunta)
    .
    Ladki – sunao naa plzz koi romantic sa gaana
    .
    Me : par gaane k baad phone rakh degi ( fans
    gye beta toh jhelna toh padega hi)
    .
    Ladki :- kyun kisi aur ki call ka wait kar rahe ho
    kya..??
    .
    Me : nahin darling (ye lo.. saali ne shak karna
    bhi start kar diya)
    .
    Ladki: fir kyun bol rahe ho.. rakhne ko, khao meri
    kasam ki kisi ki call nahin aayegi..
    .
    Me: teri kasam (itni raat ko toh aadmi wrong
    number bhi nahin lagata)
    .
    Ladki : – chalo ab sunao
    .
    Me: theek hai (beta pyar kiya hai toh jhelna toh
    padega hi..ban ja
    aadhi raat ko.. Himesh Reshamiya )
    Ladki : yeh waala gaao– adayein bhi hai
    muhabbat bhi hai nazaakat bhi hai mere
    mehboob mein .
    .
    Me :- yeh mujhe nahin aata (kamini tareef
    sunegi apni )
    .
    Ladki : toh koi dusra suna do…
    .
    Me :- Wait.. sochne de (kya gaaun ki aaj ke baad
    mere
    muh se gaana sunne ka naamtak naa le )
    .
    Ladki : Gaao na…
    .
    Me sings —-
    .

    phulo ka taroon ka sabka kehna hai..
    ek hazaaron mein meri behna hai..
    saari umar hamein sang rehna hai..!!
    (Le aaj ke baad naam nahin legi gaane ka…ishki
    toh maa ki aankh)
    .
    Ladki -yeh kyun gaaya..??
    .
    Me : mera favorite song hai (samajhdaar k liye
    ishara hi kaafi hai kamini )
    .
    Ladki – hmmmm mujhe neend aa rahi hai.. bye….
    .
    Me :- arey kahaan jaa rahi ho..suno toh.. tum
    nahin sunaaogi kya..?? (mission complete)
    .
    Ladki :– bye.. baad mein.. good night..take Care
    jaanu
    .
    Me : take care jaan ( jaan Le gayi kamini ..jaanu
    jaanu bol ke.. o terri.. Yeh toh 2 baj gaye..ab
    sounga kab aur Jagunga kab)..

    Reply
  143. Uttam Jayswal

    Sir: Uttam and vijay kabadi kel rahe the . Uttam 3 khiladi ko out keya sir: yes , vijay out hokar aya. Sir: no , Uttam 4 khiladi ko out keya. Sir : very good. Vaha per 1 Chacha khade the. Vo bat su na rahe the unke magjama three words ” yes”,no” and “very good ” yad the . Bus stop pe Chacha the or 1 Bolaya mera chapal dekhi Chacha bola yes,to bolo kay 6e ? No Chacha ne thapad mari .Chacha bole very good.

    Reply
  144. Jass choudhary

    Me padne me kmjor tha or meri madam muje roj dantti thi or ik din me class me late aya or meri madam ne muje class ke bahar khada kar diya or us ke baad madam ne muje class me bulaya or kahne lagi tum bade hokar kya karoge to mene kha shadi to vo boli bavkuph mera matlab he ki apne mammi papa ke liye kya karoge to mene kha bahu launga to madam boli mera matlab he ki tumhara jindgi me kya maksad he to mene kha hum do hamare do to madam ne mere ik jor ka danda mara or mujhe class k bahar nikal diya

    Reply
  145. pushplata dawande

    kal raat ek sadhi mai gai
    waha jaise hi dj par yah gana baja
    jisko dance nahi karna vo jakar apani bhais charay
    jydatar pati apni patni ko kahna khilane lai gay

    Reply
  146. pushplata dawande

    sadhi ka fullform
    s-sitting ktham
    h-himmat ktham
    a-aajadi ktham
    d-dimag khrab
    i-imthan suru

    Reply
  147. pushplata dawande

    ladaka ek ladaki ke sath ghar aya

    maa ne kaha yah kown hai

    ladaka- yah meri dherm patni hai

    maa- kab se chal raha tha tum dono ke beach yeh sab

    ladaka-pata nahi=yeh mere bagal me park me bathi thi
    kisi kaintajar kar rahi thi
    ,bajarng dal valo ne hamari sadhi karwa di

    Reply
  148. Patti mahajan

    पति ने बीवी से कहा

    मेरे कुछ रिश्तेदार आ रहैं है कुछ बना लो

    बीवी ने फटाफट???
    मुहँ बना लिया
    ??????

    Reply
  149. Parth mahajan

    पति: क्या बना रही हो खाने में?

    पत्नी: आलू की सब्ज़ी बना रही हूँ… पर पता नहीं ये आलू पक ही नही रहे…

    .
    .
    .
    .
    पति: थोड़ी देर आलू से बातें करके देखो…
    ???????????

    Reply
  150. yash patidar

    Ek din, mein dilli pahuncha, Station pe ek coolie se bahar jane ka rasta pooncha, Coolie ne kaha bahar jaake poocho. Maine khud hi rasta doondh liya,Bahar jaake taxiwale se pooncha,”bhai saab Aagre ka kitna loge?” Jawab mila, “bechna nahi hai..” Taxi chhod, maine bus pakad li, conductor se pooncha, “ji.. kya mein cigarette pi sakta hoon?” Wo gurrra kar bola,”hargiz nahi, yaha cigarette pina mana hai” Maine kaha, “par wo janab to pi rahe hai!” Phir se gurrrraya,”usne mujhse pooncha nahi hai”Aagre pahucha, hotel gaya. Manager se kaha, “mujhe room chahiye, satve manzil pe” Manager ne kaha, “rahaneke liye ya koodne ke liye?” Room pahucha, waiter se kaha, “ek paani ka gilas milega.” Usne jawab diya,”nahi sahab, yaha to saare kanch ke milte hai.”Hotel se nikla dost ke ghar jaane ke liye, Raste me ek sahab se pooncha,”janab, ye sadak kaha ko jaati hai?” Janab hans kar bole, “peechle bees saal se dekh rahan hoon, yahi padi hai….” Dost ke ghar pahucha, to mujhe dekhte hi chownk pada Usne poocha, “dilli kaise aana hua?” Ab tak to mujhe bhi aadat pad gayi thi, to maine bhi jawab diya,”Train se..”Meri aaobhagat karne ke liye dost ne apni biwi se kaha,”areeee sunti ho… mera dost pehli baar ghar aaya hai, uuse kuch taja taja khilao..” Sunte hi bhabhiji ne ghar ki sari khidkiya aur darwaje khol diye. Kaha, “taji hawa kha lijiye.”Dost ne phir se badi pyar se biwi se kaha, “areeee sunti ho…inhe jara apna chalis saal purana aachar to dikhana.” Bhabiji ek balti me rakha aachar le aayi, Maine bhi apnapan dikhate hue bhabiji se kaha,”bhabhiji, aachar sirf dikhayengi, chakhayengi nahi….?” Bhabiji ne taak jawab diya, “yuhi agar sab ko chakhati to aachar chalis saal puranakaise hota..?”Thodi der baad dekha, bhabiji apne pote ko soola rahi thi, Saath me lori bhi ga rahi thi, “diploma so ja, diplomaso ja.” Lori soon mein hairan hua aur dost se poocha, “yaar ye diploma kya hai?” Dost ne jawab diya, “mere pote ka naam, Beti bambai gayi thi, diplomalene ke liye aur saath mein ise le aayi, isiliye hamne iska naam diploma rakh diya.”Phir maine pooncha, “aajkal tumhari beti kya kar rahi hai?” Dost ne jawab diya, “bambai gayi hai, degree lene keliye….”
    written by
    yash patidar G
    7354388913

    Reply
  151. pushplata dawande

    16-25 saal ki ladiki =
    football ki tarha hoti hai
    1 ke piche 22 log
    26-35 saal ki ladiki=
    cricket ball ki tarha hoti hai
    1 ke haat atti hai baki sab tali bajati hai
    36-45 saal ki ladiki =
    tennis ball ki taraha hoti hai
    ek kahata hai tu rakh aur dusara kahata hai tu rakh
    45saal ke baad=
    golf baal ki tarha hoti hai
    jitni door jai utni achi lagti hai

    Reply
  152. Gautam patel

    ??????????

    शिक्षक कक्षा मे विवाहव्यवस्था पर बोल रहे थे ।

    शिक्षक : पप्पु तुम कैसी पत्नी चाहोगे?

    पप्पु : मुझे चाँद जैसी पत्नी चाहीए।

    शिक्षक : वाह ।
    क्या चुनाव है…..
    तो तुम्हे चाँद जैसी शांत और शितल पत्नी चाहीए।

    पप्पु : नही, नही…

    शिक्षक : ओह,
    तो तुम्हे गोरी और गोलमटोल पत्नी चाहीए?

    पप्पु : नही, नही…

    शिक्षक : ओह,
    तो तुम्हे चाँद जैसी सफेद और सुंदर पत्नी चाहीए?

    पप्पु : नही, नही…
    मुझे वो एकदम चाँद जैसी चाहीए।
    सिर्फ वो रात को आए और सुबह चली जाए।

    शिक्षक बेहोश।
    ?????????

    Reply
  153. pushplata dawande

    ek gawn ka adami tusuru apne beta ko school me bharti karwa raha tha
    tusuru headmaster ke kamre me jata hai
    tusuru=ram-ram master ji
    masterji=ram-ram,yaha keasi aye
    tusuru=apne bete ka naam likha ne aye ho
    masterji=tor becche ka ka nam hai
    tusuru=khusuru
    masterji=tor laika kitene umr ka hai
    tusuru=wo to na janu masterji
    masterji=aere wo kab paida hoa
    tusuru=wo tem to dher barish hot rahi
    masterji=are kon din ,kon tarik ko hoa rha
    tusuru=wo to raat mai paida hoa tha
    masterji=gusse mai are ‘yea tho bata do kown se saal main paida hoa tha
    tusuru=are;ham tho garib aadmi hai masterji hamar ghar mai kaha saal-wall kaha ki dahri hai ja to kathdi main paida howt ho

    Reply
  154. pushplata dawande

    CELL

    1.BIOLOGIC KE TEACHER=CELL MATLAB BLOAD TISEAUS HOTE HAIN
    2.PHICIGS KE TEACHER=CELL MATALAB BEETRY
    3.ICONOMICS KE TEACHERS=CELL MATALAB BICRI
    4.HISTORY KE TEACHER=CELL MATLAB JILL
    5.ENGLISH KR TEACHER=CELL MATLAB MOBILE

    ASLI TEACHER PATNI=CELL MATLAB DICOUNT

    Reply
    1. manoj upadhyay

      all the best

      Reply
  155. prabhakar nowgire

    dance to pagal karte hai tum ya pagal ho

    Reply
  156. SATYAMKUMARSHARMA

    Very Funny Short Stories

    We all like very funny short stories, irrespective of our age and education level. Those stories are interesting as well as entertaining. For all these reasons, we take time to read those stories. There are innumerable people around the world who spend certain part of every day for reading the funny stories. This is the best way to enliven the child in us. Many psychologists have suggested that every one should read books in order to improve our thinking capacity. Reading short stories is such a move to sharpen our thinking skills. So, never hesitate to take up the opportunity to read short stories. Go to library and borrow story books. The best move is to maintain your own library of books. This will comfort us by giving the books to us the moment we need them.

    Reply
  157. Tanya

    One time taarak said to Anjali that I wish to be fat but what I’ll do . Anjali said that who has stopped you . He said you only . She said “What” ? He says that you always give me diet fruit or krele ka juice . Anjali says you are wright.?????

    Reply
  158. pushplata dawande

    lalu yadav naha rahe the
    rabai- e ka ji ,balava
    ke saate- saate saimpu
    kanhawa par kahe laga rahe hain
    ekdam pagle hain ka
    lalu- tu pagal ,tora baap pagal , tora pura khandaan pagal
    dekhthi nahi hai saimpu par ka likha hai
    HAIR AND SHOLDER

    Reply
  159. pushplata dawande

    LALU-sasura, murkh aadmi ki bibi bahoot sundar hoti hain
    RABDI-aapke paas hamere tarif ke sivay kono kaam nahi hain

    Reply
  160. pushplata dawande

    lalu ne rabdi swi love you kaha aur gir pade
    phir uthe , i love you kaha aur phir gir pade
    rabdi e ka hain
    lalu dekthi nahi hai sasuri
    I’am falling in love

    Reply
  161. pushplata dawande

    rajanikant ur bho kaddam ki mulakat ho jati hai
    rajaniikant mere gaav mai laight nahi thi
    main agar batti jalakaruski roshni main padtha tha

    bho kadam hamere gav mainbhi bijili nahi thi aur hamere pas ar batti bhi nhi thi phir bhi padetha tha
    rajanikant kise
    bho kadam mera ek dost tha prakas use pas betha kar padetha tha
    ek din prakas nahi aya ,thobi main padha tha
    rajni kant keise
    bho kadam gav main ek joyti naam ki ladiki rahati thi ,use pas betha kar padetha tha

    Reply
  162. rahul

    i am rahul i have lots of funny story

    Reply
  163. rahul

    सर मेरा नाम राहुल है |
    मेरा टीवी मै आने का बचपन से सपना है|
    मै आपको एक फनी कहानी सुना रहा हुँ|
    इस कहानी का नाम गडबड घोटाला है|
    दो भाई होते है,बडा भाई गडबड छोटा भाई घोटाला | बडा भाई हमेशा गडबड करता रहता है और छोटा भाई हमेशा घोटाला,पडोसी उन दोनो से हमेशा तगं रहते है!
    हर जगह जहाँ भी वो दोनो जाते तो गडबड घोटाला कर देते…..
    कहानी मे गाना भी है..
    सर मेरा mobile no-8750428253
    सर मेरा whatsapp no-8750428253

    Reply
  164. darshan kadam

    akae salami 4 perd ti 1perd hide ta 1perdami bachyny bola ke im go toilit techarni bola ke a hinde perda hi esalea hinde my bolu oi kahakar gaya 2perd eigalish ta ous perd my kaha ke techar my toilat gauo techarni kaha ke a eigaliesh perda hi egilishmy bathcaro egalishmy bekahakar gay 3perd mhcas ta egilishamy bola techarni kaha ke mhcas perd hi mhcas mi bolo kaha esalya 1234 mtu aya barbar 4perd song perd ta hsani bola ke 1234 mutu ayya barbar a sogn perd hi song my bolo jeya dadaka dadaka mutu tapaka

    Reply
  165. wasim khan

    3class mi tha.jab se soch leya ke muja army join karna ha prrr mare health Sab boys sa kam te.Or mi prna mi 0 tha.is karan mara friend be mara majak ourta tha.ekkk din soch leya ke mi parai karna laguga.prrr nahi krrr patai tha Sab friend ka baja sa pass ho jata tha .ab mi 9 pass ho gaya 59 parsent sa is leya mi 10 pass karna ke soch raha hu …….10 pass karna ka bad mi ncc ka form bhrr duga..nahi to mi raning se army join krrr luga .Or Bharat ma ki raksa karuuga….jai hind…..

    Reply
  166. Lokesh tiwari

    Ek din main atm gya. kuch paise nikalne the..kafi jaldi main tha soch rha tha kahin ATM bhara hua na mile vrna gadbad ho jayegi dekha to atm khali tha…lekin maine kafi try kiya atm paise hi nhi de rha tha…..muje bdi baichaini ho rhi thi paise kyu nhi de rha hai.jb tak 2 ladkiyan aai mujse pucha atm paise nhi de rha hai..maine kaha nhi de rha yr..ladki fir bhi nhi maani unhone try kiya…..atm ne fat se de diye ladkiyan meri tar f dekh rhi rhi jhuth bolte ho…maine kaha nhi yar sach main pichale 2.ghante se try kr rha hun lekin muje paise nhi diye is atm ne ….maine.un ladkiyon ke samne hi bola shala inshan to inshan aaj kal atm bhi ladkiyon pe line maar rhe hai…

    Reply
  167. ankita khemka

    ek baar mein aur maami park mein walk kr rahe the tabhi ek bandar mere paro mein chad gaya mammi chilane lagi aur bandar ko hata kr bhagne lagi aur itni tez bhagi ki bhuchal aa gya park ke sabhi log mammi dekhne lage aur hasne lage phir mammi 1 hafte tak park nahi aayi

    Reply
  168. Lokesh tiwari

    Ek

    Reply
  169. Lokesh tiwari

    Ek baar muje lousemotion ho gye the..bhagte bhagte haalat khrab ho.gai thi….maine kaha bssss.ab or bardast nhi krte sakte…ek myaan main do lalvaar nhi rh sakti hai..is duniya main ek hii milkha singh kafi hai..bhagne ke liye do do nhi ho sakte ..thodi der ke liye or milkha bn na pda..kyuki maidical jana to pdega dawai lene ke liye yar..bhagta bhagta dwai bale ke pas pahucha..maine us se sirf itna hi bola tha…bhaiya koi aisi dwai dedo jis se milkha singh se common man bn….jayen usne pucha kyu aisa kya hua hai..aapko bhai ssab maine kaha lousemotion ho gye hai…wo itna hssssssa ki dwa dena to dur ki bat usne hssi ke maare apni dukan tahas nahas kr di…

    Reply
  170. Lokesh tiwari

    My contact number what app nm
    ..8470896940…

    Reply
  171. DEBJIT ROY

    প্রেমিকা নতুন আইডি খুলছে , ফেসবুকে ঢুকেই তার প্রেমিককে নক করলো । –
    প্রেমিকা : এই তুমি কি কর জানু ? প্রেমিক : কিছু না

    প্রেমিকা : এই শোনো ১টা স্টাটাস দিবো ?
    প্রেমিক : দিয়ে ফেলো

    প্রেমিকা : আচ্ছা ফেসবুকে স্টাটাস দেওয়ার সময় দেখি সবাই ফিলিংস দেয় ॥॥ ওটা কি ভাবে দেয় ??
    প্রেমিক : মরে যাও ।

    প্রেমিকা : মানে ?
    প্রেমিক : আরে মরে যাও ।

    প্রেমিকা : কি বলতে চাচ্ছ তুমি । প্রেমিক : আরে বাবা মরে গেলে সব পাবা ।

    প্রেমিকা : তুই যে ১টা গাধা এটা আমি আগে যানতাম না

    প্রেমিক : অবাক হয়ে সে কি গো জানু , আমি আবার কি করলাম ??? প্রেমিকা : তুই এতোক্ষন কি বলছিলি আমাকে ?

    প্রেমিক : কেনো মরে যেতে বলছি । মরে গেলে সব পাবা ।

    প্রেমিকা : তুই ১টা গাধা বলদ তোর সাথে রিলেসন করায় আমার ভুল হয়েছে । আমারে মরতে বলিস কেন আমি বুঝিনা ? –
    আমি মরলে তুই নতুন প্রেমিকা পাবি তাই না ??

    প্রেমিক : আরে বোকা
    তোমারে মরতে কই নাই তো
    more
    _
    অপশনে যাইতে কইছি ।
    ওই অপশনে গেলেই ফিলিংস দিয়ে স্টাটাস দিতে পারবা ।

    প্রেমিকা : সরি জান ,
    আমি মনে করছি তুমি আমাকে মরতে কইছো

    Reply
  172. Priyanshu Dugar

    Ek din agra me aadmi rehta tha.usko ek nokrj mili toh uske malik ne kaha ki yeh lo rupey or money order kar aao. Toh usko ghyal aaya ki tar se rupey kaise chale jate hai.Voh bank paunccha or tar babu se puccha ki tar se rupey kaise chale jate hai toh tar babh ne kaha ki vhale jate hai.uuse agle din yaad aaya ki meri begam ne bola tha ki chameli ka tail bejna toh usne socha ki tail bhi tar se bhej deta joo jaldi pauncchegaa.Phir voh bank paunccha toh shek ji ne bola ki tar babu yeh tail bhi tar se bhej do toh tar babu ne kaha ki konsa pagal aadmi aagaya hai. Tar babu ne bola ki aare befkuf rupey jate hai tar se til or koi samaan nahi or bole ki daffa ho ja yase.Tab thori der baj chitthi aayi ki chameli ke tail ki shihi nahi paunchi kya karan hai jaldi batau.

    Reply
  173. kamlesh soni

    एक बूढ़ा आदमी डॉक्टर के पास गया और बोला, ‘डॉक्टर
    साहब मेरी बीवी को ढंग से सुनाई नहीं देता। कोई दवा
    बताइए न।’ डॉक्टर ने सलाह दी कि वह पहले पतालगाए
    कि उसकी पत्नी की यह समस्या कितनी गंभीर है।
    डॉक्टर ने कहा, ‘आप अपनी पत्नी से एक निश्चित दूरी
    पर खड़े होइए और उनसे कोई सवाल कीजिए। फिर धीरे-धीरे करीब आते जाइए और सवाल दोहराते जाइए, जब
    तक कि वह जवाब न दे। फिर देखिए कितने पास आने
    पर उसे सवाल सुनाई देता है और वह कब आपको जवाब देती
    है।’ बूढ़ा आदमी खुश होता है कि आखिरकार उसे कोई
    उपाय तो मिला। वह घर पहुंचा तो देखा उसकी बीवी
    खाना बना रही है। उसने 15 फीट दूर खड़े होकर बीवी से पूछा, ‘अरेसुनो, आज खाने में क्या बना रही हो?’ उसे कोई
    जवाब नहीं मिला। फिर उसने यही बात 10 फीट दूर
    खड़े होकर पूछी। फिर भी कोई जवाब नहीं आया।
    आखिरकार उसने बीवी से 5 फीट दूर खड़े होकर पूछा,
    ‘अरे खाने में क्या बना रही हो?’ बीवी ने गुस्से में जवाब
    दिया, ‘मैं चौथी बार बता रही हूं, खिचड़ी!’

    Reply
  174. Ayush Lakhan

    Teacher – achcha bachoo , bataao fruit khon-khon se hote hai?
    Dimpi – banana , apple , mango……
    Teacher – aur batao …..?
    Dimpi – aur sab badiya , sab uparwale ki krapa hai …… aap bataiya kya halchal hai ?

    Reply
  175. harjiram

    जेटा लाल ने सपने मे दया के लिये बीवी आरती गाई
    “बीवी सेवा सच्ची सेवा”
    ” जो कर वो खाये मेवा”
    “जो बीवी के पॉव दबाऐ”
    ” बस वैकुट परम पद पवै ”
    ” जो बीवी की कर गुलमी ”
    ” ना आये कोई पेरशनी ”
    ” जो बीवी की धोवे साडी ”
    ” उसकी किस्मत जग से न्यारी ”
    ” भूत पिशाच निकट नहि आवै ”
    ” जो बीवी के कीर्तन गावै ”
    ” हाथ जोड कर कीजिये ”
    ” पत्नी जी का ध्यान ”
    ” घर मे खुशहाली रहे ”
    ” हो जाये कल्यान ”
    ” घरवाली को नमन करे”
    ” माला लेकर हाथ ”
    ” मुख से पत्नी वन्दना ”
    ” बोलो मेरे साथा ”
    ” जय पत्नी देवी कल्यानी”
    ” माया तेरी ना पहचानी ”
    ” तुझसे सारे देवता हारे ”
    ” डर से थर- थर कपे सारे ”
    ” नहि चरित् तुम्हारा कोई जाना ”
    ” नर क्या ईशवर ना पहचाना ”
    ” अपरम्पार तुम्हारी माया ”
    ” लगो देखने मे तुम गुडिया ”
    ” हो लेकिन आफत की पुडिया ”
    ” हे मेरे बच्चो की माता ”
    ” तुम हो मेरी भाग्यविधाता ”
    ” हे बेलन हथियार तुम्हारा ”
    ” जब चाहा सिर पर दे मारा ”
    ” ऐसी तेरी निकले बोली ”
    ” जैसे हो बन्दुक की गोली ”
    ” हम तुमसे डरते हे ऐसे ”
    ” चोर पुलिस से डरता जैसे ”
    ” ऐसा है आंतक तुम्हारा ”
    ” बिच्छ जैसा डंक तुम्हारा ”
    ” करे पति जो पत्नी सेवा ”
    ” मिलती उसको सच्ची मेवा ”
    ” पत्नी-वन्दना जो कोई गावे ”
    ” जीवन मे कोई कष्ट ना पावै”
    ” पंभुदीशित कर पत्नी वन्दना ”
    ” पत्नी का कर लो अभिनन्दन ”
    ” वन्दहु पत्नी मुख कमल ”
    ” गुण-अवगुण की खान ”
    ” मिले नहि बिन आप के ”
    ” पतियो को सम्हान ”
    बोलो पत्नीयो रानी की जय….

    Reply
  176. Ansh jaiswal

    Dilli Ki Kahani…. Ha haahhahahah.
    Please friends,, ise achhi tarah se padhna… completely padhna..

    Ek din, mein dilli pahuncha, Station pe ek coolie se bahar jane ka rasta pooncha, Coolie ne kaha bahar jaake poocho. Maine khud hi rasta doondh liya,
    Bahar jaake taxiwale se pooncha, “bhai saab Aagre ka kitna loge?” Jawab mila, “bechna nahi hai..” Taxi chhod, maine bus pakad li, conductor se pooncha, “ji.. kya mein cigarette pi sakta hoon?” Wo gurrra kar bola, “hargiz nahi, yaha cigarette pina mana hai” Maine kaha, “par wo janab to pi rahe hai!” Phir se gurrrraya, “usne mujhse pooncha nahi hai”
    Aagre pahucha, hotel gaya. Manager se kaha, “mujhe room chahiye, satve manzil pe” Manager ne kaha, “rahane ke liye ya koodne ke liye?” Room pahucha, waiter se kaha, “ek paani ka gilas milega.” Usne jawab diya, “nahi sahab, yaha to saare kanch ke milte hai.”
    Hotel se nikla dost ke ghar jaane ke liye, Raste me ek sahab se pooncha, “janab, ye sadak kaha ko jaati hai?” Janab hans kar bole, “peechle bees saal se dekh rahan hoon, yahi padi hai….” Dost ke ghar pahucha, to mujhe dekhte hi chownk pada Usne poocha, “dilli kaise aana hua?” Ab tak to mujhe bhi aadat pad gayi thi, to maine bhi jawab diya,”Train se..”
    Meri aaobhagat karne ke liye dost ne apni biwi se kaha,”areeee sunti ho… mera dost pehli baar ghar aaya hai, uuse kuch taja taja khilao..” Sunte hi bhabhiji ne ghar ki sari khidkiya aur darwaje khol diye. Kaha, “taji hawa kha lijiye.”
    Dost ne phir se badi pyar se biwi se kaha, “areeee sunti ho…inhe jara apna chalis saal purana aachar to dikhana.” Bhabiji ek balti me rakha aachar le aayi, Maine bhi apnapan dikhate hue bhabiji se kaha, “bhabhiji, aachar sirf dikhayengi, chakhayengi nahi….?” Bhabiji ne taak jawab diya, “yuhi agar sab ko chakhati to aachar chalis saal purana kaise hota..?”
    Thodi der baad dekha, bhabiji apne pote ko soola rahi thi, Saath me lori bhi ga rahi thi, “diploma so ja, diploma so ja.” Lori soon mein hairan hua aur dost se poocha, “yaar ye diploma kya hai?” Dost ne jawab diya, “mere pote ka naam, Beti bambai gayi thi, diploma lene ke liye aur saath mein ise le aayi, isiliye hamne iska naam diploma rakh diya.”
    Phir maine pooncha, “aajkal tumhari beti kya kar rahi hai?” Dost ne jawab diya, “bambai gayi hai, degree lene ke liye….”
    hahahahhah.. so friends.. kaisi lagi.. Dilli ki kahani ?? dont forget to reply me at either

    Reply
  177. Aditya punajbi

    Hi my story is too short and i gues funny for me
    Once when i was going to my classes there was lots of trafic so reached my classes late when i reached my sir asked why dint u reached at 4 o clock i asked why what happend at 4 o clock then he said nothing stupid why are u late i was just gonna burst out laughing but i controlled my self

    Reply
  178. Umesh Prajapat

    Doctor- Bimar Chandu Miya Se Kesi Tabiyat Hai Miya?
    Chandu- Miya Thik Hoti To Aap Ke Pass Kahai Aate…
    Doctor- Mene Jo Dwa Di Thi Vo Khali Thi!
    Chandu Miya- Kesi Bate Karte Hai, Dwa To Botal Me Bhari Hui Thi Khali Kahai Hogi?
    Doctor- Ama, Mera Matlab Hai Dwa Ko Pi Liya Tha?
    Chandu- Miya kya Kha Rhe Hai Aapne Hi To Di Thi Dwa Pili Nhi Lal Thi!
    Doctor- Abe Mera Matlab Hai Dwa Ko Pi Liya Tha?
    Chandu Miya- Doctor Sahb Apna ilaj Krao Dwa Ko Nhi Muje Piliya Tha
    Doctor- Sir Pitate Hue Tu Muje Pagl Kar Dega
    Chandu- Miya Meri Najr Me Paglo Ka Ek Umda Doctor Hai
    Doctor- Mere Bap Yaha Se Jane Ka Kya Lega
    Chandu- Bas 500 Rupye De Do
    Doctor- Ye Le 700 or Dfa Ho Ja
    Chandu- Doctor Sahab Agli Bar Kab Dikhane Aana Hai
    Doctor- Koi Jarurt Nhi, Tu Bilkul Thik Hai
    Chandu- Mai Thik Hu To Fir Tumne Muje Palng Par Litakar Shart Utarwakar Sans Lene Ko Kyo Kaha
    Doctor- Me Tumhara Checap Kar Raha Tha
    Chandu-Jab Me Thik Hu To Tum Mera Checap Kyo Kar Rahe The
    Doctor- Galti Ho Gai Thi Mere Bap
    Chandu-Galti Nhi, Tum Meri ijet Lutana Chahte The
    Doctor- Ye Kya Kah Rahe Ho Yar Bahr or Marij Bethe Hai Mera Pura Staf Hai Meri ijat Ka Swal Hai
    Chandu- Phale Ye Batao Ki Meri ijat Kyo Lutana Chahte The
    Doctor- Yar Me Bhala Tumhari ijat Kyo Lutunga?
    Chandu- To Fir Kiski ijat Lutana Hai Tumhe?
    Doctor- Yar Muh Band Karne Ka Kya Lega
    Chandu- Ek Kam Karo 1000 Rupaye De Do
    Doctor- Ye Le or Dfa Ho Ja Yha Se
    Chandu- Doctor Sahab Agli Bar Kab Aana Hai?
    Doctor-Kabhi Mat Aana Mere Sasur Me Ye Clinic Bnd Karke Aaj Hi Haridwar Tirtha Karne Ja Rha Hu
    Tere Karna is Duniya Se Mera Dil Utha Gya Hai

    Reply
  179. Raaz mehra

    Raaz
    ‪#‎MY‬ ßràtHDaY Special..
    भारत वो महान देश है जहां ट्रैफिक की लाल लाईट से ज्यादा
    ,,
    लोग काली बिल्ली को देख कर रुक जाते है
    ???

    Reply
  180. MUQEETH TURABI

    TEEN DOST DESERT MAIN BHATAK REHE THE TABHI UNE EK JINNE KA CHIRAGH MILA UNHU NE JAB ISSE GHASA TO EK BARDA SA JINNE BAHAR AAYA
    JINNE NE HAR DOST KO EK EK WISH DE
    PEHELE DOST NE KAHA ” MUJHE YAHAAN SE NIKALO AUR GHAR BHEJ DO
    JINNE NE KARDIA
    DUSRE DOST NE BHI YAHI WISH MANGE
    JINNE NE YEH WISH BHI PURI KI
    JAP TEESRE DOST KI BARI AAI
    TO USNE KAHA ” MAI YAHAAN AKELA HOON MERE DONO DOSTOON KO WAPIS LAO ”
    JINNE NE YEH BHI KARDITA
    AAUR WO JINNE APNA CHIRAG LEKAR KAHIN DOOO R CHALAGAYA !!!!!

    .

    Reply
  181. Vikas Kumar

    Bahut Purani Baat Hai Jab Main 10th Standard me tha Ek bar main aur mera Cousin cycle par ja rahe the. Vo cycle chla rha tha aur me aage baitha tha.HAmara Cycle thoda khasta(Purani) halat me tha. Thodi Der tak to acha chalta raha but jaise humne Ek Gali(street) me enter kiya tabi achanak Cycle ka agla tyre nikal gya. aur hum niche gir gaye. But aisa hua ke na to mujhe koi chot(injury) aai aur na hi mre cousin ko. Samne se jab koi aadmi hamare cycle ka tyre utha ke la rha tha to hum boht hasse. Sabi Log puch rhe the ke aap ko koi chot(injury) to nahi aai but me aur mera cousin apni hi masti me hasse ja rhe the. hamme dekh kar sabhi log bhi hasne lage. Cycle ko hum BIKE par lekr gye mere cousin ne addha cycle pkra aur mane uska tyre. IT WAS A GREAT FUNNY MOMENT AAJ BHI JAB VO KISSA YAAD ATA HAI TO BOHT HASI ATI HAI.

    Reply
  182. pooja singh

    ek bar ke bat hai meri teacher ke ghar new sofa aaya jub teacher beathi to sofe me ghus ghai fir teacher ne sofa thike kar diya or chali ghai apna kam karne fir unki mother ke sath bhi essa hua fir jub unke father betha to sofa ander ghus ghaia unke father very angery huey or cillaye oyyyyyyyyyyy teriiiiiiiiiiiiiiiiiii

    Reply
  183. pooja singh

    teacher childern se puch ti hai= sun ke round kon lgata hai – children= earth – teacher = or earth ke chakker kon lagata hai – children = nerendr modi ji

    Reply
  184. MD Sohail khan

    इंसान को सबसे प्यारा क्या होता है?

    हमेशा की तरह उस दिन भी अकबर व बीरबल बातचीत करने में मशगूल थे। अचानक बादशाह ने पूछा, ‘‘बीरबल! किसी भी इंसान को सबसे प्यारा क्या होता है ?’’

    बीरबल ने तुरन्त उत्तर दिया, ‘‘हुजूर! हर प्राणी को अपनी जान से प्यारा और कुछ नहीं होता।’’

    ‘‘क्या तुम इसे सिद्ध कर सकते हो ?’’ बादशाह ने पूछा।

    ‘‘हाँ, क्यों नहीं।’’ बीरबल का जवाब था।

    कुछ दिन बाद बीरबल एक बंदर का बच्चा लेकर आया, बच्चे की माँ भी साथ थी।

    महल में बगीचे के ठीक बीचोबीच एक तालाब बना था। बीरबल ने नौकरों से कहा कि तालाब खाली कर दें। उसने यह भी कहा कि खाली तालाब के बीच में एक लंबा बाँस गाड़ दें। इसके बाद बीरबल ने उस बंदर के बच्चे और उसकी माँ को खाली तालाब में छुड़वा दिया और नौकरों को आदेश दिया कि तालाब को फिर से पानी से धीरे-धीरे भर दें।

    बादशाह यह सबकुछ बेहद ध्यानपूर्वक देख रहे थे। जैसे-जैसे पानी का स्तर बढ़ रहा था, वैसे-वैसे बंदरिया अपने बच्चे को सीने से चिपकाए तालाब के बीच गड़े बांस पर ऊपर चढ़ती जा रही थी।

    अब पानी का स्तर इतना बढ़ चुका था कि बंदरिया की कमर तक आ पहुंचा था। बंदरिया ने अपने बच्चे को अपने हाथों में पकड़ा और बांस के सबसे ऊपरी सिरे पर जा बैठी।

    यह देखकर बादशाह बोले, ‘‘देखा बीरबल! बंदरिया अपने बच्चे की जान बचाने के लिए कितनी मेहनत कर रही है। इसका मतलब तो यह हुआ कि बच्चे की जान इसे अपनी जान से कहीं ज्यादा प्यारी है।’’

    इस बीच पानी का स्तर बढ़कर बंदरिया की गर्दन तक आ पहुँचा था। यहां तक कि उसके नाक-कान में भी पानी भरने लगा था। लगता था कि कुछ ही देर में वह पानी में डूब जाएगी।

    कुछ देर बंदरिया ने इधर-उधर ताका और उसके बाद बच्चे पर पैर रखकर खड़ी हो गई। अब वह अपने बच्चे के ऊपर खड़ी पानी से बाहर आने की चेष्टा कर रही थी।

    ‘‘अब देखिए जहांपनाह।’’ बीरबल बोला, ‘‘यह बंदरिया अपनी जान बचाने के लिए अपने बच्चे तक की परवाह नहीं कर रही। बच्चे को अपने पैरों तले डालकर अपनी जान बचाने की कोशिश में है। क्या यह सब सिद्ध नहीं करता कि अपनी जान सबसे ज्यादा प्यारी होती है।’’

    बादशाह से कोई जवाब देते न बन पड़ा। वह बोले, ‘‘बीरबल! तुम ठीक ही कहते थे, जीवन सभी को प्यारा होता है।

    बीरबल मुस्कराया और नौकरों को निर्देश दिया कि पानी का स्तर कम कर दें ताकि बंदरिया और उसके बच्चे को बाहर निकाला जा सके।

    Reply
  185. MD Sohail khan

    बीवी से कौन नहीं डरता?

    एक बार बादशाह अकबर, बीरबल के साथ शाम को बाग मे टहल रहे थे। कुछ राजकाज की बातें करते-करते अकबर ने अचानक बीरबल से पूछा, “सुना है कि तुम अपनी बीवी से बहुत डरते हो।”

    बीरबल को अकबर से इस तरह के सवाल का अंदेशा न था। उसने संभलते हुए कहा, “जी, मैं ही क्या, हमारी सल्तनत का हर आदमी अपनी बीवी से डरता है।”

    महाराज अकबर ने बीरबल की तरफ टेढ़ी नज़र से देखते हुए कहा, ”तुम अपनी कमज़ोरी छुपाने के लिए सब लोगों पर इल्ज़ाम नहीं लगा सकते।”

    बीरबल ने कहा, “बादशाह सलामत, मैं जो भी कह रहा हूं, वह एक कड़वी सच्चाई है। कोई मुंह से बोले या न बोले लेकिन हर इन्सान अपनी बीवी से डरता ज़रूर है।”

    अकबर ने कहा, “क्या तुम यह साबित कर सकते हो?” बीरबल ने झट से हामी भर दी। अपनी आदत के अनुसार महाराज अकबर ने यह हुक्म भी दे डाला कि तुम अगर सात दिन में यह साबित नहीं कर पाए, तो तुम्हारा सिर कलम कर दिया जाएगा।”

    बीरबल ने चुनौती को स्वीकार करते हुए शहर के सभी पुरुषों की एक जनसभा बुलाने का आदेश जारी करवा दिया।

    एक निश्चित तिथि को जब शहर के सब मर्द वहां आ पहुंचे, तो अकबर ने बीरबल को उसका वादा याद करवाया। बीरबल ने भी पूरे विश्वास के साथ अपना काम शुरू कर दिया। बीरबल ने एक-एक कर सभी से पूछना शुरू किया कि क्या वे अपनी बीवी से डरते हैं। अधिकतर लोगों ने कबूल कर लिया कि वे किसी न किसी कारणवश अपनी-अपनी बीवी से डरते हैं। बीरबल ने उन सब लोगों को एक-एक अंडा पकड़ा कर एक तरफ बैठने को कहा।

    यह सब देख अकबर भी परेशान हो गए कि यह सब क्या हो रहा है। हमारी फौज का एक से एक बहादुर योद्धा भी अपनी बीवी के सामने भीगी बिल्ली नज़र आ रहा है। बहुत देर बाद एक हट्टे-कट्टे नौजवान की बारी आई और उससे भी यही सवाल पूछा गया। यह नौजवान बाकियों से अलग था।

    उसने कहा, “बीवी से कैसा डरना, बीवी तो पैर की जूती है। उसकी क्या हिम्मत कि मेरे सामने कुछ भी बोल जाए।” अकबर को थोड़ी तस्सली हुई कि चलो, कोई तो निकला, जिसने इतनी बात कहने की हिम्मत की। जब हर तरीके से उसे परख लिया गया, तो बादशाह ने उसे एक काला घोड़ा इनाम में दिया।

    घोड़ा लेकर वह नौजवान खुशी-खुशी अपने घर पहुंचा तो उसकी पत्नी ने हैरान होते हुए पूछा, ” सुबह तो पैदल धक्के खाते हुए गए थे, अब यह घोड़ा किसका उठा लाए हो!” नौजवान ने सारा किस्सा पत्नी को बताया। पत्नी ने कहा, “तुम्हें तो सारी उम्र अक्ल नहीं आ सकती। अगर इतना बड़ा इनाम जीता ही था तो दरबार से सफेद घोड़ा तो लेकर आते- यह क्या काले रंग का घोड़ा उठा कर ले आए हो!” नौजवान ने कहा, “बेगम, तुम चिंता मत करो, आज बादशाह सलामत मुझसे बहुत खुश हैं। यह लो, मैं अभी घोड़ा बदल कर लाता हूं।”

    कुछ देर बाद ही वह काला घोडा लेकर वापस दरबार मे पहुंचा और बीरबल से प्रार्थना करने लगा, “मेरी बीवी को यह काला घोड़ा पसंद नहीं है। आप कृपया मुझे सफेद घोड़ा दे दें।” बीरबल ने कहा, “यह घोड़ा उधर बांध दो और यह अंडा लेकर घर जाओ।” बादशाह ने पूछा कि आखिर माजरा क्या है? बीरबल ने कहा कि यह नौजवान पहले तो कह रहा था कि अपनी बीवी से नहीं डरता लेकिन जब बीवी ने काले घोड़े की जगह सफेद घोड़ा लाने को कहा तो वह उसको ना नहीं कर सका।”

    बीरबल ने आगे बताया, “जहांपनाह, इसकी बीवी बहुत सुन्दर है। उसको यह क्या, कोई भी आदमी किसी काम के लिए ना नहीं कह सकता।”

    अकबर ने बीरबल से कहा, “अच्छा, अगर ऐसी बात है तो हम भी ऐसी खूबसूरत औरत को देखना चाहेंगे। तुम किसी तरह से यह इंतज़ाम करवाओ।” बीरबल ने कहा, “जहांपनाह, यह तो कोई मुश्किल काम नहीं है। मैं कल ही उस औरत से आपकी मुलाकात…।” बीरबल की बात को बीच मे ही काटते हुए अकबर बोले, “लेकिन एक बात का ध्यान रहे कि हमारी बेगम साहिबा को इस बात की भनक भी नही लगे।” बीरबल ने मुस्कुराते हुए कहा, “जहांपनाह, अब आप अकेले ही बचे थे। अब आप भी यह अंडा पकड़ें।”

    बादशाह अकबर के पास अब झेंपने के अलावा कोई चारा नहीं था। वह मान गए कि हर मर्द अपनी बीवी से डरता है।

    Reply
  186. MD Sohail khan

    बीरबल के तीन सवाल

    महाराजा अकबर, बीरबल की हाज़िरजवाबी के बडे कायल थे। उनकी इस बात से दरबार के अन्य मंत्री मन ही मन बहुत जलते थे। उनमें से एक मंत्री, जो महामंत्री का पद पाने का लोभी था, ने मन

    Reply
  187. MD Sohail khan

    बीरबल के तीन सवाल

    महाराजा अकबर, बीरबल की हाज़िरजवाबी के बडे कायल थे। उनकी इस बात से दरबार के अन्य मंत्री मन ही मन बहुत जलते थे। उनमें से एक मंत्री, जो महामंत्री का पद पाने का लोभी था, ने मन ही मन एक योजना बनायी। उसे मालूम था कि जब तक बीरबल दरबार में मुख्य सलाहकार के रूप में है उसकी यह इच्छा कभी पूरी नहीं हो सकती।

    एक दिन दरबार में अकबर ने बीरबल की हाज़िरजवाबी की बहुत प्रशंसा की। यह सब सुनकर उस मंत्री को बहुत गुस्सा आया। उसने महाराज से कहा कि यदि बीरबल मेरे तीन सवालों का उत्तर सही-सही दे देता है तो मैं उसकी बुद्धिमता को स्वीकार कर लुंगा और यदि नहीं तो इससे यह सिद्ध होता है की वह महाराज का चापलूस है। अकबर को मालूम था कि बीरबल उसके सवालों का जवाब जरूर दे देगा इसलिये उन्होंने उस मंत्री की बात स्वीकार कर ली।

    उस मंत्री के तीन सवाल थे –

    १। आकाश में कितने तारे हैं?
    २। धरती का केन्द्र कहाँ है?
    ३। सारे संसार में कितने स्त्री और कितने पुरूष हैं?

    अकबर ने फौरन बीरबल से इन सवालों के जवाब देने के लिये कहा। और शर्त रखी कि यदि वह इनका उत्तर नहीं जानता है तो मुख्य सलाहकार का पद छोडने के लिये तैयार रहे।

    बीरबल ने कहा, “तो सुनिये महाराज”।

    पहला सवाल – बीरबल ने एक भेड मँगवायी। और कहा जितने बाल इस भेड के शरीर पर हैं आकाश में उतने ही तारे हैं। मेरे दोस्त, गिनकर तस्सली कर लो, बीरबल ने मंत्री की तरफ मुस्कुराते हुए कहा।

    दूसरा सवाल – बीरबल ने ज़मीन पर कुछ लकीरें खिंची और कुछ हिसाब लगाया। फिर एक लोहे की छड मँगवायी गयी और उसे एक जगह गाड दिया और बीरबल ने महाराज से कहा, “महाराज बिल्कुल इसी जगह धरती का केन्द्र है, चाहे तो आप स्व्यं जाँच लें”। महाराज बोले ठीक है अब तीसरे सवाल के बारे में कहो।

    अब महाराज तीसरे सवाल का जवाब बडा मुश्किल है। क्योंकि इस दुनीया में कुछ लोग ऐसे हैं जो ना तो स्त्री की श्रेणी में आते हैं और ना ही पुरूषों की श्रेणी। उनमें से कुछ लोग तो हमारे दरबार में भी उपस्थित हैं जैसे कि ये मंत्री जी। महाराज यदि आप इनको मौत के घाट उतरवा दें तो मैं स्त्री-पुरूष की सही सही संख्या बता सकता हूँ। अब मंत्री जी सवालों का जवाब छोडकर थर-थर काँपने लगे और महाराज से बोले,”महाराज बस-बस मुझे मेरे सवालों का जवाब मिल गया। मैं बीरबल की बुद्धिमानी को मान गया हूँ”।

    महाराज हमेशा की तरह बीरबल की तरफ पीठ करके हँसने लगे और इसी बीच वह मंत्री दरबार से खिसक लिया।

    Reply
  188. MD Sohail khan

    देने वाला जब भी देता, देता छप्पर फाड़ के..!

    एक गावं में रामू नाम का एक किसान रहता था। वह बहुत ही ईमानदार और भोला-भाला था। यह सदा ही दूसरों की सहायता करने के लिए तैयार रहता था।
    एक बार की

    Reply
  189. MD Sohail khan

    “ये इंडिया है मेरी जान”

    “और सुनाएँ शर्मा जी कैसे मिज़ाज़ हैँ आपके?”…

    “बढिया!…धान की नवीं-नकोर फसल के माफिक एकदम फस्स क्लास”…

    “गुड…वैरी गुड”…..

    “लेकिन आपके चेहरे के हाव-भाव….आवाज़ की ‘टोन’…’पिच’…’रिदम और ‘लय’ तो कुछ और ही धुन गुनगुना रही है”…

    “क्या?”…

    “यही कि आपके बैण्ड बजे हुए चौखटे से आपकी पर्सनल लाईफ कुछ डिस्टर्ब्ड सी दिखती प्रतीत हो रही है”…

    “नहीं!..ऐसी तो कोई बात नहीं है”…

    “अपनी लाईफ तो एकदम से चकाचक और टनाटन चल रही है”…

    “अच्छा?”….

    “शायद!..मेरे ही दिल का वहम हो फिर ये”….

    “अरे यार!…एक आज्ञाकारी…सुन्दर…सुशील एवं सुघड़ अर्धांगिनी के साथ बोनस स्वरूप चार गठीली…सुरीली और नखरीली सालियाँ मिल जाएँ…(वो भी बड़ी नहीं…छोटी)…तो और क्या चाहिए मेरे जैसे निहायत ही ठरकी और बेशर्म इनसान को?”…

    “ही…ही….ही…”…

    “जी!…ये तो है”…

    “एक आम आदमी को भरपेट थाली के साथ-साथ कुँवारी साली मिल जाए तो कहना ही क्या”…

    “अजी!…आप आम कहाँ?..इतनी सालियों के होते हुए तो आप अपने आप ही खासम-खास हो गए ना बिलकुल ‘अभिनव बिन्द्रा’ की तरह?”…

    “अच्छा?…तो क्या उसकी भी चार सालियाँ हैँ?”….

    “अजी कहाँ?…मेरे ख्याल से तो वो अभी तक ‘अनमैरिड’ है और अपने ‘कुँवारेपन’ को खूब तसल्ली से एंजॉय कर रहा है”…

    “ऊपरवाला उसकी वर्जिनिटी को नेक व सलामत रखे”…

    “अजी!…आज के युग में भी भला कोई इस उम्र तक वर्जिन होगा?”…

    “अगर ऐसी बात है तो खुदा उसके कुँवारेपन को खूब बरकत दे”…

    “ये क्या?..आपका खिला हुआ चेहरा अचानक मुर्झा कैसे गया?”..

    “कहाँ?…कहीं भी तो नहीं”…

    “दाई से भला कहीं पेट छुपाया जाता है शर्मा जी”…

    “तनेजा साहब…कसम से…कुछ भी तो नहीं हुआ है”…

    “लेकिन आपकी ये बुझी-बुझी सी…दबी-दबी सी आवाज़ तो कुछ और ही कहानी कह रही है”…

    “अब क्या बताऊँ तनेजा जी?”…

    “मैँ तो अपने इस ब्लॉग की वजह से दुखी हो परेशान हो गया हूँ”…

    “क्यों?…क्या हुआ है आपके ब्लॉग को?”….

    “ब्लॉग को क्या होना है?”…

    “जो होना है …सो तो मुझे ही होना है”…

    “कभी बैठे-बिठाए ‘बी.पी’ हाई हो जाता है तो कभी ‘कोलैस्ट्राल’ लो”…

    “अरे भई!…साफ-साफ बताओ ना कि…बात क्या है?”….

    “यहाँ मैँ दिन-रात कीबोर्ड पे उँगलियाँ चटखाते-चटखाते अधमरा हो मर लेता हूँ और लोग हैँ कि मेरे ब्लॉग की तरफ आना तो दूर की बात उसकी तरह रुख कर के मूतना भी पसन्द नहीं करते”…

    “ओह”…

    “खैर!..मेरी छोड़ें और अपनी सुनाएँ”…

    “कैसा चल रहा है आपका वो ‘हँसने-हँसाने’ वाला ब्लाग?”…

    “कुछ कमाई-धमाई भी हो रही है उससे या नहीं?”…

    “बस!…कुछ खास नहीं लेकिन…फिर भी तसल्ली है”…

    “किस बात की?”…

    “यही कि नया खिलाड़ी होने के नाते ज़्यादा उम्मीदें नहीं पाली हैँ मैँने”…

    “तो?”…

    “इसलिए कम पा कर भी मैँ बहुत खुश हूँ”..

    “वर्ना!…बेकार में…बेफाल्तू में आपकी तरह दुखी हो परेशान हुए रहता”….

    “हा….हा…हा…”…

    “एक बात बताएँगे तनेजा जी आप?”…

    “जी ज़रूर”…

    “कब तक आप अपनी कमियों को इस ‘नया खिलाड़ी’ होने के तमगे के नीचे ढांपते रहेंगे?”…

    “क्या मतलब?”…

    “नया ही तो हूँ”….

    “अभी कुल जमा डेढ साल ही तो हुआ है मुझे लिखते हुए”…

    “जी नहीं!…मैँने खुद आपकी आत्मकथा को सौ बार पढा है”…

    “पूरे दो साल या इस से भी कुछ ज़्यादा का समय हो चुका है आपको अपने ब्लॉग पे लिखते-लिखते”…

    “हाँ!…याद आया”…

    “वो ‘पूनम’ की सर्द चाँदनी रात थी जब ‘अमृतसर’ के ‘जलियाँवाला बाग’ में टहलते-टहलते आपने दिव्य ज्ञान को प्राप्त किया था”….

    “वहीं ही तो अचानक ‘लेखकीय शुक्राणुयों’ ने आपके दिमाग के भीतर अपना डेरा जमाया था ना?”..

    “आपको गलतफहमी हुई है जनाब!….वो ‘पूनम’ की नहीं बल्कि ‘अमावस’ की रात थी और वो ‘अमृतसर’ का ‘जलियाँवाला बाग’ नहीं बल्कि दिल्ली के ‘शालीमार बाग’ इलाके का ‘मोटेवाला’ बाग था”…

    “एक ही बात है…रात तो थी ही ना?”…

    “जी!…लेकिन वो तो ‘चाँदनी’ नहीं बल्कि….

    “ओ.के बाबा!…अमावस की रात भी थी और घनघोर अन्धेरा भी था”…

    “अब खुश?”…

    “जी”…

    “तभी से आप में एक लेखक बनने की धुन सवार हो गई थी”….

    “सिर्फ लेखक नहीं!…बल्कि एक सफल और कामयाब लेखक”…

    “जी!…और बस तभी से आप हर समय अपने साथ कॉपी-पैंसिल रखने लगे थे”…

    “क्यों संध्या के समय सुबह-सुबह झूठ बोलते हो यार?”…

    “संध्या का समय…और वो भी सुबह-सुबह?”…

    “बात कुछ हज़म नहीं हुई”…

    “अरे!…मेरा मतलब था कि…क्यों संध्या के समय सफेद झूठ बोलते हो?”…

    “ओह!..तो फिर ऐसे कहें ना”…

    “मेरा खुदा…मेरा गवाह है कि मैँने आजतक कभी लिखने-लिखाने के लिए पैंसिल का इस्तेमाल नहीं किया”…

    “सच में?”…

    “जी!…सोलह ऑने”…

    “ओह!…सॉर

    Reply
  190. MD Sohail khan

    इस प्यार को क्या नाम दूँ

    “दिल की ये आरज़ू थी कोई दिलरुबा मिले”…
    “आखिर तुम्हें आना है…ज़रा देर लगेगी”…

    आज ये सब गाने मुझे बेमानी से लग रहे थे क्योंकि सब कुछ धीरे-धीरे सैटल जो होता जा रहा था|आज भी पुराने दिन याद करता हूँ तो सिहर-सिहर उठता हूँ|उफ!..वो दिन भी क्या दिन थे जब मैँ दिन रात इसी सपने में खोया रहता कि… काश..सपने में ही दिख जाए वो मुझे किसी तरह|असलियत में तो नामुमकिन सी बात जो लगती थी|उसका चेहरा हमेशा मेरी आँखो के आगे छाया रहता|ज़मीन पर रह कर चाँद को पाने की चाहत थी मेरी|पहली बार बचपन में बडे पर्दे पर ही तो देखा था उसे|

    “सामने ये कौन आया…दिल में हुई हलचल…
    देख के बस एक ही झलक…हो गए हम पागल”..

    उफ!..क्या कयामत बरपायी थी उसने अपने पहले ही जलवे में..जिसे देखो…वही शैंटी फ्लैट हुए जा रहा था तो अपुन किस खेत की गाजर-मूली थे?थे तो हम भी हाड़-माँस के मामुली इंसान ही ना?…सो!..कैसे बचे रह्ते उसके मोह पाश से? बस अब तो ना दिन को चैन था और ना रही रातों की नींद|जानता था कि मेरी किस्मत में नहीं है वो..कोई बड़ा आदमी ही ले जाएगा उसे

    “मेरी किस्मत में तू नहीं शायद…क्यूँ तेरा इंतज़ार करता हूँ…
    मैँ तुझे कल भी प्यार करता था…मैँ तुझे अब भी प्यार करता हूँ”

    लोगों से सुना है…किताबों में लिखा है…सबने यही कहा है कि…
    “नखरे बहुत हैँ स्साली के….खर्चीली इतनी कि पूछो मत…किसी आँडू-बाँडू को पुट्ठे पे हाथ तक नहीं धरने देती है”
    अब ये बावले क्या जानें कि नखरे तो होने ही हैं….टॉप की आईटम जो ठहरी…अब हर किसी ऐरी-गैरी…नत्थू-खैरी के बस का कहाँ कि वो लटके-झटके दिखाती फिरे? नखरे दिखाना भी अदा होती है …स्टाईल होता है|
    अब तो खुमार ऐसा छाया दिल ओ दिमाग पे कि लाख उतारे ना उतरा|सबने बहुत समझाया कि…
    “रहने दे…तेरे बस कि बात नहीं…ऊँचे लोगों की ऊँची पसन्द भला गरीब के घर में एडजस्ट कैसे करेगी?”
    “बड़े ही प्यार से…जतन से रखूँगा…सब नखरे सह-सह लूंगा|रूठ गयी तो …प्यार से…मान मनौवल से मना लूंगा”
    अब किसी और को बसाने की इस दिल ए नादाँ में चाहत ना रही|बचपन से ही दिल में यही इकलौती इच्छा समाई हुई थी कि…एक ना एक दिन उसे लाना ज़रूर है| जब जवान हुआ और थोड़ा-बहुत कमाना भी शुरू कर दिया तो कईओं ने घर आ-आ के खुद ही कहना शुरू कर दिया कि….
    “आप हमारी वाली ले जाएँ”
    “मैँ मन ही मन सोचता कि…
    “इनकी जूठन?…और..वो मैँ सम्भालूँ?”
    “हुंह!…ऐसी होने से तो न होना ही अच्छा है”…
    लेकिन कम कमाई होने की वजह से सिवाय चुप लगा के रहने के मेरे पास कोई चारा नहीं होता था|अफसोस भी तो इसी बात का था कि कोई फ्रैश पीस स्साली आ के ही राज़ी नहीं था मेरे पास| जो भी मिलती …जैसी भी मिलती …कोई ना कोई कमी साथ लिए ज़रूर होती|किसी का फिगर बेकार तो किसी के रंग रूप में दम वाली बात नज़र नहीं आती|कोई सूरत-शक्ल से बेकार तो कोई नैन-नक्श से कंडम| कोई ज़रूरत से ज़्यादा तगड़ी कि लाख संभाले ना संभले तो किसी का कमज़ोरी में कोई सानी नहीं|कोई मेकअप से लिपी-पुती…
    तो कोई बिना मेकअप के अपना कांति विहीन दीन चेहरा लिए नज़र आती|
    अपुन ने तो अपने सभी यार-दोस्तों से साफ-साफ कह दिया था कि..
    “लाएँगे तो एक्दम सॉलिड पीस ही लाएँगे वर्ना खाली हाथ बैठे रहेंगे|अब…ये बेकार की ‘*&ं%$#@’पीस अपने बस की बात नहीं”
    सुन जो रखा था बड़े-बुजुर्गों से कि…सब्र का फल मीठा होता है…तो सोचा कि क्यों ना सब्र करके भी देख लिया जाए?
    डायबिटीज़ हुई तो क्या हुआ?…थोड़ा-बहुत मीठा तो झेल ही लूँगा| और फिर इसमें आखिर हर्ज़ ही क्या है? क्या मालुम आने वाला कल सुनहरा ही हो?

    “हम होंगे कामयाब एक दिन…हो..हो…मन में है विश्वास…पूरा है विश्वास”

    “खैर!…हम सब्र पे सब्र करते रहे और वो ऊपर बैठा-बैठा हमारे सब्र का इम्तिहान लेता रहा|पहले तो ये बहाना था जनाब के पास कि मुंडा कमाता नहीं है|
    “अरे!…अब तो ठीकठाक कमाने भी लगा हूँ…अब क्या एतराज़ है आपको?”
    अब वैसे कहने को तो कई ठीक-ठाक काम चलाऊ अपने रस्ते में आती रही…टकराती रही लेकिन इस चक्कर में कि सिर्फ और सिर्फ सालिड मॉल पे ही हाथ डालना है….मैँ बेवाकूफ!..सबको एक लाइन से रिजैक्ट पे रिजैक्ट करता चला गया|यही सोच थी मेरी कि ऊपरवाला रहमदिल है…उसके घर देर है पर अन्धेर नहीं है|कोई ना कोई तो उसने मेरे लिए भी ज़रूर बनाई होगी|सुन जो रखा था कि…
    “जोड़ियाँ ऊपर..स्वर्ग में ही तय हो जाया करती हैं”
    तो चलो!…देख ही लेते हैँ कि कब जागती है अपनी रूठी हुई किस्मत? बस!…इसी चक्कर में उम्र बढती रही..बढती रही|अब तो पड़ोसियों तक ने भी टोकना शुरू कर दिया था कि…
    “अब मज़े नहीं लेगा तो क्या बुढापे में लेगा?…बाद में तेरे किसी काम ना आएगी…दूसरे ही मौज उड़ायेंगे|जब कब्र में पैर लटके होंगे तो ला के क्या धूप-बत्ती करेगा?”
    “अगर ढंग की एक न

    Reply
  191. monu

    ~1 मिनट लगेगा जरूर पढेँ ~

    अच्छा लगे तो Share करना न भूलेँ ।

    एक डॉक्टर को जैसे ही एक
    urgent सर्जरी के बारे में फोन करके बताया गया.
    वो जितना जल्दी वहाँ आ
    सकते थे आ गए.
    वो तुरंत हि कपडे बदल
    कर ऑपरेशन थिएटर की और बढे.
    डॉक्टर को वहाँ उस लड़के के पिता दिखाई दिए
    जिसका इलाज होना था.
    पिता डॉक्टर को देखते ही भड़क उठे,
    और चिल्लाने लगे.. “आखिर इतनी देर तक कहाँ थे आप?
    क्या आपको पता नहीं है की मेरे बच्चे की जिंदगी खतरे में है .
    क्या आपकी कोई जिम्मेदारी नहीं बनती..
    आप का कोई कर्तव्य है
    या नहीं ? ”
    डॉक्टर ने हलकी सी मुस्कराहट के साथ कहा- “मुझे माफ़
    कीजिये, मैं
    हॉस्पिटल में नहीं था.
    मुझे जैसे ही पता लगा,
    जितनी जल्दी हो सका मैं
    आ गया..
    अब आप शांत हो जाइए, गुस्से से कुछ नहीं होगा”
    ये सुनकर पिता का गुस्सा और चढ़ गया.
    भला अपने बेटे की इस नाजुक हालत में वो शांत कैसे रह सकते थे…
    उन्होंने कहा- “ऐसे समय में दूसरों
    को संयम रखने का कहना बहुत आसान है.
    आपको क्या पता की मेरे मन में क्या चल रहा है.. अगर
    आपका बेटा इस तरह मर रहा होता तो क्या आप
    इतनी देर करते..
    यदि आपका बेटा मर जाए
    अभी, तो आप शांत रहेगे?
    कहिये..”
    डॉक्टर ने स्थिति को भांपा और कहा- “किसी की मौत और
    जिंदगी ईश्वर
    के हाथ में है.
    हम केवल उसे बचाने का प्रयास कर सकते है.. आप ईश्वर से
    प्राथना कीजिये.. और मैं अन्दर जाकर ऑपरेशन करता हूँ…” ये
    कहकर डॉक्टर अंदर चले गए..
    करीब 3 घंटो तक ऑपरेशन चला..
    लड़के के पिता भी धीरज के साथ बाहर बैठे रहे..
    ऑपरेशन के बाद जैसे
    ही डाक्टर बाहर निकले..
    वे मुस्कुराते हुए, सीधे पिता के पास गए..
    और उन्हें कहा- “ईश्वर का बहुत ही आशीर्वाद है.
    आपका बेटा अब ठीक है.. अब आपको जो
    भी सवाल पूछना हो पीछे आ रही नर्स से पूछ लीजियेगा..
    ये कहकर वो जल्दी में चले गए..
    उनके बेटे की जान बच
    गयी इसके लिए वो बहुत खुश तो हुए..
    पर जैसे ही नर्स उनके पास आई.. वे बोले.. “ये कैसे डॉक्टर है..
    इन्हें किस बात का गुरुर है.. इनके पास हमारे लिए
    जरा भी समय नहीं है..”
    तब नर्स ने उन्हें बताया..
    कि ये वही डॉक्टर है जिसके
    बेटे के साथ आपके बेटे का एक्सीडेँट हो गया था…..
    उस दुर्घटना में इनके बेटे
    की मृत्यु हो गयी..
    और हमने जब उन्हें फोन किया गया..
    तो वे उसके क्रियाकर्म कर
    रहे थे…
    और सब कुछ जानते हुए भी वो यहाँ आए और आपके बेटे का इलाज
    किया…
    नर्स की बाते सुनकर बाप की आँखो मेँ खामोस आँसू
    बहने लगे ।
    Monu 8426909630

    Reply
  192. monu

    कहानी-इनसानियत

    एक डॉक्टर को जैसे ही एक
    urgent सर्जरी के बारे में फोन करके बताया गया.
    वो जितना जल्दी वहाँ आ
    सकते थे आ गए.
    वो तुरंत हि कपडे बदल
    कर ऑपरेशन थिएटर की और बढे.
    डॉक्टर को वहाँ उस लड़के के पिता दिखाई दिए
    जिसका इलाज होना था.
    पिता डॉक्टर को देखते ही भड़क उठे,
    और चिल्लाने लगे.. “आखिर इतनी देर तक कहाँ थे आप?
    क्या आपको पता नहीं है की मेरे बच्चे की जिंदगी खतरे में है .
    क्या आपकी कोई जिम्मेदारी नहीं बनती..
    आप का कोई कर्तव्य है
    या नहीं ? ”
    डॉक्टर ने हलकी सी मुस्कराहट के साथ कहा- “मुझे माफ़
    कीजिये, मैं
    हॉस्पिटल में नहीं था.
    मुझे जैसे ही पता लगा,
    जितनी जल्दी हो सका मैं
    आ गया..
    अब आप शांत हो जाइए, गुस्से से कुछ नहीं होगा”
    ये सुनकर पिता का गुस्सा और चढ़ गया.
    भला अपने बेटे की इस नाजुक हालत में वो शांत कैसे रह सकते थे…
    उन्होंने कहा- “ऐसे समय में दूसरों
    को संयम रखने का कहना बहुत आसान है.
    आपको क्या पता की मेरे मन में क्या चल रहा है.. अगर
    आपका बेटा इस तरह मर रहा होता तो क्या आप
    इतनी देर करते..
    यदि आपका बेटा मर जाए
    अभी, तो आप शांत रहेगे?
    कहिये..”
    डॉक्टर ने स्थिति को भांपा और कहा- “किसी की मौत और
    जिंदगी ईश्वर
    के हाथ में है.
    हम केवल उसे बचाने का प्रयास कर सकते है.. आप ईश्वर से
    प्राथना कीजिये.. और मैं अन्दर जाकर ऑपरेशन करता हूँ…” ये
    कहकर डॉक्टर अंदर चले गए..
    करीब 3 घंटो तक ऑपरेशन चला..
    लड़के के पिता भी धीरज के साथ बाहर बैठे रहे..
    ऑपरेशन के बाद जैसे
    ही डाक्टर बाहर निकले..
    वे मुस्कुराते हुए, सीधे पिता के पास गए..
    और उन्हें कहा- “ईश्वर का बहुत ही आशीर्वाद है.
    आपका बेटा अब ठीक है.. अब आपको जो
    भी सवाल पूछना हो पीछे आ रही नर्स से पूछ लीजियेगा..
    ये कहकर वो जल्दी में चले गए..
    उनके बेटे की जान बच
    गयी इसके लिए वो बहुत खुश तो हुए..
    पर जैसे ही नर्स उनके पास आई.. वे बोले.. “ये कैसे डॉक्टर है..
    इन्हें किस बात का गुरुर है.. इनके पास हमारे लिए
    जरा भी समय नहीं है..”
    तब नर्स ने उन्हें बताया..
    कि ये वही डॉक्टर है जिसके
    बेटे के साथ आपके बेटे का एक्सीडेँट हो गया था…..
    उस दुर्घटना में इनके बेटे
    की मृत्यु हो गयी..
    और हमने जब उन्हें फोन किया गया..
    तो वे उसके क्रियाकर्म कर
    रहे थे…
    और सब कुछ जानते हुए भी वो यहाँ आए और आपके बेटे का इलाज
    किया…
    नर्स की बाते सुनकर बाप की आँखो मेँ खामोस आँसू
    बहने लगे ।
    मित्रो ये होती है इन्सानियत monu 8426909630

    Reply
  193. monu

    कहानी- माँ

    एक गाँव में 10, साल
    का लड़का अपनी माँ के साथ
    रहता था।

    माँ ने सोचा कल मेरा बेटा मेले में
    जाएगा,
    उसके पास
    10 रुपए तो हो,
    ये सोचकर माँ ने खेतो में काम
    करके शाम तक पैसे ले
    आई।

    बेटा स्कूल से आकर
    बोला खाना खाकर
    जल्दी सो जाता हूँ, कल मेले में
    जाना है।

    सुबह माँ से बोला –
    मैं नहाने
    जाता हूँ,नाश्ता तैयार
    रखना,
    माँ ने रोटी बनाई,
    दूध
    अभी चूल्हे पर था..!

    माँ ने देखा बरतन पकडने के लिए
    कुछ नहीं है,
    उसने गर्म पतीला हाथ से
    उठा लिया,
    माँ का हाथ जल
    गया।

    बेटे ने गर्दन झुकाकर दूध
    रोटी खाई और मेले में
    चला गया।

    शाम को घर आया,तो माँ ने
    पूछा – मेले में क्या देखा,10
    रुपए
    का कुछ खाया कि नहीं..!!

    बेटा बोला –
    माँ आँखें बंद कर,तेरे लिए कुछ
    लाया हूँ।

    माँ ने आँखें बंद की,तो बेटे ने उसके
    हाथ में गर्म बरतन
    उठाने
    के
    लिए लाई सांडसी रख दी।

    अब
    माँ तेरे हाथ
    नहीं जलेंगे।

    माँ की आँखों से आँसू बहने लगे।

    दोस्तों,
    माँ के चरणों मे स्वर्ग है,
    कभी उसे दुखी मत करो monu 8426909630

    Reply
  194. IRFAN

    HAMARE PADOS ME EK GHAR HAI
    UN KE 3 BACHE HI
    EK KA NAM ( BASSE )
    DOSRE KA NAM ( MAILA ) OR
    TESRE KA NAM ( TUTA )
    EK DIN UN KE YAHA KUCH MEHMAN AYE THE UN HU NE MEHMANO SE KHA KE AYE HI TO KHANA KA KAR HE JAIYE MEHMANO NE KHA KEU NAHI TO UN HO NE APNE BACHE KO AWAZ DE KE (BASSE ) KHANA LE AAO WO LOG SUN KAR DARGE KE YE LOG HAME BASSE KHANA KELANE WALE HAI .
    MAHMANO NE KAHA NAHI HAME KHANA NAHI CHAHE YE SEREF PAANE CHAHE YE TO PADOS WALE ANTE NE APNE BACHE KO AWAZ DE KE ( MAILA ) PANE LAA TO MEHMAAN PHIR DAAR GAAE KE HAME MAILA PANE PELAYA JA RAHA HAI PHIR MAHMAANO NE KAHA KE AAB HAM LOG JAENGE TO PHIR PADOS WALE ANTE NE APNE BACHE KO AWAZ DE KE ( TUTA ) AUTO LAA TO MEHMAAN PHIR DAAR GAAE KE YE LOG HAME TUTE AUTO MEE BETHAEN GE PHIR MEHMAAN PAIDAL HE CALE GAE
    IS TARHA UN HO NE APNA ( KHANA )
    ( PANE ) OR ( AUTO KE PAISE BACAE )

    Reply
    1. Adnan baismail

      Best nice

      Reply
    2. Adnan baismail

      Funny kahani

      Reply
  195. पवित्र कुमार मोड़/राजेन्द्र कुमार मोड़ मन्दसौर मध्यप्रदेश

    एक छोटे बच्चे की स्टोरी:-
    माँ ने बाजार से 10 रुपए दे कर कुछ मंगवाया जब दुकानदार ने सामन देकर उससे पैसे मांगे तो जेब में 10 रुपए नही थे तभी दूसरा कोई अनजान व्यक्ति भी दूकान से कुछ सामन लेने आया जब उसने सुना 10 रुपए बच्चे के कही गिर गिए उसे नही मिले तो उन सज्जन ने 10 रुपए अपनी जेब से निकल कर पास में एक वरणी (सेव की)पर रख दिए और दुकानदार से बोले कही ले तो नही अब चुकी बच्चा हे वह तो उसने कह दिया नही ये तो नही है चुकी उनका नोट नया था और बच्चे का नोट शायद नया नही था उसने मन कर दिया चुकी उस सामन की अति आवयसकता थी तो सामान लाना जरुरी था चुकी वह बच्चा पुरे मार्किट में उस 10 रुपए को ढूढ़ने लगा दुकानदार को तो मज़ा लेना था सो बाद में उन सज्जन ने वो सामान ले कर अपने 10 रुपए से खरीद लिया और बच्चे को बाद में समझाया बेटा 10 रुपए की बात थी उसमे नया पुराना मायने नही रखता

    Reply
  196. Jayant Sood

    one day I was in sixth class .My exams were started and it was my second exam it was of punjabi and i think that it was of math and i learned for math exam and the same happens on my math exam i learn for punjabi. Then my parents told me that i should give my exams once more time but i did not give and i was failed then i gave my exams again and i was passed and then i understood that practice makes a man perfect.

    Reply
  197. RIYA SHAH

    A 15 year poor boy was staying in a small village with his brother. He and his small brother make different and beautiful Ganesh murti. They were expert in making Ganesh murti in the minimum days.There was a contest of best Ganesh murti in that village. It was a big contest and a number of murti makers have participated in that contest.This two boys read this news and participated in the contest The best murti maker would be awarded by rs 50,000 cash. They both practiced and made a wonderful murti. On the day of choosing the best ganpati murti by judges, those boys ganpati murti was not getting.The younger brother was not aware of this.The older brother went to his home to check that weather it was there or not. He got a CD. He played this CD on the tv. This CD told that it was stolen by someone to win the ganesh maker and if he try to tell the police his brother will be killed. He was worried because he had done a lot of hard work for making this murti. Then he searched for his younger brother, he was lost.Then he knew that he was kidnapped. At the time of announcing the price he called the name of that poor boy on the stage and gave him rs 50000 cash. He was shocked and told that i have not showed my murti then how u gave me the award ? The judge replied that this is your brother. The poor boy told that he was kidnapped. The judge told that when the kidnappers were kidnapping we saw them and took them to police, and we liked your murti very much so this is your award.

    Reply
  198. hemjit

    Ek bar ek funny family hoti ha bo ek nokar rakhti jo pagal hota hi ek bar Malik bimar ho jata ha hor malkin nokar ko doctor bulana bejti ha jasa ki apsub ko Pata ha ki nor pagel ha bo Malik ka Lia kafun bi LA at a hi ……

    Reply
  199. hemjit

    once time ago there lives a family keeps a sevent he is totally made family member one time explain sevent do work with brain he said OK one time family member gets sick then one of family member say call doctor he goes to call doctor as he reminds that he has to think with brain so he brings that cloth with is put on died person so…….there are 5 members in home mother father 2 girls one boy and sevent

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *